New Covid Variant : आरटी-पीसीआर के अलावा ये 6 टेस्ट भी हैं कोविड-19 के नए वेरिएंट को समझने में मददगार

कोविड-19 महामारी का रूप भले ही बदला हो, पर अभी यह पूरी तरह खत्म नहीं हुआ। हर बार एक नया वेरिएंट कई लोगों को अपना ग्रास बना लेता है। ऐसे में सही रणनीति बनाने के लिए केवल आरटीपीसीआर टेस्ट ही काफी नहीं है।
सभी चित्र देखे abhi tak rtpcr ko hi paryapt mana ja raha tha
अभी तक कोविड-19 के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट ही पर्याप्त माना जा रहा था। चित्र : अडोबीस्टॉक
Dr. Janakiram Bobbillapati Published: 27 Dec 2023, 03:24 pm IST
  • 125

जैसे-जैसे कोविड-19 महामारी विकसित हो रही है, नए वेरिएंट के उद्भव से ग्लोबल रिएक्शन में जटिलता बढ़ गई है। जबकि आरटी-पीसीआर कोविड-19 के निदान के लिए एक बेसिक टेस्ट है। पर नए वेरिएंट की निगरानी और समझने के लिए अधिक व्यापक दृष्टिकोण की आवश्यकता है। इन वेरिएंट्स की विशेषताओं और प्रभाव का आकलन करने में कई प्रमुख परीक्षण महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यहां हम उन सभी टेस्ट (Tests for new covid variant) के बारे में बात कर रहे हैं, जो कोविड-19 के इन नए वेरिएंट्स के लिए जरूरी हैं।

क्यों जरूरी हैं टेस्ट (Tests for new covid variant)

इन प्रमुख परीक्षणों को व्यक्तिगत रूप से और संयोजन में लागू करने से शोधकर्ताओं और सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों को सूचित निर्णय लेने, टीकाकरण अभियान तैयार करने और उभरते वेरिएंट के प्रभाव को कम करने के लिए रणनीतियों को अनुकूलित करने का अधिकार मिलता है।

कोविड-19 के खिलाफ चल रही लड़ाई में, वायरस के विकास से आगे रहने और वैश्विक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए एक विविध और अनुकूलनीय परीक्षण टूलकिट महत्त्वपूर्ण है।

covid-19 ke new variants ko samajhne ke liye kuchh aur tests ki zarurat hai
काेविड-19 के नए वेरिएंट्स को समझने के लिए कुछ और टेस्ट की सिफारिश की जा रही है। चित्र : अडोबीस्टॉक

यहां हैं वे टेस्ट जिन्हें करवाना नए कोविड वेरिएंट काे समझने में मददगार हो सकते हैं 

1 जीनोमिक अनुक्रमण (genomic sequencing)

नए कोविड वेरिएंट की पहचान और लक्षण वर्णन करने में जीनोमिक अनुक्रमण जरूरी है। आरटी-पीसीआर वायरस की उपस्थिति की पुष्टि कर सकता है, लेकिन यह विशिष्ट उत्परिवर्तन के बारे में जानकारी प्रदान नहीं करता। जीनोमिक सीक्वेंसिंग वैज्ञानिकों को वायरस के संपूर्ण अनुवंशिक कोड का विश्लेषण करने की अनुमति देता है, जिससे उन उत्परिवर्तनों का पता लगाने में मदद मिलती है।

यह संचरण क्षमता, गंभीरता या टीके की प्रभावशीलता को प्रभावित कर सकते हैं। वायरस के विकास पर नज़र रखने और सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीतियों को सूचित करने के लिए नियमित अनुक्रमण प्रयास आवश्यक हैं।

2 वायरल कल्चर (Viral culture)

वायरल कल्चर में रोगी के नमूनों से जीवित वायरस के नमूनों को अलग करना और बढ़ाना शामिल है। यह परीक्षण नए वेरिएंट के व्यवहार का अध्ययन करने, उनकी प्रतिलिपि बनाने की क्षमता का आकलन करने और सेल संस्कृतियों पर उनके प्रभाव को समझने के लिए मूल्यवान है।

इसके अतिरिक्त, एंटीवायरल दवाओं और टीकों की प्रभावकारिता का मूल्यांकन करने के लिए वायरल कल्चर महत्वपूर्ण है। जबकि वायरल कल्चर पीसीआर की तुलना में अधिक संसाधन-गहन है। किसी भी वायरस को समझने और उससे मुकाबले की रणनीति बनाने में यह टेस्ट महत्वपूर्ण है।

3 सीरोलॉजिकल परीक्षण (serological test)

एंटीबॉडी टेस्ट जैसे सीरोलॉजिकल टेस्ट, वायरस के प्रति व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। समय के साथ एंटीबॉडी के स्तर की निगरानी करने से शोधकर्ताओं को प्रतिरक्षा के स्थायित्व को समझने में मदद मिलती है, खासकर नए वेरिएंट के संबंध में।

