वैलनेस
स्टोर

यह रिपोर्ट साबित करती है कि महामारी के दौरान घर और काम के बीच संतुलन बनाने में महिलाओं का करना पड़ा ज्यादा संघर्ष

Published on:12 March 2021, 17:00pm IST
काम के साथ-साथ घर को भी मैनेज करना महामारी के दौरान कामकाजी महिलाओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी, कई महिलाओं के लिए अपने व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन के बीच संतुलन बना पाना काफी मुश्किल भरा था।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
महामारी के दौरान महिलाओं के लिए अधिक मुश्किल भरा रहा काम और घर के बीच संतुलन बनाए रखना। चित्र-शटरस्टॉक।

एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश महिलाओं को अपने पुरुष समकक्षों की तुलना में एक ही समय में घर और व्यक्तिगत जिम्मेदारियों और पेशेवर काम का प्रबंधन करना अधिक चुनौतीपूर्ण लगा।

जॉब पोर्टल “SCIKEY” मार्केट नेटवर्क ने एक रिपोर्ट में कहा कि लगभग 61% महिला उत्तरदाताओं ने महसूस किया कि महामारी के दौरान वर्क-लाइफ बैलेंस महिलाओं के लिए उनके घर की तुलना में बहुत अधिक चुनौतीपूर्ण था।

इसमें कहा गया है कि एक ही समय और स्थान पर घर और व्यक्तिगत जिम्मेदारियों से पेशेवर काम के प्रबंधन के संघर्ष के कारण, महामारी महिला कर्मचारियों को अधिक प्रभावित कर रही है। 75 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि उनके लिए घर से काम करना चुनौतीपूर्ण था। जबकि यह नोट किया गया, कि 81% का मानना ​​था कि व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन के बीच एक सीमा खींचना मुश्किल है।

यह भी पढें: इस अध्ययन के अनुसार, कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स का किया जा रहा है अत्यधिक इस्तेमाल 

यह रिपोर्ट आईटी और आईटी सर्विस, वित्त, स्वास्थ्य सेवा, मीडिया और मनोरंजन, मानव संसाधन और शिक्षा प्रौद्योगिकी (edtech) सहित नौ क्षेत्रों में भारत भर में 2,500 महिला पेशेवरों के बीच किए गए सर्वेक्षण पर आधारित है।

अगर आपका काम आपको एंग्‍जायटी दे रहा है तो यह सोचने का समय है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कई महिलाओं को इस दौरान स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ा। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके अलावा, रिपोर्ट से पता चला कि इस उथल-पुथल के दौरान, 24% महिलाओं ने कहा कि वे इस अराजकता के बीच खुद के लिए समय निकाल पा रही हैं, 21% ने कहा कि वे भविष्य में पसंद आने पर घर से काम करना चाहेंगी, जबकि 48% ने महसूस किया कि पसंद का विकल्प कार्यस्थल एक विकल्प होना चाहिए।

लगभग 61% महिलाओं ने जवाब दिया कि महामारी के दौरान घर की मांगों और परिवार की मांगों को पूरा करने के बीच उन्हें संघर्ष करना पड़ा।

इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान संगठनात्मक समर्थन के बारे में पूछे जाने पर, 36% महिलाओं ने जवाब दिया कि उनके संगठन इन समय के दौरान बहुत सहयोगी थे और 27% ने कहा कि उन्हें अपनी कंपनियों से कोई सहयोग नहीं मिला।

यह भी पढें: थोड़ी मात्रा में भी भांग का सेवन आपके मस्तिष्‍क के लिए हो सकता है घातक, जानिए इसके दुष्‍प्रभाव

दूसरी ओर, 21% महिलाओं ने कहा कि उन्हें संगठन से वर्क फ्रॉम होम (WFH) के रूप में सपोर्ट दिया गया, और केवल 8% ने कहा कि उन्हें हार्डवेयर और इंटरनेट का सपोर्ट दिया गया था।

रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि 65% महिलाओं ने घर की भूमिकाओं के चलते संषर्ष को देखते हुए अपने संगठनों से प्रोत्साहन के रूप में फ्लेक्सिबल या कम घंटे काम करने की उम्मीद की थी।

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, कि इस कठिन समय ने दुनिया भर में कर्मचारियों के साथ बहुत सारे मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को प्रेरित किया है। सभी महिला उत्तरदाताओं में से, केवल 12% ने कहा कि कंपनी ने उनकी मानसिक कल्याण में सुधार और पोषण करने के लिए सहायता प्रदान की। जबकि 6% ने कहा कि उन्हें इस समय स्वास्थ्य और कल्याण के बारे में मार्गदर्शन प्रदान किया जा रहा था।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।