ऑर्गन ट्रांसप्लांट के बाद ज्यादा हो सकता है कोविड-19 का खतरा, जानिए कैसे करनी है देखभाल

Updated on: 24 December 2021, 17:01 pm IST

किसी विशेष स्वास्थ्य स्थिति के चलते कई बार आपको अपने पैरेंट्स या ग्रैंड पैरेंट्स के लिए दान किए गए अंग का प्रत्यारोपण करवाना पड़ता है। पर ध्यान रहे, इसके बाद आपको उनका बहुत ख्याल रखना है।

apne Grand Parents ka rakhen khayal
आपके दादा-दादी को टीएलसी की आवश्यकता है! चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड -19 महामारी के प्रकोप के बाद से, सभी के लिए जीवन काफी बदल गया है। घर के बुजुर्गों को खास देखभाल की जरूरत होती है। लेकिन हाल ही में अगर उनका ऑर्गन ट्रांसप्लांटेशन (organ transplantation) हुआ है, तो यह आवश्यक है कि वे घातक वायरस को पकड़ने से सुरक्षित रहने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतें। परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ शारीरिक दूरी को लगातार बनाए रखना और साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना काफी महत्वपूर्ण है। साथ ही हाथों की अच्छी स्वच्छता के साथ-साथ सुरक्षित मास्किंग प्रोटोकॉल का पालन करना भी महत्वपूर्ण है।

ट्रांसप्लांट के बाद, उच्च जोखिम वाले बुजुर्ग रोगियों को कोविड -19 से गंभीर बीमारी के लिए अधिक जोखिम होने की संभावना है। गंभीर मामलों में, ठीक होने में 6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। चूंकि ऑर्गन के प्राप्तकर्ता इम्यूनोसप्रेसिव दवाएं लेते हैं, इसलिए उन्हें सर्दी या फ्लू जैसे वायरस से संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है।

इम्युनिटी हो सकती है प्रभावित 

ऑर्ग्रेन ट्रांसप्लांट के बाद बड़ो की इम्युनिटी कमजोर हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

बड़े ऑर्गन ट्रांसप्लाट (जैसे हृदय, फेफड़े और गुर्दे) वाले वृद्ध लोगों को अक्सर अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली  बढ़ाने और अस्वीकृति को रोकने के लिए दवाएं लेने की आवश्यकता होती है। इस तरह के रेजीमेंन्स ट्रांसप्लांट प्राप्तकर्ता फॉरेन सब्सटेंस के प्रति एंटीबॉडी बनाने की क्षमता में हस्तक्षेप करते हैं। जिसमें टीके के जवाब में उत्पादित सुरक्षात्मक भी शामिल हैं, जिससे वे कोरोनावायरस जैसी घातक बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं।

यहां बताया गया है कि कोविड -19 के दौरान ऑर्गन ट्रांसप्लांट के बाद बड़े बुजुर्गों की देखभाल कैसे करें

लैब में सुरक्षा उपाय अपनाना है जरूरी 

यदि किसी प्रकार का लैब टेस्ट स्थगित नहीं किया जा सकता है या किसी कारण घर में नहीं हो सकता है, तो ध्यान रखने वाले को यह चीज सुनिश्चित करनी चाहिए कि जब उनको टेस्ट के लिए लैब ले जाया जाए तब उनके स्वास्थ्य से जुड़ी चीजों का ध्यान रखा जाए। 

अस्पतालों, प्रयोगशालाओं, डॉक्टरों के कार्यालयों और डायलिसिस केंद्रों को रोगियों और कर्मचारियों का मूल्यांकन करना चाहिए, जैसे कि तापमान की जांच करके और प्रश्न पूछकर, प्रत्येक व्यक्ति को सक्रिय कोविड- I9 के लिए मूल्यांकन करना चाहिए। अगर यह संदेह है कि किसी को वायरस है, तो उन लोगों को सभी स्वस्थ लोगों से अलग रखा जाना चाहिए।

 स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करें

यह भी महत्वपूर्ण है कि बुजुर्ग मरीजों को सुरक्षित रखने और कोविड-19 होने की संभावना को कम करने में मदद के लिए आवश्यक उपाय किए जाएं। घर से बाहर निकलते समय उन्हें मास्क जरूर पहनाएं। उनके और अन्य लोगों के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें। 

अपने हाथों को बार-बार धोना याद रखें और साथ ही साथ हाथ धोने की सुविधा न होने पर हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें। अपनी आंख, मुंह और नाक को छूने से बचें।

हर स्थिति के लिए अच्छी तरह तैयार रहें

सर्जिकल मास्क, हैंड सैनिटाइज़र और डिस्पोजेबल दस्ताने की आपूर्ति रखें। यदि आप किसी चिकित्सा सुविधा में किसी के संपर्क में आते हैं या यदि कोई तकनीशियन आपके घर आता है, तो आप दोनों किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचे रहें। इन-होम विज़िट के लिए, किसी भी सतह को कीटाणुरहित करना सुनिश्चित करें, जिसे किसी अन्य व्यक्ति ने छुआ हो, जैसे कि डोर नॉब्स और काउंटरटॉप्स।

उनका टीकाकरण कराएं

सामान्य आबादी की तरह, यह आवश्यक है कि इस श्रेणी के लोगों को ठीक से टीका लगाया जाए। क्योंकि टीके वायरस से आवश्यक ढाल प्रदान करेंगे। साथ ही, भविष्य के अध्ययनों में इस आबादी में कोविड-19 वैक्सीन की प्रतिक्रियाओं में सुधार करना चाहिए। जिसमें अतिरिक्त बूस्टर खुराक या सभी इम्यूनोसप्रेसिव दवाओं के उपयोग को संशोधित करना शामिल है। ताकि इन रोगियों में पर्याप्त एंटीबॉडी स्तर बनाए जा सकें।

घर के भीतर देखभाल

यह संभव है कि रोगी घर पर अधिकतम समय बिता रहा होगा। इसलिए, यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि उच्च स्पर्श वाली सतहों, जैसे कि दरवाज़े के हैंडल, रसोई और बाथरूम की सतहों को नियमित रूप से साफ किया जाए। यह घर में किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाना चाहिए जिसका ट्रांसप्लांट ना हुआ हो। 

अगर हो सके तो अच्छे मौसम में खिड़कियां खुली रखने की कोशिश करें। यह आपके घर के अंदर और बाहर हवा के प्रवाह को बढ़ाएगा।

organ donation kaise karwaye
कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए सावधानी नहीं भूलनी चाहिए। चित्र : शटरस्टॉक

चलते चलते 

ऑर्गन ट्रांसप्लांट के बाद रोगियों और उनकी देखभाल करने वालों के मन में बहुत सारे सवाल और चिंताएं हो सकती हैं। फिलहाल, इस बारे में बहुत कम डेटा उपलब्ध है कि क्या प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ता या पुरानी बीमारियों वाले लोग कोरोनावायरस से अधिक गंभीर रूप से प्रभावित हो सकते हैं। हालांकि, ऊपर बताए गए सुझावों का पालन करते हुए, अपने प्रियजनों को अच्छी तरह से सुरक्षित रख सकते हैं।

यह भी पढ़े : हल्के लक्षण वाला ओमिक्रोन भी हो सकता है जानलेवा, एक्सपर्ट बता रहे हैं इसका कारण

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें