हल्के लक्षण वाला ओमिक्रोन भी हो सकता है जानलेवा, एक्सपर्ट बता रहे हैं इसका कारण

Published on: 23 December 2021, 18:11 pm IST

दक्षिण अफ्रीका के आंकड़े बताते हैं कि ओमिक्रोन बहुत तेजी से एक बड़ी आबादी को चपेट में ले सकता है। इसके हल्के लक्षण भी ज्यादा मौतों का कारण बन सकते हैं।

corona ka sub strain
यूरोप में तेजी से फ़ैल रहा है सब-स्ट्रेन। चित्र : शटरस्टॉक

बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने दुनिया को तेजी से फैलने वाले SARS-CoV-2 संस्करण के बारे में सचेत किया था। जिसे अब ओमिक्रोन (Omicron) के नाम से जाना जाता है। तब से अब तक बमुश्किल दो महीने ही बीते होंगे और दुनिया भर के शोधकर्ताओं का फोकस ओमिक्रोन ही हो गया है। कभी इसे हल्के लक्षणों वाला बताया जा रहा है तो कभी तेजी से म्यूटेट करने वाला। पर आपके लिए यह जान लेना जरूरी है कि हल्के लक्षणों वाला कोविड-19 का यह नया वैरिएंट ओमिक्रोन जानलेवा भी हो सकता है।

क्या कहता है विश्व स्वास्थ्य संगठन 

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने शुक्रवार 9 दिसंबर को सूचित किया कि, 63 देशों में ओमिक्रोन मामलों का पता चला है। जबकि दो दिन पहले यह केवल 57 देशों में ही था। डब्ल्यूएचओ के अनुसार वैरिएंट के संबंध में वैश्विक जोखिम का स्तर “बहुत अधिक” है। “यह संभावना है कि कम्युनिटी स्प्रेडिंग के मामले में ओमिक्रोन डेल्टा संस्करण से भी आगे निकल सकता है।”

ओमिक्रोन कितनी तेजी से फैल रहा है?

20 दिसंबर तक लगभग 100 देशों ने ओमिक्रोन की उपस्थिति की सूचना दी। दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रोन का तेजी से बढ़ना शोधकर्ताओं को सबसे ज्यादा चिंतित कर रहा है। क्योंकि इससे पता चलता है कि वेरिएंट कोविड-19 (COVID-19) मामलों में कहीं और विस्फोटक वृद्धि कर सकता है।

South africa ka data batata hai ki ye tezi se fail sakta hai
साउथ अफ्रीका के आंकड़े बताते हैं कि यह तेजी से फैल सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

1 दिसंबर को, दक्षिण अफ्रीका ने 8,561 मामले दर्ज किए, जो 26 नवंबर को दर्ज किए गए 3,402 और नवंबर के मध्य में कई सौ प्रतिदिन थे। जिनमें से अधिकांश विकास गौतेंग प्रांत में दर्ज किए गए।

महामारी विज्ञानी R (संक्रमरण रेट) का उपयोग करके महामारी के विकास को मापते हैं। प्रत्येक संक्रमण से उत्पन्न नए मामलों की औसत संख्या। नवंबर के अंत में, जोहान्सबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रीय कम्युनिकेबल रोग संस्थान (एनआईसीडी) ने निर्धारित किया कि गौतेंग रेट आर 2 (संक्रमण रेट)  से ऊपर था। विकास के उस स्तर को आखिरी बार महामारी के शुरुआती दिनों में देखा गया था। इस हफ्ते अमेरिका ने बताया कि कोरोना से संक्रमित कम से कम 75 फीसदी मामले अकेले ओमिक्रोन वैरिएंट के हैं।

कैथोलिक विश्वविद्यालय के एक विकासवादी जीवविज्ञानी टॉम वेंसलीर्स कहते हैं, “ओमिक्रोन डेल्टा की तुलना में बहुत तेजी से फैलने और बहुत अधिक लोगों को संक्रमित करने की क्षमता रखता है।”

बेल्जियम में COVID-19 मामलों में वृद्धि और अनुक्रमण डेटा के आधार पर, वेंसलीर्स का अनुमान है कि ओमिक्रोन एक ही समयावधि में डेल्टा के रूप में तीन से छह गुना अधिक लोगों को संक्रमित कर सकता है। “यह वायरस के लिए अच्छा है, लेकिन हमारे लिए नहीं”।

क्या हल्का ओमिक्रोन भी घातक हो सकता है ?

शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया था कि कोविड -19 के ओमिक्रोन संस्करण से संक्रमित रोगियों में हल्के लक्षण थे, जिससे उम्मीद थी कि भविष्य में वायरस कम विषाणु वाला बन जाएगा।

यह एक आम धारणा के साथ फिट बैठता है कि समय के साथ रोगजनक कम मौतों या कम गंभीर बीमारियों का कारण बनेंगे। क्योंकि वे मेजबान को कम नुकसान पहुंचाने के लिए विकसित होते हैं। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे दोहराना जारी रख सकें। डब्ल्यूएचओ ने नोट किया कि प्रारंभिक निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि डेल्टा की तुलना में ओमिक्रोन संक्रमण “कम गंभीर” हो सकता है।

लेकिन वैश्विक स्वास्थ्य प्राधिकरण ने कहा कि तनाव की गंभीरता के बारे में कोई ठोस निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी। इस पर डब्ल्यूएचओ ने लिखा, “गंभीरता प्रोफाइल को समझने के लिए अधिक डेटा की आवश्यकता है।”

