वैलनेस
स्टोर

बेबी प्‍लान कर रहीं हैं, तो अपने आहार में बढ़ा लेनी चाहिए जिंक की मात्रा, जानिए क्‍यों

Published on:15 February 2021, 18:02pm IST
बच्चे की योजना बनाते समय आपको अधिक जिंक की आवश्यकता होती है, खासकर तब जब आप कोरोनावायरस जैसी महामारी के समय में हों।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 79 Likes
जिंक आपकी प्रजनन क्षमता को बनाए रखने में मदद करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि गर्भ धारण करना आपके लिए मुश्किल हो रहा है, तो आपको अपने आहार में जिंक को ज़रूर शामिल करना चाहिए। कोरोनोवायरस महामारी ने निश्चित रूप से कई दंपतियों को बच्चा पैदा करने की योजना को रोकने के लिए मजबूर किया है। साथ ही, यह भी सामने आया कि जो लोग कोरोनोवायरस से पीड़ित थे, उन्हें प्रजनन समस्याओं का सामना करना पड़ा।

सौभाग्य से, एक खनिज है जो आपको इससे निपटने में मदद कर सकता है।

एक नए अध्ययन ने सुझाव दिया है कि जिंक की खुराक उन लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है, जो परिवार शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं। जिंक युवा अंडे और शुक्राणु कोशिकाओं में माइटोकॉन्ड्रियल क्षति को रोकने में मदद कर सकता है।

यह अध्ययन ‘रिप्रोडक्टिव साइंसेज’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ था। लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ने वाली महामारी ने भी पुरुषों और महिलाओं के बीच प्रजनन क्षमता को प्रभावित किया है। नए अध्ययन ने व्यक्तिगत प्रजनन क्षमता पर महामारी के दुष्प्रभाव का मुकाबला करने का एक तरीका खोजा है।

क्‍या कहता है अध्‍ययन

अध्ययन के अनुसार, जिंक इस वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने बताया कि जिंक वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा बढ़ा सकता है।

जिंक प्रजनन क्षमता को मजबूत बनाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
जिंक प्रजनन क्षमता को मजबूत बनाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

‘Potential Role of Zinc in the Covid-19 Disease Process and its Probable Impact on Reproduction’, शीर्षक से इसका अध्‍ययन किया गया। इसमें सीएसटी सेंटर फॉर ग्रोथ एंड डेवलपमेंट की पीएचडी, प्रसूति और स्त्री रोग के एसोसिएट प्रोफेसर, हुस्स अबू-सौद, ने कहा कि जिंक सिर्फ उन लोगों की ही सहायता नहीं करता है जो बेबी प्‍लान कर रहे हैं, बल्कि इसकी 50 mg मात्रा अन्‍य वयस्कों के लिए भी जररी है।

कोरोना काल में इम्युनिटी बढ़ाने और बीमारियों से बचने के लिए जिंक की नियमित खुराक बेहद फ़ायदेमंद साबित हो सकती है।

प्रजनन क्षमता बढ़ाने में है मददगार 

डॉ. अबू-सौद और सह-लेखक राम्या सेथुराम, प्रजनन एंडोक्रिनोलॉजी और बांझपन (Reproductive Endocrinology and Infertility fellow) और मेडिकल छात्र डेविड बाई ने कोरोनोवायरस के पैथोफिज़ियोलॉजी (pathophysiology) की समीक्षा की, विशेष रूप से प्रजनन के संबंध में।

उन्होंने पाया कि साइटोकिन और जिंक की कमी – अंडे और स्पर्म पर बुरा प्रभाव डाल सकती है। वायरस से संक्रमित होने पर सूजन, ऊतक क्षति और संभावित अंग विफलता का कारण बनता है।

साथ ही, प्रतिरक्षा प्रणाली का ओवररिएक्शन – अपरिपक्व में माइटोकॉन्ड्रियल क्षति और प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों के संचय का कारण बन सकता है।

जिंक अंडे और शुक्राणु के नुकसान के जोखिम को कम करता है

यह एक एंटीऑक्सिडेंट और एंटी- इन्फ्लेमेटरी के रूप में काम करता है। इसलिए, यह अंडे और शुक्राणु कोशिकाओं में क्षति को रोक सकता है। जो शरीर में वायरस के संक्रमण के परिणामस्वरूप होता है। डॉ अबू सौद ने कहा, जिंक के उपयोग से भ्रूण की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है और संभवतः कुछ गर्भावस्था जटिलताओ में कमी आ सकती है।

"<yoastmark

उन्होंने यह भी कहा कि प्रतिरक्षा बढ़ाने और वायरल रोग प्रक्रिया से लड़ने में जिंक सामान्य आबादी के लिए फ़ायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद तत्व ऑक्सीडेटिव सेल क्षति कम करते हैं।

क्‍या है जिंक के अन्‍य फायदे

शोधकर्ताओं ने कहा, “एक बार व्यापक ऑक्सीडेटिव सेल क्षति होने के बाद जिंक उतनी मदद नहीं कर सकता है। हालांकि, अगर साइटोकाइन तूफान के चरण से पहले कोरोनोवायरस से संक्रमित लोगों को पूरक प्रशासित किया जाता है, तो जिंक वायरल प्रतिकृति को दबाने और प्रो-एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कोशिका क्षति को रोकने, और शुरुआती चरणों में रोग को बढ़ने से रोक सकता है।”

तो, जिंक की खुराक लेन मत भूलना! इसके अलावा, पालक, एवोकाडो, फूलगोभी, सेम, शिमला मिर्च, ब्रोकोली, अंडे, मटर, और टमाटर जैसे आहार जिंक के प्राकृतिक स्रोत है और इसका सेवन आपको मजबूत रहने में मदद करेंगा।

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था से जुड़ी इन 5 भ्रामक अवधारणाओं को मानना आपको अभी से छोड़ देना चाहिए

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।