इसके अतिरिक्त, सीरोलॉजिकल परीक्षण पिछले संक्रमणों की पहचान कर सकते हैं, जिससे आबादी के भीतर वायरस की व्यापकता का अनुमान लगाने में सहायता मिलती है। जीनोमिक अनुक्रमण के साथ सीरोलॉजिकल डेटा का संयोजन प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं के बारे में हमारी समझ को बढ़ाता है और टीकाकरण रणनीतियों की जानकारी देता है।

4 प्रतिजन परीक्षण (antigen test)

एंटीजन टेस्ट वायरस की सतह पर विशिष्ट प्रोटीन का पता लगाते हैं। हालांकि वे आरटी-पीसीआर की तुलना में कम संवेदनशील हैं, लेकिन वे तेजी से परिणाम देते हैं, जिससे वे बड़े पैमाने पर स्क्रीनिंग और निगरानी प्रयासों के लिए मूल्यवान बन जाते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
viral culture and serological test covid ke naye variant ko samajhne me hekpful honge.
ये सभी टेस्ट कोविड-19 से मुकाबले की रणनीति बनाने में मददगार साबित होंगे। चित्र : अडोबीस्टॉक

जीनोमिक अनुक्रमण के साथ-साथ एंटीजन टेस्ट परिणामों की निगरानी से नए वेरिएंट की व्यापकता और वितरण की व्यापक तस्वीर मिल सकती है। संभावित हॉटस्पॉट की त्वरित पहचान वेरिएंट के प्रसार को कम करने के लिए त्वरित सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप की अनुमति देती है।

5 टी-सेल रिस्पांस अ‍ॅसेज़ (T-cell response assays)

वायरस के प्रति टी-सेल प्रतिक्रियाओं का आकलन एंटीबॉडी परीक्षणों के लिए पूरक जानकारी प्रदान करता है। टी-सेल प्रतिक्रिया परीक्षण संक्रमित कोशिकाओं को पहचानने और नष्ट करने के लिए जिम्मेदार विशिष्ट प्रतिरक्षा कोशिकाओं की सक्रियता को मापते हैं।

खासकर नए वेरिएंट के संदर्भ में टी-सेल प्रतिक्रियाओं को समझना और प्रतिरक्षा की चौड़ाई और दीर्घायु का मूल्यांकन करने के लिए महत्वपूर्ण है। टी-सेल डेटा को जीनोमिक जानकारी के साथ संयोजित करने से अनुकूली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का एक व्यापक दृष्टिकोण मिलता है।

6 औषधि संवेदनशीलता परीक्षण (drug sensitivity test)

जैसे-जैसे नए वेरिएंट सामने आते हैं, एंटीवायरल दवाओं के प्रति उनकी संवेदनशीलता का मूल्यांकन करना महत्त्वपूर्ण हो जाता है। दवा संवेदनशीलता परीक्षण में उनकी प्रभावशीलता का आकलन करने के लिए वायरस के नमूनों को विभिन्न एंटीवायरल एजेंटों के सामने उजागर करना शामिल है।

यह जानकारी उपचार रणनीतियों का मार्गदर्शन करती है और विशिष्ट प्रकारों के कारण होने वाले संक्रमण के प्रबंधन में संभावित चुनौतियों की पहचान करने में मदद करती है। दवा की संवेदनशीलता की निरंतर निगरानी यह सुनिश्चित करती है कि चिकित्सीय हस्तक्षेप उभरते तनाव के खिलाफ प्रभावी रहे।

निष्कर्ष :

आरटी-पीसीआर कोविड-19 के लिए प्राथमिक निदान उपकरण बना हुआ है, किंतु नए वेरिएंट के प्रभाव को समझने और प्रबंधित करने के लिए एक बहुआयामी परीक्षण दृष्टिकोण आवश्यक है। जीनोमिक अनुक्रमण, वायरल कल्चर, सीरोलॉजिकल टेस्ट, एंटीजन टेस्ट, टी-सेल प्रतिक्रिया परीक्षण और दवा संवेदनशीलता परीक्षण सामूहिक रूप से वायरस के व्यवहार और विकास की व्यापक समझ में योगदान करते हैं।

यह भी पढ़ें – Cold Wave : शीत लहर के साथ बढ़ सकता है इन 5 स्वास्थ्य समस्याओं का जोखिम, जानिए कैसे करना है बचाव

  • 125
लेखक के बारे में

Dr. Janakiram Bobbillapati is HOD of Microbiology and Genomics at TRUSTlab Diagnostics. Masters from NRI Medical College. Senior Research Fellow and PhD From IISc Bangalore (Tata Institute) Fellow in Genomics and Cytogenetics from Centre for Cellular and Molecular Biology. ...और पढ़ें

अगला लेख