दक्षिण अफ्रीका के आंकड़ों काे समझना है जरूरी 

लेकिन दक्षिण अफ्रीका में ओमाइक्रोन संक्रमण से होने वाली हल्की बीमारी की रिपोर्ट इस तथ्य को प्रतिबिंबित कर सकती है कि देश में अपेक्षाकृत युवा आबादी है, जिनमें से कई पहले ही SARS-CoV-2 के संपर्क में आ चुके हैं।

हालांकि अध्ययन एक काल्पनिक प्रक्षेपण है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि अटकलों के बजाय रक्षात्मक मोड में रहना ज्यादा बेहतर है।

ओमिक्रोन के तेजी से उभरने और संचरण की उच्च दर से संबंधित विशेषज्ञ कहते हैं, “शुरुआती संकेत हैं कि वैरिएंट के गंभीर मामलों वाले घातक या अस्पताल भर्ती रेट पिछली लहरों के समान अधिक नहीं हैं।

मगर हल्का भी हो सकता है जानलेवा

ओमिक्रोन कितना संक्रामक है और यह कितना घातक हो सकता है इस बारे में अभी तक पर्याप्त डाटा उपलब्ध नहीं है। पर यह देखा गया है कि टीका लगवाने वाले लोग भी इससे संक्रमित हो रहे हैं। गौंडर कहते हैं, “यह अब तक का सबसे संक्रामक रूप प्रतीत होता है। डेल्टा की तुलना में ओमिक्रोन 2-3 गुना अधिक संक्रामक प्रतीत होता है।”

iske symptoms bahut light hain
ओमिक्रोन के लक्षण अभी तक बहुत हल्के हैं। चित्र: शटरस्टॉक

वे आगे कहते हैं, लोगों को ओमिक्रॉन संस्करण से बचाने के लिए पूर्व कोविड संक्रमण से अपनी प्राकृतिक प्रतिरक्षा पर भरोसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि यहां जोखिम 2 से 3 गुना ज्यादा है और आप ज्यादा लोगों को संक्रमित कर सकते हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा लगता है कि अन्य वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रोन वैरिएंट कम वायरल हो सकता है। यहां विषाणु से तात्पर्य है कि एक संक्रमित व्यक्ति को कितनी गंभीर बीमारी हो सकती है।

यदि ओमिक्रोन कम विषाणुजनित है, तो क्या यह अच्छी खबर नहीं है?

हां और नहीं, इसके जवाब में गौंडर ने कहा।

“अगर यह एक हल्की बीमारी है, तब भी मौतों के आंकड़े ज्यादा हो सकते हैं। मान लीजिए कि COVID में 1% की मृत्यु दर है और 1 दिन में 100 लोग संक्रमित होते हैं। यानी एक मौत।”

जबकि ओमिक्रोन की दर .25% है, लेकिन अगर तेजी से फैलने के कारण एक दिन में 400 मामले आते हैं, क्योंकि यह अधिक संक्रामक नहीं है, तब भी यह एक मौत तो होगी ही। अगर तेजी से संक्रमण फैलने से 1000 केस आते हैं, तो लगभग 3 लोगों के मरने की आशंका है।

” अत: हमें वास्तव में बहुत सावधान रहना होगा जब हम इसे कम घातक और कम गंभीर कहते हैं। जनसंख्या स्तर पर, ओमिक्रोन डेल्टा की तरह ही घातक हो सकता है। भले ही यह हल्के रोग का कारण हो, पर अधिक संक्रमण अधिक मौतों का कारण बन सकता है।”

क्या कोविड टेस्ट वैरिएंट को पहचानने में सक्षम हैं? वायरोलोजिस्ट गेडिन कहते हैं, “दुर्भाग्य से, पीसीआर टेस्ट से वह जानकारी नहीं मिल सकती।”

क्या है वैक्सीन की प्रभावशीलता 

दक्षिण अफ्रीका में वैरिएंट का तेजी से बढ़ना संकेत देता है कि इसमें प्रतिरक्षा से बचने की कुछ क्षमता है। महामारी की शुरुआत के बाद से बढ़ी हुई मृत्यु दर के आधार पर, दक्षिण अफ्रीका के लगभग एक-चौथाई लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया था। साथ ही , यह संभावना है कि आबादी का एक बड़ा हिस्सा SARS-CoV-2 से पहले की लहरों में संक्रमित था।

ab bhi apko covid guidelines ko follow karne ki zarurat hai
ये आदतें आपको ओमिक्रॉन के संक्रमण से बचा सकती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

फिर भी टीकाकरण जरूरी है

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के एक इम्यूनोलॉजिस्ट माइल्स डेवनपोर्ट कहते हैं कि बेशक ओमिक्रोन एंटीबॉडी को चकमा दे सकता है। पर इसका मतलब यह नहीं है कि टीकाकरण और पूर्व संक्रमण से शुरू होने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया संस्करण के खिलाफ कोई सुरक्षा प्रदान नहीं करेगी।

अभी तक प्रतिरक्षा अध्ययनों से पता चलता है कि एंटीबॉडी को बेअसर करने के बाद भी यह लोगों को COVID-19 के गंभीर रूपों से बचा सकता है। हालांकि असल स्थिति तो समय बीत जाने व अधिक डाटा उपलब्ध होने के बाद ही साफ होगी।

अभी भी कोविड अनरूप व्यवहार यथा मास्क, दूरी, भीड़ भाड़ से बचाव व सफाई रखना ही उपयोगी रहेगा।

यह भी पढ़ें- जानिए क्या है बच्चों के लिए तैयार की गई कोविड वैक्सीन जायकोव डी, जिसे यूपी में दे दी गई है मंजूरी

Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें