फॉलो
वैलनेस
स्टोर

आपको जितनी जल्‍दी चढ़ती है शराब, उतना ज्‍यादा है भविष्‍य में आपके एडिक्‍ट होने का जोखिम

Published on:13 January 2021, 18:51pm IST
एक अमेरिकी अध्ययन में पाया गया है कि जो लोग अल्कोहल के प्रभावों के प्रति सबसे अधिक संवेदनशीलता की रिपोर्ट करते हैं, उनमें अल्कोहल यूज डिसऑर्डर विकसित होने की सबसे अधिक संभावना होती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 87 Likes
शराब से मिलने वाला आनंद आपको और शराब पीने के लिए प्रेरित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक्‍

कई बार एक ड्रिंक लेने से ही आपको बहुत आराम मिलता है। लेकिन जब यह एक आदत बन जाती है, तो यह आपके लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकती है। लेकिन आप इसका पता कैसे लगा सकते हैं कि आप कंट्रोल में हैं या नहीं? खास, अगर एक अमेरिकी शोधकर्ता की मानें तो शराब पीने से जो आपको जो खुशी मिलती है, वह अल्‍टीमेट संकेत (tell-tale sign) हो सकती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो मेडिसिन ने अपने एक अध्ययन के दौरान 10 वर्षों तक शराब पीने वालें युवाओं को फॉलो किया। अध्ययन में पाया गया है कि जिन व्यक्तियों ने शराब के आनंददायक और परीक्षण के शुरू में पुरस्कृत प्रभावों की सबसे अधिक संवेदनशीलता की सूचना दी, उनमें अल्कोहल यूज डिसऑर्डर (AUD) विकसित होने की अधिक संभावना थी।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

इसके अलावा, जब दस साल बाद उनकी प्रतिक्रियाओं का पुनर्परीक्षण किया गया, जो लोग अल्कोहोलिक बन गए थे उनमें अल्कोहल की उत्तेजना, पसंद और चाहने का स्‍तर उच्चतम देखा गया।

कैसे किया गया शोध

अमेरिकन जर्नल ऑफ साइकियाट्री में प्रकाशित इस शोध में 10 साल के दौरान तीन नियमित अंतराल पर प्रयोगशाला आधारित ज्‍यादा पीने वाले लोगों (binge-drinking scenario ) में 190 युवा वयस्कों को फॉलो किया गया।

इन परिणामों से संकेत मिलता है कि एक अल्कोहल यूज डिसऑर्डर (AUD) विकसित करने वाले व्यक्तियों में अल्कोहल के प्रभाव के प्रति संवेदनशील होने की संभावना है। अर्थात, वे प्रतिक्रिया के निचले स्तर की आदत के बजाए, एक मजबूत सकारात्मक प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं। इन्हीं व्यक्तियों के लिए शराब शुरुआत से ही कम मोहक थी और यह समय के साथ नही बदला।

इस अध्‍ययन में शराब पीने के पैटर्न को भी देखा गया। चित्र: शटरस्‍टॉक
इस अध्‍ययन में शराब पीने के पैटर्न को भी देखा गया। चित्र: शटरस्‍टॉक

शिकागो मेडिसिन के प्रोफेसर, पीएचडी, मनोचिकित्सा और व्यवहार संबंधी तंत्रिका विज्ञान के प्रमुख लेखक एंड्रिया किंग (Andrea King) कहते हैं, कि पहले के अध्ययनों में शराब के प्रति युवा ड्रिंकर्स की प्रतिक्रिया देखी गई है। मुख्य रूप से शराब के थकाऊ और खराब प्रभावों पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

यह सोच कि शराबियों को समय के साथ शराब का प्रभाव पसंद नहीं है, उपचार दर्ज करने वाले रोगियों की तदर्थ रिपोर्ट पर आधारित है। केवल एक ही समय में पर्याप्त मात्रा में लोगों का परीक्षण यह देखने के लिए किया गया कि क्या समय के साथ शराब की प्रतिक्रियाएं बदलती हैं? क्या हम प्लेसबो की तुलना में शराब के लिए इस उन्नत प्रतिक्रिया का निरीक्षण करने में सक्षम थे और ऐसे प्रतिभागियों में, जिन्हें पेय पदार्थों की जानकारी नहीं थी, प्रत्याशा प्रभाव कम से कम था।

उच्‍च संवेदनशीलता है जोखिम का संकेत 

अध्ययन से पता चला कि अल्कोहल के उत्साह और आनंद के प्रति उच्च संवेदनशीलता यह २अनुमान लगा सकती है कि उनके 20 और 30 के दशक के दौरान अल्कोहल यूज डिसऑर्डर (AUD) में प्रगति हो सकती है।

किंग कहते हैं, ये शराब का यह सुखदायक प्रभाव समय के साथ बढ़ता जाता है। और पीने में बढ़ोतरी होने लगती है। यह हमें बताता है कि मस्तिष्क में अल्कोहल के आनंद के प्रति ज्‍यादा संवेदनशील व्यक्तियों में नशे की लत का जोखिम ज्‍यादा होता है। यह सब लगातार सुख चाहने वाली एक तस्वीर पर फिट बैठता है जो समय के साथ आदतन अत्यधिक शराब पीने की संभावना को बढ़ाता है।

जब वे शराब पीते हैं, तो उन्हें अंततः अपना मनचाहा प्रभाव प्राप्त करने के लिए और अधिक पीने की आवश्यकता होती है।

हालांकि यह अपेक्षाकृत सहज लग सकता है कि जो लोग शराब के सुखद प्रभावों का सबसे अधिक अनुभव करते हैं, वे पीने की समस्याओं के विकास के लिए सबसे अधिक जोखिम में हैं। किंग के निष्कर्ष वर्तमान एडिक्शन सिद्धांतों को काउंटर करते हैं।

किंग कहते हैं, कि हमारे परिणाम इंसेन्टिव-सेन्सिटाइजेशन (incentive-sensitization) नामक सिद्धांत का समर्थन करते हैं। प्रयोगशाला में शराब के एक मानक नशीली दवाओं की खुराक के जवाब में, अधिक गंभीर AUD विकसित करने वाले व्यक्तियों में, एक दशक में अधिक शराब चाहने की रेटिंग में काफी वृद्धि हुई।

अल्‍कोहल इम्यूनिटी सिस्टम को बेहतर काम करने में बाधित करता है। चित्र : शटरस्‍टॉक

इसके अतिरिक्त हेडोनिक प्रतिक्रिया, अनिवार्य रूप से, किसी व्यक्ति को प्रभाव कितना पसंद आया, इस अंतराल में बदलता रहा। यह पारंपरिक रूप से नशे की लत का कुचक्र रहा है। भले ही एडिक्ट व्यक्ति को यह दवा (अल्कोहल) पसंद न हो, लेकिन वह इसका उपयोग बंद नहीं कर सकता है।

घातक हो सकते हैं परिणाम 

परीक्षण की शुरुआत में 2004 से 2006 तक, प्रतिभागी अपने 20 के दशक के मध्य में नियमित रूप से हल्के या भारी सोशल ड्रिंकर्स थे। उन्हें पांच और 10 साल बाद प्रयोगशाला में शराब प्रतिक्रियाओं के बार-बार परीक्षण के लिए वापस लाया गया। परीक्षण अवधि के बीच, प्रतिभागियों को उनके पीने के पैटर्न और समय के साथ AUD के लक्षणों को ट्रैक करने के लिए वार्षिक अंतराल पर साक्षात्कार किया गया था।

यह भी पढ़ें – किसी भी रूप में भांग का सेवन आपकी सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।