वैलनेस
स्टोर

शोध बताते हैं कि मसल्‍स हेल्‍थ के लिए मददगार साबित हो सकता है ग्‍लूकोज का निम्‍न स्‍तर

Published on:22 April 2021, 18:53pm IST
टोक्यो मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का मानना है कि लो शुगर लेवल मांसपेशियां के लिए अच्छा है। इसलिए, मांसपेशियों के कार्य को बेहतर बनाने के लिए, आपको चीनी के सेवन को सीमित करना चाहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 76 Likes
नारियल चीनी अन्य चीनी की तरह रिफाइंड नहीं है चित्र: शटरस्‍टॉक

चीनी की अधिक खपत से मोटापा, मधुमेह और हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। हाल ही में एक अध्ययन में लो शुगर लेवल का एक और लाभ सामने आया है।

टोक्यो मेट्रोपॉलिटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक अध्‍ययन में यह साबित किया कि स्केलेटल मसल सेल्स, मांसपेशियों की मरम्मत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

क्या कहता है अध्ययन?

अध्‍ययन के परिणाम पारंपरिक मान्‍यता के विपरीत है। जो कहते हैं कि स्तनधारी कोशिकाएं बेहतर प्रदर्शन करती हैं, जब उनकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए ज्यादा चीनी होती है। क्योंकि अल्ट्रा-लो ग्लूकोज लेवल अन्य सेल के बढ़ने की अनुमति नहीं देते हैं।

ग्लूकोस आपके ब्लड शुगर लेवल को अचानक से बढ़ाता है. चित्र : शटरस्टॉक
ग्लूकोस आपके ब्लड शुगर लेवल को अचानक से बढ़ाता है. चित्र : शटरस्टॉक

स्वस्थ मांसपेशियां स्वस्थ जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। हमारी मांसपेशियां लगातार स्वस्थ रहने के लिए खुद की मरम्मत करती हैं। हाल के वर्षों में, वैज्ञानिकों ने यह समझना शुरू कर दिया है कि सेलुलर स्तर पर मांसपेशियों की मरम्मत कैसे काम करती है।

स्केलेटल मसल सेल्स को विशेष रूप से महत्वपूर्ण पाया गया है। एक विशेष प्रकार का स्टेम सेल जो शीथिंग, सरकोलेममा और बेसल लैमिना की दो परतों के बीच रहता है। जो व्यक्तिगत मांसपेशी फाइबर में मायोफाइबर कोशिकाओं को कवर देता है।

जब मायोफिबर सेल्स डैमेज हो जाते हैं, तो सेटेलाइट सेल्स ओवरड्राइव में चली जाती हैं, और अंत में मायोफाइबर कोशिकाओं के साथ फ़्यूज़ हो जाती हैं।

मांसपेशियों की मरम्‍मत में मददगार 

यह न केवल डैमेज को ठीक करने में मदद करता है, बल्कि मांसपेशियों को भी बनाए रखता है। यह समझना कि बीमारी, निष्क्रियता या उम्र के कारण हम मांसपेशियों को कैसे खो देते हैं एक महत्वपूर्ण चुनौती है।

मांसपेशियों की मरम्‍मत के लिए ग्‍लूकोज के स्‍तर को नियंत्रण में रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक
मांसपेशियों की मरम्‍मत के लिए ग्‍लूकोज के स्‍तर को नियंत्रण में रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक

असिस्टेंट प्रोफेसर यासुरो फुरुची, एसोसिएट प्रोफेसर यासुको मानेबे और प्रोफेसर नोबुहारु एल फुजी के नेतृत्व में टोक्यो मेट्रोपॉलिटन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के एक दल ने इस पर अध्ययन किया। स्केलेटल मसल सेल्स शरीर के बाहर कैसे बढ़ते हैं।

ग्रोथ माध्यम में पेट्री डिश में बढ़ने वाले सेल्स को देखते हुए, उन्होंने देखा कि ग्लूकोज के उच्च स्तर का उस दर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा जिस पर वे बढ़े थे। तभी सेलुलर वृद्धि के लिए ग्लूकोज को आवश्यक माना जाता है।

आपके शरीर में अधिक चीनी या ग्लूकोज का मतलब है मसल वियर और टीयर में वृद्धि

इसे एटीपी में बदल दिया जाता है, जो सेलुलर गतिविधि को संचालित करता है। फिर भी, टीम ने पुष्टि की कि कम ग्लूकोज ने बड़ी संख्या में कोशिकाओं का नेतृत्व किया। जिसमें सभी जैव रासायनिक मार्कर सेल प्रसार के अधिक से अधिक डिग्री के लिए अपेक्षित थे।

मांसपेशियों की मरम्‍मत के लिए चीनी कम ही खाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक
मांसपेशियों की मरम्‍मत के लिए चीनी कम ही खाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक

उन्होंने यह भी पुष्टि की कि यह सभी कोशिकाओं पर लागू नहीं होता। कुछ सफलतापूर्वक अपने लाभ के लिए उपयोग करने में कामयाब होती हैं। ग्लूकोज के स्तर को कम रखने से, वे एक ऐसी स्थिति बनाने में सक्षम थे जहां सेटेलाइट सेल्स का प्रसार हो सकता था।

निष्कर्ष यह है कि ये विशेष स्टेम सेल अपनी ऊर्जा को पूरी तरह से अलग स्रोत से प्राप्त करते हैं।

शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया कि पिछले प्रयोगों में उपयोग किए गए शर्करा के स्तर मधुमेह रोगियों में पाए गए थे। यह समझा सकता है कि मधुमेह के रोगियों में मांसपेशियां कमज़ोर होती हैं और इसके महत्वपूर्ण प्रभाव हो सकते हैं कि हम अपनी मांसपेशियों को कैसे अधिक समय तक स्वस्थ रख सकते हैं।

यह भी पढ़ें – फ्रुक्टोज, ग्‍लूकोज और सुक्रोज, सेहत के लिए समझिए मिठास का यह तिलिस्म

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।