और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जिन्‍हें काम पर मजबूरन मुस्कुराना पड़ता है, वे लोग ज्‍यादा शराब पीते हैं, जानिए इसे कैसे बदला जा सकता है 

Published on:24 March 2021, 20:00pm IST
ज्‍यादा शराब पीने की आदत किसी के लिए भी नुकसानदेह हो सकती है। यह आदत उन लोगों में अधिक देखी जाती है, जिन्‍हें हर समय मुस्‍कुराना पड़ता है।
विनीत
  • 84 Likes
स्‍तनपान के दौरान शराब पीने से परहेज करें। चित्र-शटरस्टॉक।
स्‍तनपान के दौरान शराब पीने से परहेज करें। चित्र-शटरस्टॉक।

हमारे चेहरे की मुस्कान हमारे बारे में काफी कुछ बताती है, हम सभी विभिन्न परिस्थितियों में अलग-अलग तरह से मुस्कुराते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो मुस्कान 19 प्रकार तक की हो सकती है। इनमें से एक नकली मुस्कान या फेक स्माइल (fake smile) भी है। एक कैफे में एक वेट्रेस या एक स्टोर में एक विक्रेता के रूप में मुस्कुराना अक्‍सर  सामान्य है, भले ही आप ऐसा करने के लिए खुश न हों। लेकिन इसके विपरीत उनके लिए, इस तरह के मुद्दों से निपटना मुश्किल है।

उन्हें पूरे दिन मुस्कुराने की जरूरत होती है, जो न केवल उन्हें थकाता है, बल्कि उनके पीने की आदतों को भी प्रभावित करता हैं, एक अध्ययन के अनुसार वे अपने काम पर मजबूरन मुस्कुराते हैं।

हम काम पर अपनी भावनाओं को छिपाने और अधिक शराब पीने के बीच संबंध के बारे में बात करना चाहते हैं। और यह सिर्फ एक लंबे दिन के बाद बुरा महसूस करने के बारे में नहीं है।

क्‍या कहते हैं शोध 

शोधकर्ताओं ने 1,592 श्रमिकों की पीने की आदतों का अध्ययन किया। जिसमें उन्होंने पाया कि जो लोग नर्सों, शिक्षकों और खाद्य सेवा श्रमिकों की तरह जनता के साथ बातचीत करते हैं, वे अधिक पीते हैं।

नए कार्य की व्याख्या करते समय, रोगियों से बात करते हुए या भोजन के आदेश लेते समय उन्हें मुस्कुराते रहना पड़ता है। वे इसे अपनी व्यक्तिगत भावनाओं और मन की वर्तमान स्थिति के बावजूद करते हैं।

अध्ययन से पता चलता है कि जितना अधिक व्यक्ति अपनी नकारात्मक भावनाओं को छिपाता है और काम पर हंसमुख और खुश होने का नाटक करता है, उतना ज्‍यादा वह अपने खाली समय में ड्रिंक करता है।

यह भी पढें: 1 अप्रैल से 45 से अधिक उम्र वाले सभी भारतीय लगवा सकेंगे कोविड-वैक्सीन

यह सिर्फ एक खराब मूड या थके हुए काम के कारण नहीं होता। आत्म-नियंत्रण इसको बहुत प्रभावित करता है। जितना अधिक लोग काम पर खुद को नियंत्रित करेंगे, उतना ही कम वे शराब पीते समय खुद को नियंत्रित कर पाएंगे।

मुस्कुराता चेहरा आपके लिए है फायदेमंद। चित्र: शटरस्टॉक
कई लोगो को काम पर मजबूरन मुस्कुराना पड़ता है चित्र: शटरस्टॉक

कैसे किया गया अध्‍ययन 

शोधकर्ताओं ने आंकड़े जुटाए कि श्रमिकों ने कितनी बार अपनी भावनाओं को दबाया और उन्होंने काम के बाद कितनी शराब पी थी। उन्होंने प्रतिभागियों की आवेगशीलता और उन्हें काम पर कितनी स्वायत्तता महसूस हुई, को भी मापा।

यह, आपकी भावनाओं को छिपाने के अलावा, काम के बाद शराब की खपत को भी प्रभावित करता है। एक व्यक्ति जितना अधिक आवेगी और कम मुक्त होता है, उतना ही अधिक पी सकता है।

साथ ही, शराब पीते समय अपने आप को नियंत्रित करना अधिक कठिन होता है। यदि आप बहुत ही आवेगी व्यक्ति हैं जिसे लगातार ग्राहकों के साथ जूझना पड़ता है, तो निरंतर संबंध बनाए रखने के लिए भी आपको मशक्‍कत करते रहनी पड़ती है। और यह आपकी पीने की आदत को प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, एक कॉल सेंटर का कर्मचारी एक शिक्षक से अधिक पी सकता है।

पर इसका भी समाधान है 

सब कुछ उतना बुरा नहीं है, जितना पहले लगता है। यदि कर्मचारियों के पास एक व्यक्तिगत इनाम है जो संबंधपरक या वित्तीय है, तो वास्तविक भावनाओं को छिपाना उतना भी बुरा नहीं है। किसी भी मामले में, यह ज्ञान न केवल श्रमिकों के लिए, बल्कि उनके नियोक्ताओं के लिए भी उपयोगी है।

झूठी भावनाओं और पीने की आदतों के बीच इस संबंध को, काम पर कर्मचारियों को अधिक स्वतंत्रता देकर बदला जा सकता है। हम भी किसी ग्राहक के साध असभ्य तरीके या अनादर के साथ बातचीत न करें, यह भी जरूरी है। 

यह पता चला है कि श्रमिकों को पूरे बदलाव के लिए अपने चेहरे पर नकली मुस्कान को जारी रखने के लिए दबाव बनाने की आवश्यकता नहीं है।

यह भी पढें: इस अध्ययन के अनुसार, भूख भी आपके फाइनेंशियल निर्णयों को प्रभावित कर सकती है

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।