फॉलो
वैलनेस
स्टोर

शोधकर्ताओं के अनुसार यह वायरलैस डिवाइस बिना सर्जरी वजन कम करने में होगी मददगार

Updated on: 14 January 2021, 15:08pm IST
टेक्सास की ए एंड एम यूनिवर्सिटी (Texas A&M University) के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित एक छोटा वायरलेस डिवाइस मोटापे से ग्रस्‍त लोगों को बिना सर्जरी वेट लॉस करने में मदद कर सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 87 Likes
यह छोटा सा डिवाइस बिना सर्जरी कम कर सकेगा वजन। चित्र: शटरस्‍टॉक

वजन कम करने के नाम पर शायद ही ऐसी कोई चुनौती है जिसे हम नहीं लेते। जटिल फिटनेस चुनौतियों से लेकर इंटरमिटेंट फास्टिंग, पालियो डाइट तक, हम अपनी डाइट के साथ कई तरह के प्रयोग करते हैं। कहते हैं यह उपाय सभी के लिए समान रूप से काम नहीं करते।

बहुत से लोगों के लिए वजन कम करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है। उनके लिए, बैरियाट्रिक सर्जरी या गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी अंतिम उपाय बचते है। जबकि अत्याधिक तकनीक से लैस एक छो़टा सा उपकरण अब उनके काम आ सकता है और उन्‍हें सर्जरी की जरूरत अब नहीं पड़ने वाली।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

वैज्ञानिकों ने एक छोटा सा वायरलेस उपकरण विकसित किया है, जो तंत्रिका अंत को उत्तेजित करके शरीर के वजन को कम करने में मदद कर सकता है। सबसे अच्छी बात यह है कि इस उपकरण को एक साधारण आरोपण प्रक्रिया (simple implantation procedure) के माध्यम से डाला जा सकता है।

यह वायरलेस वेट लॉस डिवाइस गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी का एक विकल्प है

गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी कभी-कभी उन लोगों के लिए अंतिम उपाय बचती है, जो मोटापे से जूझ रहे हैं। साथ ही वजन बढ़ने के कारण जिन्‍हें अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। चूंकि इस प्रक्रिया में पेट के लिए एक छोटी थैली बनाना और पाचनतंत्र को पुन: शामिल करना शामिल है, इसलिए यह बहुत आक्रामक है और रोगियों के रिकवरी पीरियड को बढ़ाता है।

यह डिवाइस उन लोगों के लिए मददगार होगा जो मोटापे कारण स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परेशानियों का सामना कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
यह डिवाइस उन लोगों के लिए मददगार होगा जो मोटापे कारण स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी परेशानियों का सामना कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

सर्जरी की जरूरत कम कर देगा यह नया डिवाइस

टेक्सास के एएंडएम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक सेंटीमीटर के आकार का उपकरण विकसित किया है, जो प्रकाश के साथ वेगस तंत्रिका को उत्तेजित करके परिपूर्णता की भावना प्रदान करता है। अन्य उपकरणों के विपरीत जिन्हें पावर कॉर्ड (power cord) की आवश्यकता होती है, इस वायरलेस डिवाइस को रिमोट रेडियो फ्रीक्वेंसी सोर्स से बाहरी रूप से नियंत्रित किया जा सकता है।

कैसे विकसित किया गया डिवाइस

इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग विभाग में सहायक प्रोफेसर, डॉ. संग एलएल पार्क (Dr Sung II Park) ने कहा, हम एक ऐसा उपकरण बनाना चाहते थे जिसमें न केवल आरोपण के लिए न्यूनतम सर्जरी की आवश्यकता हो, बल्कि यह हमें पेट में विशिष्ट तंत्रिका अंत को प्रोत्साहित करने की भी अनुमति देता है।

वह कहते हैं, हमारे उपकरण में कठोर गैस्ट्रिक स्थितियों में इन दोनों चीजों को करने की क्षमता है, जो भविष्य में नाटकीय रूप से वजन घटाने वाली सर्जरी की आवश्यकता वाले लोगों के लिए बेहद फायदेमंद हो सकती है।

