एजिंग प्रक्रिया को धीमा कर त्वचा को टाइट और जवां बनाए रखने में मदद करेंगे ये 5 योगाभ्यास

त्वचा में कसावट लाना है तो खान-पान और देखभाल के साथ कुछ महत्वपूर्ण योगासनों में भाग लेना अनिवार्य है। इनकी मदद से आप अपने उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर सकती हैं।
Muscles ko yoga se karein majboot
दिनभर में कुछ वक्त सुखासन में बैठने से पेल्विक और कोर मसल्स मज़बूत बनने लगते हैं। चित्र- अडोबी स्टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 16 Jun 2023, 17:14 pm IST
  • 134

एक उचित समय के बाद आपकी त्वचा पर आपके उम्र का असर नजर आने लगता है। हालांकि, जवा दिखना आखिर किसे पसंद नहीं है, परंतु एजिंग एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिसे हम चाहकर भी नहीं रोक सकते परंतु आप इस प्रक्रिया को धीमा जरूर कर सकती हैं। साथ ही कई लोगों में समय से पहले बुढ़ापे के निशान नजर आने लगते हैं, इस स्थिति में आप इन्हें समय से पहले आने से रोक सकती हैं। इसके लिए आपको अपनी लाइफस्टाइल की कुछ आदतों में बदलाव लाकर त्वचा की देखभाल करनी है, साथ ही खानपान का भी विशेष ध्यान रखना है।

यदि आपको उचित और प्रभावी परिणाम चाहिए तो खान-पान और देखभाल के साथ कुछ महत्वपूर्ण योगासनों में भाग लेना भी अनिवार्य है। इंटरनेशनल योगा डे आने वाला है, तो इस दिन को ध्यान में रखते हुए हम आज हेल्थ शॉट्स आपके लिए लाया है, त्वचा को ढीलेपन से बचाने और एजिंग की प्रक्रिया को धीमा करने के लिए कुछ प्रभावी योगासन।
वैलनेस कोच, योगा एक्सपर्ट और अहम योगा इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर योगाचार्य विनायक ने त्वचा को टाइट और जवां बनाए रखने के लिए कुछ योग मुद्राएं सुझाये हैं, तो चलिए जानते हैं इन्हें कैसे करना है।

यहां हैं कुछ प्रभावी योगासन जो आपकी त्वचा में प्राकृतिक कसावट ला सकते हैं (Skin tightening yoga poses)

1. अधोमुख श्वानासन

अधोमुख श्वानासन का अभ्यास शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देता है। जिससे की ब्लड की पर्याप्त मात्रा ब्रेन और त्वचा तक पहुंचती है। ऐसे में त्वचा में कोलेजन का उत्पादन बना रहता है और समय से पहले त्वचा में ढीलापन नहीं आता।

downward facing dog pose) . चित्र : शटरस्टॉक
अधो मुख श्‍वानासन (शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देता है। चित्र : शटरस्टॉक

यहां जानें इसे करने का सही तरीका

दोनों पेअर और हांथ पर आ जाएं, सुनिश्चित करें कि हथेलियां कंधों के नीचे और घुटने कूल्हे के नीचे हों।

फिर धीरे से कूल्हे को ऊपर की ओर उठाएं, घुटनों और कोहनियों को सीधा करें और उल्टे ‘वी’ का आकार बनाएं।

दोनों हथेलियों को कंधों की चौड़ाई के बराबर दूरी पर रखें।

अपनी हथेलियों पर दबाव डालें और अपने कंधे के ब्लेड्स को खोलें।

एड़ी से फर्श पर प्रेशर बनाएं और अपने नजर को उंगलियों पर टिकाए रखें।

कुछ सेकंड तक इस मुद्रा में बनी रहें फिर वापस सामन्य मुद्रा में आ जाएं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होती है क्रेविंग, कारण जानकर चौंक जाएंगे

2. बाल बकासन

योगाभ्यास शरीर में वॉटर रिटेंशन को कम करता है साथ ही त्वचा से जुड़ी तमाम समस्याओं का एक बेहतरीन उपचार हो सकता है। खासकर यह त्वचा पर नजर आने वाली झुर्रियों को समय से पहले आने से रोकता है।

इस तरह करें इसका अभ्यास

मार्जरियासन में शुरुआत करें।

अपनी कोहनियों को सतह पर सपाट रखें।

इस दौरान आपकी उंगलियों को आगे की ओर फैला कर रखें।

फिर शरीर का सारा भार ट्राइसेप्स पर लेते हुए आगे की ओर झुकें।

अपना संतुलन बनाएं और धीरे-धीरे अपने दोनों पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं। अपने पैरों को एक साथ मिलाएं।

कुछ सेकंड तक इस मुद्रा में बनी रहें फिर वापस सामन्य मुद्रा में आ जाएं।

3. सर्वांगासन

सर्वांगासन का अभ्यास त्वचा के टेक्सचर और क्वालिटी को बढ़ावा देता है। यह ब्लड सर्कुलेशन को संतुलित रखता है जिससे की पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन त्वचा तक पहुंच पाते हैं और त्वचा के सेल्स लंबे समय तक जवां रहते हैं। जिससे की एक्ने, फाइनलाइन और सैगिंग जैसी समस्याएं नहीं होती।

shoulder stand pose
सर्वांगासन से एक्ने, फाइनलाइन और सैगिंग जैसी समस्याएं नहीं होती

यहां है इसे करने का सही तरीका

सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और अपनी बाजुओं को अपने शरीर के दोनों ओर रखें।

अपने दोनों हांथ को निचे कमर के पास लगाएं।

अब बाजुओं पर भार देते हुए अपने पैर को ऊपर की ओर 90 डिग्री पर उठाएं।

फिर धीरे-धीरे अपने कमर के पास से नितंबों को भी उठा लें और पैरों को उलटकर सिर के आगे उंगलियों को फर्श से टच करवाएं।

अपने फोरआर्म्स को फर्श से उठाएं और अपनी हथेलियों को सपोर्ट के लिए अपनी पीठ पर रखें।

जितना हो सके अपनी छाती को अपनी ठुड्डी के पास लाने की कोशिश करें।

कुछ सेकंड तक इस मुद्रा में बनी रहें फिर वापस सामन्य मुद्रा में आ जाएं।

अलग-अलग स्वास्थ्य समस्याओं के लिए करें अलग अलग योगासन.

4. हलासन

हलासन का अभ्यास त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है। यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ा देता है और त्वचा में कसावट लाता है। जब त्वचा कसी हुई होती है तो इस पर रिंकल फाइल लाइन जैसी समस्याएं नहीं होती। बढ़ती उम्र के साथ यदि ग्लोइंग स्किन की चाह रखती है, इस एक्सरसाइज को जरूर दोहराएं।

इस तरह करें हलासन

अपनी पीठ के बल लेट जाएं।

अपने पेट की मांसपेशियों पर दबाव बनाते हुए अपने पैरों को 90 डिग्री ऊपर उठायें।

अपने कंधे, धड़, कमर और पैरों के बीच एक सीधी रेखा प्राप्त करने का प्रयास करें।

इस मुद्रा में अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से छूने की कोशिश करें और अपनी आंखों को अपने पैरों की उंगलियों पर केंद्रित करें।

कुछ देर तक इसी तरह बनी रहें फिर सामान्य मुद्रा में वापस आ जाएं।

ये भी पढ़े- Anti Aging Yoga : योग के ये 3 आसन हैं एंटी एजिंग, सिर से पांव तक रहेंगी फिट और एक्टिव

  • 134
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख