वैलनेस
स्टोर

कोविड -19 उपचार के लिए प्लाज्मा डोनेट करना चाहती हैं, तो जानिए इस प्रक्रिया के बारे में सब कुछ

Updated on: 27 April 2021, 12:28pm IST
प्लाज्मा थेरेपी एक प्रायोगिक उपचार है, जिसने कोविड -19 के कई रोगियों को तेजी से ठीक करने में मदद की है। आप भी अपने प्लाज्मा दान करके किसी का जीवन बचाने में मदद करें, लेकिन इससे पहले इन सभी बातों का ध्यान रखें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 87 Likes
प्‍लाज्‍मा दान करके आप किसी का अनमोल जीवन बचा सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड -19 की दूसरी लहर ने देश को लाचार बना दिया है। इस वायरस के गंभीर नतीजों के बारे में लोगों में काफी भय पैदा हो गया है। आज बहुत से लोग हैं, जो अस्पतालों में अपने जीवन के लिए जूझ रहे हैं। जबकि कुछ अन्य ऐसे हैं जो सांस लेने के लिए सप्लीमेंट ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

इन सभी के बीच, सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर बहुत सी गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं, जो लोगों को इस बारे में भ्रमित करती हैं कि क्या सही है या नहीं।

इन्ही दावों में से एक है प्लाज्मा डोनेशन! यह निश्चित रूप से नकली दावा नहीं है। यह वास्तव में क्या होता है और क्या हर कोई यह दान कर सकता है? आइए इसके बारे में सब कुछ जानें।

प्लाज्मा थेरेपी क्या है?

प्लाज्मा थेरेपी, जिसे ‘कॉन्सलसेंट प्लाज्मा थेरेपी’ भी कहा जाता है, कोरोनावायरस को ठीक करने की एक प्रक्रिया है। इस उपचार में, एक व्यक्ति से निकाले गए रक्त का पीला तरल भाग, कोविड -19 से ठीक हुए व्यक्ति से बरामद किया जाता है।

कोविड-19 के उपचार में मददगार है प्‍लाज्‍मा डोनेशन। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस तरल को रोगी में इंजेक्ट किया जाता है, जो कोरोना संक्रमण से पीड़ित है। प्रयोगशालाएं सेंट्रीफुगेशन (centrifugation) नामक प्रक्रिया के माध्यम से रक्त से प्लाज्मा को अलग कर सकती हैं।

यह कैसे काम करता है?

प्लाज्मा कोविड -19 को ठीक करने में सहायक है, क्योंकि इसमें एंटीबॉडी होते हैं। जब आपका शरीर किसी संक्रमण से लड़ने में कामयाब होता है, तो यह एंटीबॉडीज पैदा करता है, जो प्लाज्मा में जमा होती हैं। कोविड-19 से ठीक हो चुके व्यक्ति के प्लाज्मा को इंजेक्ट करने से, कोरोना मरीज़ के तेजी से ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है।

आप कब कर सकती हैं प्‍लाज्‍मा दान

याद रखें, आप तब भी दान कर सकते हैं जब आप अभी भी संक्रमण से लड़ रहे हों, क्योंकि आपका शरीर अभी भी एंटीबॉडीज पैदा कर रहा है। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार, दान करने का सबसे अच्छा समय संक्रमण से पूरी तरह से ठीक होने के दो सप्ताह बाद है। लेकिन हां, यदि आप प्लाज्मा दान करना चाहते हैं, तो आपको सबूत दिखाने की जरूरत है कि आपको कोविड -19 हुआ था।

जानिए सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलाइन्स

भारत सरकार ने प्लाज्मा दान के लिए कुछ गाइडलाइन्स तय की हैं। इसके अलावा, यह याद रखना आवश्यक है कि प्लाज्मा को लक्षणों की शुरुआत के सात दिनों के भीतर एडमिनिस्टर किया जा सकता है।

सरकार ने प्‍लाज्‍मा डोनेशन के लिए कुछ गाइडलाइंस तय की हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

1. दान के दिन अपने आधार कार्ड और कोविड – 19 की नेगेटिव रिपोर्ट (RT-PCR या रैपिड एंटीजन टेस्ट) की हार्ड कॉपी ले जाएं।

2. कोविड – 19 की पॉजिटिव रिपोर्ट के 14 दिनों के बाद ही दान करें, सिर्फ तभी अगर व्यक्ति एसिमटोमैटिक हो।

3. जो महिलाएं कभी गर्भवती हुई हैं, वे कोविड -19 प्लाज्मा का दान नहीं कर सकती हैं।

4. एक व्यक्ति जिसने कोविड -19 टीकाकरण करवाया है, वह टीकाकरण की तारीख से 28 दिनों के लिए प्लाज्मा दान करने में सक्षम नहीं होगा।

5. यदि रक्त में पर्याप्त एंटीबॉडी की कमी हो जाती है, तो व्यक्ति दान नहीं कर सकता है।

6. कृपया किसी भी अन्य जानकारी के लिए अस्पताल के अधिकारियों से फोन पर संपर्क करें।

यह भी पढ़ें – World Earth Day 2021 : ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने के लिए जरूरी है इसे नुकसान पहुंचाने वाले कारकों को समझना

योग्यता मापदंड :

1 . दाता का वजन 50 किलो और उससे अधिक होना चाहिए

2. उनकी आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए

3. उन्हें अधिमानतः लक्षण (बुखार, सर्दी, खांसी, आदि) होने चाहिए थे, क्योंकि ऐसे रोगियों में एक एसिमटोमैटिक रोगी की तुलना में एंटी-एसएआरएस-कोव -2 आईजीजी एंटीबॉडी रखने की अधिक संभावना होती है। यदि एंटीबॉडी मौजूद हैं तो एसिमटोमैटिक मरीज भी दान कर सकते हैं।

4. लक्षणों के पूर्ण समाधान के 28 दिन बाद

यह भी जानिए कि कौन ले सकता है दान किए गए प्लाज्मा

1. कोविड -19 के शुरुआती चरणों में

2. लक्षणों की शुरुआत के 3-7 दिनों के भीतर प्लाज्मा लिया जाना चाहिए, लेकिन बाद में 10 दिनों से अधिक नहीं

3. जिनके पास COVID-19 के खिलाफ कोई IgG एंटीबॉडी नहीं है।

किसी भी तरह की जानकारी के लिए डॉक्‍टर से फोन पर संपर्क करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोई कितना दान कर सकता है?

एक दाता 15 दिनों के अंतराल के साथ एक बार से अधिक 500 मिलीलीटर प्लाज्मा (वजन के अनुसार) दान कर सकता है। प्रक्रिया चार घंटे तक चल सकती है। यदि दाता किसी भी असहजता या परेशानी का अनुभव करता है, तो उसे तुरंत डॉक्टर को बताना होगा।

तो अब जब आप प्लाज्मा डोनेशन के बारे में सब जानते हैं, तो इसके लिए आज ही जाएं!

यह भी पढ़ें – कोविड-19 से ठीक हो चुके लोगों को हो सकता है गंभीर बीमारियों का खतरा : अध्ययन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।