वैलनेस
स्टोर

यह अध्ययन बताता है कि काम के दौरान छोटे ब्रेक लेना बढ़ा सकता है आपकी प्रोडक्टिविटी

Published on:19 March 2021, 13:43pm IST
नॉर्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी के नए शोध से पता चलता है कि माइक्रो ब्रेक्स तनाव और थकान से राहत दिलाते हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 60 Likes
काम के दौरान छोटे-छोटे ब्रेक आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ा सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

नॉर्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी के नए शोध से पता चलता है कि जब लोग थके हुए होते हैं, तो उनके ‘माइक्रो ब्रेक्स’ लेने की संभावना बढ़ जाती हैं – लेकिन यह कोई बुरी बात नहीं है। अध्ययन में पाया गया कि माइक्रो ब्रैक्स थके हुए कर्मचारियों को उनकी सुबह की थकान से उबरने में मदद करते हैं और दिन के दौरान अपने काम को बेहतर तरीके से पूरा करने में मदद करते हैं।

काम के बीच कॉफी ब्रेक लेने से आपको आराम मिलता है

माइक्रोब्रेक्स, छोटे ब्रेक्स होते हैं जो, स्वैच्छिक और अपनी मर्ज़ी से लिए गये होते हैं। माइक्रोब्रैक्स में विवेकाधीन गतिविधियां शामिल हैं – जैसे कि एक स्नैक लेना, सहकर्मी के साथ चैट करना, एक क्रॉसवर्ड पहेली हल करना या स्ट्रेचिंग करना।

उत्तरी कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान की सहायक प्रोफेसर और लेखक, सोफिया चो कहती हैं, माइक्रो ब्रेक्स का “परिभाषा के अनुसार, मतलब होता है छोटा सा ब्रेक।”

“अगर आप सही समय पर इसे लेते हैं, तो पांच मिनट का ब्रेक फायदेमंद हो सकता है। हमारे अध्ययन से पता चलता है कि कंपनी के लिए सबसे अच्छा है कर्मचारियों को माइक्रोब्रेक्स देना, वो भी उनकी इच्‍छा से। यह कर्मचारियों को अपनी ऊर्जा को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने और पूरे दिन अपने काम में लगे रहने में मदद करता है।”

छोटी सी चैट या चाय-कॉफी आपको तनावमुक्‍त कर सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
छोटी सी चैट या चाय-कॉफी आपको तनावमुक्‍त कर सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

समझ में सुधार करता है

नया पेपर दो अध्ययनों पर आधारित है, जिसने कार्यदिवस में माइक्रो ब्रैक से संबंधित मुद्दों का पता लगाया। विशेष रूप से, अध्ययन हमारी समझ में सुधार करने के उद्देश्य से किया गया था, कि लोग दिन भर थके होने पर भी काम में संलग्न होने के लिए दिन भर में अपनी ऊर्जा स्तर को कैसे बढ़ाते हैं या बनाए रखते हैं।

अध्ययनों ने यह भी जांच की कि कौन से कारक यह निर्धारित करने में भूमिका निभा सकते हैं कि लोगों ने माइक्रो ब्रेक्स लिए या उन्होंने उन माइक्रोब्रेक्स के दौरान क्या किया।

कैसे किया गया अध्‍ययन

पहले अध्ययन ने संयुक्त राज्य में 98 वर्कर्स का सर्वेक्षण किया। अध्ययन के प्रतिभागियों को लगातार 10 कार्यदिवसों के लिए प्रतिदिन दो सर्वेक्षण भरने के लिए कहा गया था। सर्वेक्षण सुबह और कार्यदिवस के अंत में पूरा हुआ। दूसरे अध्ययन में दक्षिण कोरिया में 222 श्रमिक शामिल थे।

बिना ब्रेक आप बर्नआउट की शिकार हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
बिना ब्रेक आप बर्नआउट की शिकार हो सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस अध्ययन में प्रतिभागियों को पांच कार्य दिवसों के लिए प्रतिदिन तीन सर्वेक्षण पूरे करने थे। अध्ययन में प्रतिभागियों ने सुबह का सर्वेक्षण, दोपहर के भोजन के बाद और कार्यदिवस के अंत में पूरा किया।

यदि आप ब्रेक लेते हैं, तो काम के दौरान तनाव नहीं होगा

दोनों अध्ययनों में सर्वेक्षण के सवालों का उद्देश्य प्रत्येक अध्ययन प्रतिभागी की नींद की गुणवत्ता, थकान के स्तर के साथ-साथ उनके कार्य के साथ, उस दिन कार्यस्थल पर उनके अनुभवों के बारे में डेटा एकत्र करना था।

अध्ययनों में, शोधकर्ताओं ने विभिन्न प्रकार के माइक्रो ब्रेक्स में नींद की गुणवत्ता, थकान, कार्य व्यवहार और व्यस्तता में दिन-प्रतिदिन के उतार-चढ़ाव की जांच करने के लिए सांख्यिकीय उपकरणों के साथ सर्वेक्षण के आंकड़ों का विश्लेषण किया।

परिणाम में क्या सामने आया

उन दिनों में जब लोग काम पर पहुंचे थे, पहले से ही थके हुए थे, वे माइक्रो ब्रेक्स लेने के लिए अधिक बार प्रवृत्त हुए। और माइक्रो ब्रेक्स लेने से उन्हें अपने ऊर्जा स्तर को बनाए रखने में मदद मिली। यह बदले में, उन्हें काम की मांगों को पूरा करने और काम को बेहतर तरीके से पूरा करने में मदद करता है।

खुद को मोटिवेट करने के लिए आपको खुद पर काम करना होगा। चित्र: शटरस्‍टॉक
खुद को मोटिवेट करने के लिए आपको खुद पर काम करना होगा। चित्र: शटरस्‍टॉक

चो कहते हैं “मूल रूप से, माइक्रो ब्रेक्स आपको दिन के दौरान अपने ऊर्जा संसाधनों को प्रबंधित करने में मदद करता है – और जब आप थक जाते हैं, तो उन दिनों में विशेष रूप से फायदेमंद होते हैं।”

इसके अलावा, शोधकर्ताओं ने पाया कि अगर लोगों को महसूस होता था कि उनके एम्प्लॉयर उनकी सेहत की परवाह करते हैं, तो वर्कर्स के माइक्रो ब्रेक्स लेने की अधिक संभावना थी।

“जब लोगों को लगता है कि उनके नियोक्ता को उनके स्वास्थ्य की परवाह है, तो वे माइक्रो ब्रेक्स लेने के लिए स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने के लिए अधिक सशक्त महसूस करते हैं कि किस प्रकार के माइक्रो ब्रेक लेना है।”

“और वह अंततः एम्प्लॉयर और कर्मचारी दोनों के लिए अच्छा है।”

यह भी पढ़ें – इस खास ब्‍लड ग्रुप के लोगों को ज्‍यादा होता है डायबिटीज का जोखिम, जानिए क्‍या कहते हैं अध्ययन 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।