और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

अध्ययन के अनुसार गर्भवती महिलाओं और शिशुओं को कोविड-19 में हो सकता है गंभीर खतरा

Published on:4 January 2021, 13:00pm IST
एक अमेरिकी अध्ययन से पता चलता है कि कैसे संक्रमित गर्भवती महिलाएं अपने शिशुओं में बहुत कम कोविड-19 एंटीबॉडी स्थानांतरित करती हैं, जिससे गंभीर जटिलताओं का जोखिम बढ़ जाता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 58 Likes
कोविड-19 वैक्सीनेशन के बाद आपके शिशु भी होंगे सुरक्षित। चित्र: शटरस्‍टॉक
बच्चे की। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड-19 और उसके टीकों को लेकर सभी चर्चाओं और शोधों में, अक्सर गर्भवती महिलाओं और उनके बच्चों को भी शामिल किया जाता है। चाहे वह अन्‍य महिलाओं की अपेक्षा कोविड-19 वैक्सीन का प्रभाव हो या स्तन के दूध में सार्स-को वी-2 (SARS-CoV-2) की संक्रामकता। इस संक्रमण के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं, साथ ही यह गर्भावस्था या मातृत्व को कैसे प्रभावित करता है। इसके बारे में लोगों को ज्‍यादा जानकारी नहीं है।

हालांकि, सभी इस मोर्चे को न भूलें और इस पर अधिक ध्यान केंद्रित करें, इसके लिए मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल (MGH) के शोधकर्ताओं ने इस बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी रिलीज की है। अस्पताल के जांचकर्ताओं के अनुसार, गर्भवती महिलाओं और उनके शिशुओं में कोविड-19 का जोखिम गंभीर हो सकता है।

इन निष्कर्षों को जर्नल सेल में प्रकाशित किया गया है। जिसमें उन्होंने तीसरी तिमाही में संक्रमित होने वाली माताओं के माध्यम से यह दर्शाया है कि वे बच्चों को सुरक्षात्मक SARS-CoV-2 एंटीबॉडी के अपेक्षित हस्तांतरण से भी कम प्रदान करती हैं। जो कि उत्पादन के बाद इन एंटीबॉडी में परिवर्तन का कारण हो सकता है। इस प्रक्रिया को ग्लाइकोसिलेशन (glycosylation) कहा जाता है।

क्‍यों जरूरी है इस पर ध्‍यान देना 

इससे हाल ही में जामा नेटवर्क ओपन (JAMA Network Open) में प्रकाशित टीम के हालिया निष्कर्षों के परिणामों को विस्तार मिलता है। जिसमें कहा गया था कि कोविड-19 से ग्रस्‍त गर्भवती महिलाएं SARS-CoV-2 वायरस अपने शिशुओं को पास नहीं करतीं, बल्कि एंटीबॉडी का स्‍थानांतर स्‍तर भी न्‍यूनतम होता है।

कोविड-19 पर यह एक महत्‍वपूर्ण अध्‍ययन है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड-19 पर यह एक महत्‍वपूर्ण अध्‍ययन है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस नवीनतम अध्ययन के लिए, वैज्ञानिकों ने फ्लू (इन्फ्लूएंजा), काली खांसी (पर्टुसिस) और SARS-CoV-2 के खिलाफ माताओं की एंटीबॉडी की तुलना की, साथ ही कैसे इन एंटीबॉडीज को प्लेसेंटा में स्थानांतरित किया गया।

इसके विपरीत, बच्चे में SARS-CoV-2-विशिष्ट एंटीबॉडी का हस्तांतरण न केवल काफी कम हो गया था, बल्कि स्थानांतरित किए गए एंटीबॉडी इन्फ्लूएंजा के खिलाफ, एंटीबॉडी की तुलना में कम कार्यात्मक थे। यह कम स्थानांतरण केवल तीसरी तिमाही के संक्रमण में देखा गया।

वैज्ञानिकों ने पाया कि SARS-CoV-2-specific एंटीबॉडीज में कार्बोहाइड्रेट के अटैचमेंट, जो कि एक ग्लाइकोसिलेशन नामक प्रक्रिया है। इसे तीसरी तिमाही में मां से भ्रूण को स्‍थानांतरित होने वाली एंटीबॉडीज के न्‍यूनतम स्‍तर के लिए दोषी ठहराया गया।

अलग है गर्भवती महिलाओं में एंटीबॉडीज

माताओं के रक्त में SARS-CoV-2-विशिष्ट एंटीबॉडी पर कार्बोहाइड्रेट के अटैचमेंट्स, इन्फ्लूएंजा और पर्टुसिस विशिष्ट एंटीबॉडी (pertussis specific antibodies) पर देखे गए लोगों की तुलना में अलग थे। इस कार्बोहाइड्रेट पैटर्न के कारण कोविड-विशिष्ट एंटीबॉडी माताओं के संचलन में अटक सकते हैं, बजाए इसके कि यह प्लेसेंटा एंटीबॉडी रिसेप्टर्स के माध्यम से प्लेसेंटा में स्थानांतरित हो।

गर्भवती महिलाओं से उनके गर्भस्‍थ शिशु को कम एंटीबॉडीज स्‍थानांतरिक हो पाती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
गर्भवती महिलाओं से उनके गर्भस्‍थ शिशु को कम एंटीबॉडीज स्‍थानांतरिक हो पाती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

दिलचस्प बात यह है कि सबसे अच्छे स्थानांतरण करने वाले कुछ एंटीबॉडी भी सबसे अधिक कार्यात्मक थे, जो कि नेचुरल किलर सेल्स को सक्रिय करते थे। जिससे नवजात शिशुओं को वायरस से लड़ने में मदद मिल सके।

गर्भवती महिलाओं के लिए SARS-CoV-2 के खिलाफ टीके का डिजाइन निहितार्थ है

अध्ययन की सहायक लेखक, एंड्रिया एडलो (Andrea Edlow) (एमडी, एमएससी, एमजीएच में एक मातृ-भ्रूण चिकित्सा विशेषज्ञ और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में स्त्री रोग और प्रजनन जीव विज्ञान के सहायक प्रोफेसर) कहती हैं कि वैक्सीन द्वारा भ्रूण में चयनात्मक हस्तांतरण के लिए इष्ट द्वारा ग्लाइकोसिलेशन पैटर्न के साथ, कोविड-विशिष्ट एंटीबॉडी के उच्च स्तर को ड्राइव करने में सक्षम वैक्सीन रेजिमेंट, नवजात और शिशु को जन्म के समय बेहतर सुरक्षा प्रदान कर सकता है।

हम पहली बार SARS-CoV-2 के प्लेसेंटल एंटीबॉडी ट्रांसफर के नियमों को परिभाषित करने लगे हैं। गर्भवती महिलाओं और उनके नवजात शिशुओं की सुरक्षा के लिए वैक्सीन को तर्कसंगत रूप से डिजाइन करने की हमारी क्षमता को उत्प्रेरित करना होगा।

इसके अलावा, यह समझना कि ट्राइमेस्टर द्वारा एंटीबॉडी ट्रांसफर कैसे बदलता है, गर्भावस्था के दौरान महत्वपूर्ण मुद्दों की ओर इशारा कर सकता है। जो कि माता और उसके शिशु दोनों की सुरक्षा का अनुकूलन करने और टीकाकरण के लिए सबसे अधिक वांछनीय हो सकता है।

यह भी पढ़ें – भारतीय वैज्ञानिकों के अनुसार कोरोना के नये वैरिएंट पर भी कारगर होगी कोरोना वैक्सीन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।