और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

ऑर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर को वैक्सीन की दोनों खुराकों के बावजूद हो सकता है कोविड -19 बढ़ने का खतरा

Updated on: 10 May 2021, 10:39am IST
जो लोग ओर्गन ट्रांसप्लांट करवा रहे हैं, उन्हें ज्यादा सावधान रहने की आवश्यकता है क्योंकि वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद आपको हो सकता है कोरोना।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 91 Likes
कोविड -19 बढ़ने का खतरा चित्र- शटरस्टॉक.
कोविड -19 बढ़ने का खतरा चित्र- शटरस्टॉक.

जॉन्स हॉपकिंस के शोधकर्ताओं ने पाया है कि SARS-CoV-2 के खिलाफ वैक्सीन की दो खुराक जो इस वायरस रोकने मदद कर रही थी वहीं ठीक ओर्गन ट्रांसप्लांट भी कोरोना को रोकने ऐसे ही सहायक रहा है। पर अब ये साधन भी कोरोना को नहीं रोक पा रहे हैं।

ये शोध अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन (JAMA) के जर्नल में प्रकाशित किया गया था।

जानिये अध्ययन का क्या कहना है

ये मार्च में JAMA में प्रकाशित पहले अध्ययन, जिसमें शोधकर्ताओं ने बताया कि भाग लेने वाले ओर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर में से केवल 17 प्रतिशत लोगों ने दो-खुराक कोविड -19 वैक्सीन कैमिन की केवल एक खुराक के बाद पर्याप्त एंटीबॉडी का उत्पादन किया। दूसरी खुराक लेने के बाद, “एंटीबॉडी वाले लोगों में वृद्धि हुई कुल मिलाकर 54 प्रतिशत। हमारे दूसरे अध्ययन में ऑर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर की संख्या जिनके एंटीबॉडी स्तर एसएआरएस-सीओवी -2 संक्रमण को दूर करने के लिए उच्च स्तर तक पहुंच गए थे।

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में एक सर्जरी निवासी ब्रायन बोयर्सकी, एमडी, अध्ययन लेखक ब्रायन बोयार्स्की कहते हैं, जो आमतौर पर स्ट्रांग इम्यून सिस्टम वाले लोगों में देखा जाता है।

हमारे निष्कर्षों के आधार पर, हम सुझाव देते हैं कि ओर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर और अन्य इम्यूनो कॉम्प्रोमाइज रोगियों को टीकाकरण के बाद भी, कोविड -19 से सुरक्षित रहने के लिए एक अच्छी देखरेख की जरूरत है।

जो लोग ठोस ओर्गन ट्रांसप्लांट (जैसे दिल, फेफड़े और गुर्दे) रिसीवर हैं, उन्हें अक्सर अपनी इम्यून सिस्टम पड़ प्रभाव को रोकने के लिए ड्रग्स लेना चाहिए।

अगर आपको कोविड -19 वैक्सीन की दोनों खुराक मिल गई हैं तो भी आपको सावधानी बरतने की जरूरत है

नए अध्ययन ने इस इम्यूनोजेनिक प्रक्रिया का मूल्यांकन किया है मेसेंजर आरएनए (एमआरएनए) टीके ये आधुनिक और फाइजर-बायोएनटेक द्वारा तैयार किए गया है – 658 ओर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर के लिए, जिनमें से किसी के पास कोविड -19 का पहले इलाज नहीं था। प्रतिभागियों ने 16 दिसंबर, 2020 और 13 मार्च, 2021 के बीच अपनी दोनों खुराक को बना लिया।

हाल ही के अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि 658 अध्ययन प्रतिभागियों में से केवल 98 – 15 प्रतिशत – ने पहले टीके की खुराक के बाद 21 दिनों में SARS-CoV-2 का पता लगाया था। ये मार्च के अध्ययन में रिपोर्ट किया गया कि 17 प्रतिशत की तुलना में केवल एक वैक्सीन खुराक से इम्यून सिस्टम में असर दिखाई दिया।

दूसरी खुराक के बाद 29 दिनों में, डिटेक्टिव एंटीबॉडी वाले प्रतिभागियों की संख्या 658 में से 357 हो गई जो 54 प्रतिशत थी। दोनों टीकों की खुराक दी जाने के बाद, 658 में से 301 प्रतिभागियों यानी 46 प्रतिशत -का कोई पता लगाने योग्य एंटीबॉडी नहीं था, जबकि 259 – 39 प्रतिशत – केवल दूसरे शॉट के बाद एंटीबॉडी का उत्पादन कर रहे थे।

कोविड -19 वैक्सीन की दोनों खुराक मिल गई हैं तो भी आपको सावधानी बरतने की जरूरत है, चित्र-शटरस्टॉक.
कोविड -19 वैक्सीन की दोनों खुराक मिल गई हैं तो भी आपको सावधानी बरतने की जरूरत है, चित्र-शटरस्टॉक.

शोधकर्ताओं ने ये भी पाया कि प्रतिभागियों के बीच, एंटीबॉडी प्रतिक्रिया विकसित करने की सबसे अधिक संभावना थी, उन्होंने एंटी-मेटाबोलाइट दवाओं सहित इम्यूनोसप्रेस्सिव रेजिमेंस नहीं लिया और मॉडर्न टीका प्राप्त किया। ये मार्च के एकल-खुराक अध्ययन में देखे गए संघों के समान थे।

अध्ययन के सह-लेखक डोरिए सेगेव, एमडी, पीएचडी, मरजोरी के और जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में अंग प्रत्यारोपण में सर्जरी और महामारी विज्ञान के प्रोफेसर और महामारी विज्ञान अनुसंधान समूह के निदेशक थॉमस पॉज़फ़्स्की ने कहा कि “इन टिप्पणियों को देखते हुए, ओर्गन ट्रांसप्लांट रिसीवर को ये नहीं मान लेना चाहिए कि दो वैक्सीन की खुराक कोरोना से लड़ने के लिए इम्युनिटी की गारंटी देते हैं, ये सिर्फ पहली खुराक से ज्यादा असरदार है”।

कोविड -19 वैक्सीन का लोगों में देखते हुए सेगेव का कहना है कि भविष्य में इन अध्ययनों से इन वैक्सीन सुधार करना चाहिए जैसे इसमें अतिरिक्त बूस्टर खुराक या इम्यूनोसप्रेसेरिव दवाओं के उपयोग करना चाहिए ताकि हमारे शरीर को पर्याप्त एंटीबॉडी स्तर प्राप्त हो सकें।

जॉन्स हॉपकिंस मेडिसिन रिसर्च टीम में बोयार्स्की और सेगेव के अलावा, विलियम वर्बेल, रॉबिन एवरी, आरोन टोबियन, एलन मैसी और जैकलीन गैरोनिक-वांग शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें-कोविड – 19 : डिस्पोजेबल फेस मास्क में हो सकते हैं हानिकारक रासायनिक प्रदूषक, जानिये क्या है सच्चाई

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।