सॉरी लेडीज, अगर एक्‍सरसाइज नहीं करेंगी, तो वैक्‍सीन भी आपको कोविड-19 से नहीं बचा पाएगी

जर्मन वैज्ञानिकों द्वारा किए गए कोविड-19 वैक्‍सीन के अध्‍ययन में यह बात सामने आई है कि यह टीका उन लोगों पर ज्‍यादा कारगर होगा जो एक्टिव रहते हैं। यानी अब आपको एक्‍सरसाइज करनी ही पड़ेगी।
वजन पर नियंत्रण रखना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
योगिता यादव Updated: 10 Dec 2020, 01:46 pm IST
  • 98

आपको बहुत काम है, काम करते-करते ही थक जाती हैं, एक्‍सरसाइज का टाइम ही नहीं मिलता, कोई अच्‍छा ट्रेनर भी नहीं मिल रहा… ये व सब बहाने हैं, जो आप एक्‍सरसाइज से बचने के लिए बनाती हैं। पर अब प्‍लीज बहाने बनाना छोडिए और वर्कआउट को अपने रूटीन में शामिल कीजिए। वरना कोविड-19 वैक्‍सीन भी आपको इस खतरनाक बीमारी से नहीं बचा पाएगी।

क्‍या है कोविड वैक्‍सीन और वर्कआउट का कनैक्‍शन

असल में जर्मनी के वैज्ञानिकों ने एक अध्‍ययन किया। इसमें उन्‍होंने वैक्‍सीन उन लोगों को दी, जो फि‍जिकली एक्टिव रहते हैं। और इसके परिणाम बहुत अच्‍छे निकले। इससे यह बात साबित हुई कि कोरोना का टीका तब ज्यादा कारगर होगा जब आप खुद को फिट रखेंगे। खिलाड़ियों पर किए एक वैज्ञानिक अध्ययन से पता लगा कि ज्यादा कसरत करने वाले लोगों को टीके की खुराक दी जाए तो उनके शरीर में ज्यादा प्रतिरक्षा पैदा होती है।

कोविड-19 से बचने के लिए एक्टिव रहना बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

सक्रियता आपकी इम्‍युनिटी भी बढ़ाती है

जर्मन वैज्ञानिकों ने खिलाड़ियों के एक समूह पर यह अध्ययन किया, जिसमें नामी धावक, तैराक, पहलवान, साइकिलिस्ट और दूसरे एथलीट शामिल थे। शोधकर्ता कहते हैं कि सामान्य तौर पर व्यायाम करने से शरीर में प्रतिरक्षा बढ़ती है। यही कारण है कि अक्सर बाहर काम करने वाले लोग सर्दी-जुकाम व वायरस की चपेट में अपेक्षाकृत कम आते हैं। घर में रहकर या डेस्क वर्क करने वालों की शारीरिक कसरत उतनी नहीं होती। इसकी वजह से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर होती है। यह शोध ‘ ब्रेन, बिहेवियर एंड इम्यूनिटी’ जर्नल में प्रकाशित हुआ।

ऐसे किया अध्ययन

सारलैंड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने 45 स्पर्धी एथलीटों व 25 स्वस्थ युवाओं के दो समूह को टीका दिया। कुछ सप्ताह तक दोनों की रक्त जांच की गई। उन्होंने पाया कि एथलीटों के शरीर में इंफ्लूएंजारोधी एंटीबॉडी जल्दी विकसित हो गईं। शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि रोज कसरत व ट्रेनिंग करने से एथलीटों का प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत हुआ, जिससे टीके के प्रति उनके शरीर ने जल्दी प्रतिक्रिया दी।

वैक्‍सीन का ट्रायल अभी तीसरे चरण में है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हर दिन कसरत करने पर ही बढ़ेगी प्रतिरक्षा

‘मेडिसिन एंड साइंस इन स्पोर्ट्स एंड एक्सरसाइज’ जर्नल में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में कहा गया कि प्रतिरक्षा तभी बढ़ेगी जब आप रोजाना कसरत करेंगे। अगर एक समय तय हो तो और भी बेहतर रहेगा। वैज्ञानिकों ने एथलीट के एक समूह के व्यायाम करने के दो घंटे बाद टीका लगाया और दूसरे समूह को व्यायाम करने के एक दिन बाद टीका लगाया। दोनों के शरीर में पैदा हुई एंटीबॉडी की संख्या जांची, जिसमें कोई अंतर नहीं था।

शोधकर्ता डॉ. सेस्टर का कहना है कि इस प्रयोग से उन्होंने पाया कि हर दिन कसरत करने पर ही टीके का ज्यादा लाभ लिया जा सकता है। टीका लगने से पहले ज्यादा व्यायाम करने से कोई विशेष असर नहीं होता।

तो मैडम, आज से, बल्कि अभी से, बहाने सब ड्रॉअर में रखिए और वॉक करें, साइकिलिंग करें, डांस करें, रस्‍सी कूदें, जिसमें आपको सुविधा हो और मन लगता हो, वह एक्‍सरसाइज करें। परिवार का साथ मिल जाए, तब तो बात ही क्‍या है।

  • 98
लेखक के बारे में

कंटेंट हेड, हेल्थ शॉट्स हिंदी। वर्ष 2003 से पत्रकारिता में सक्रिय। ...और पढ़ें

अगला लेख