मोटापा लोगों को मधुमेह, हृदय रोग और यहां तक ​​कि कुछ कैंसर जैसी पुरानी बीमारियों के खतरे में डालता है। उन लोगों के लिए जिनका बॉडी मास इंडेक्स 35 से अधिक हैं या जिन्‍हें मोटापे के कारण कम से कम दो स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍याओं का सामना करना पड़ रहा है। यह न केवल अतिरिक्त वजन कम करने के लिए एक मार्ग प्रदान करती है, बल्कि लंबे समय तक उनका वजन बनाए रखती है।

वेगस नर्व, ब्रेन आंत कक्ष का मोड्युलेटर

हाल के वर्षों में, वेगस तंत्रिका ने मोटापे के इलाज के रूप में बहुत ध्यान आकर्षित किया है क्योंकि यह पेट की परत से मस्तिष्क तक पूर्णता के बारे में संवेदी (sensory) जानकारी प्रदान करता है।

मोटापा आपकी बहुत सारी परेशानियों का कारण हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हालांकि कई चिकित्सा उपकरण हैं जो वेगस तंत्रिका को उत्तेजित कर सकते हैं और परिणामस्वरूप भूख को रोकने में मदद करते हैं। ये उपकरण एक पेसमेकर के डिजाइन के समान हैं। अर्थात, वर्तमान स्रोत से जुड़े तार तंत्रिका की युक्तियों को सक्रिय करने के लिए विद्युत झटके (electrical jolts) प्रदान करते हैं।

वायरलेस सिस्टम होने के क्लिनिकल ​​लाभ के बावजूद, किसी भी उपकरण में अभी तक, मस्तिष्क के अलावा किसी भी अन्य अंग के अंदर न्यूरॉन गतिविधि के पुराने और टिकाऊ सेल-प्रकार में विशिष्ट हेरफेर करने की क्षमता नहीं है।

इस अंतर को देखते हुए पार्क और उनकी टीम ने पहले जीन को व्यक्त करने के लिए आनुवंशिक उपकरणों का उपयोग किया। जो कि विवो में विशिष्ट वेगस तंत्रिका अंत में प्रकाश पर प्रतिक्रिया देते हैं। फिर, उन्होंने एक छोटे, पैडल के आकार के उपकरण को डिज़ाइन किया और उसके लचीले शाफ्ट की नोक के पास माइक्रो एलईडी डाले, जिसे पेट में बांधा गया।

खास है तकनीकी प्रारूप

इस डिवाइस के हेड, जिन्हें हार्वेस्टर कहा जाता है, उन्होंने डिवाइस के लिए आवश्यक माइक्रोचिप्स को बाहरी रेडियो आवृत्ति स्रोत के साथ वायरलेस रूप से संचार करने के लिए रखा। हार्वेस्टर को एलईडी को बिजली देने के लिए, छोटी धाराओं का उत्पादन करने के लिए भी सुसज्जित किया गया था। जब रेडियो फ्रीक्वेंसी सोर्स चालू किया गया, तो शोधकर्ताओं ने दिखाया कि एलईडी से निकलने वाली रोशनी भूख को दबाने में कारगर है।

यह मस्तिष्‍क को संवेदी सूचनाएं प्रेषित करेगा। चित्र: शटरस्‍टॉक
यह मस्तिष्‍क को संवेदी सूचनाएं प्रेषित करेगा। चित्र: शटरस्‍टॉक

शोधकर्ताओं ने कहा कि इस उपकरण का उपयोग गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट और अन्य अंगों में तंत्रिका अंत में हेरफेर करने के लिए किया जा सकता है, जैसे कि आंत में थोड़े संशोधन के साथ। इस उपकरण के कामकाज और उनके शोध के निष्कर्षों को जर्नल नेचर कम्युनिकेशन में प्रकाशित किया गया है।

यह भी पढ़ें – काले या सफेद तिल? आयुर्वेद के अनुसार कौन से तिल हैं ज्‍यादा पोषण युक्‍त

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।