National Safe Motherhood Day : डियर वर्किंग लेडीज, हेल्दी प्रेगनेंसी के लिए काम के दौरान इन 5 चीजों पर भी दें ध्यान

आप गर्भवती हैं, तो यह आपके जीवन का एक विशेष पड़ाव है। इसे किसी तरह का अवगुण या कमी मानकर न तो काम से पीछे हटें और न ही मदद मांगने में संकोच करें।
working hai aur pregnent to in tips ka rakhen khas dhyaan
जानिए काम के साथ सुरक्षित गर्भावस्था के टिप्स। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 11 Apr 2023, 19:49 pm IST
  • 120

इस समय ज्यादातर महिलाएं वर्किंग हैं। कॅरियर बनाने और फैमिली प्लान करने की उम्र लगभग साथ-साथ चलती है। इन दोनों जिम्मेदारियों के बीच की कश्मकश कभी-कभी तनाव और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन जाती है। इसलिए अगर आप कामकाजी हैं और मां बनने वाली हैं, तो अपनी और अपने होने वाले बच्चे की सुरक्षा के लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा। आज राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस (National Safe Motherhood Day) के अवसर पर आइए जानते हैं कामकाजी महिलाओं के लिए सेफ और हेल्दी प्रेगनेंसी की जरूरी बातें।

प्रेगनेंसी के दौरान पूरे 9 महीने की छुट्टी किसी भी सेक्टर में नहीं होती। आमतौर पर कंपनी 3 या 6 महीने की छुट्टी देती है। इसलिए यदि आप वर्किंग हैं और मां बनने वाली हैं तो अपनी सेहत के प्रति विशेष ध्यान दें।

एक सही हेल्थ कंडीशन के साथ कंसीव करना बहुत जरूरी है। जबकि ऑफिस का स्ट्रेस, ट्रैवलिंग, लॉन्ग वर्किंग आवर्स आपकी प्रेगनेंसी को जटिल बना सकते हैं। इसलिए अपने और अपने होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए आपको गर्भावस्था के दौरान कुछ चीजों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।

नेशनल सेफ मदरहुड डे (National Safe Motherhood Day)

हर साल 11 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस यानी कि नेशनल सेफ मदरहुड डे के रूप में मनाया जाता है। व्हाइट रिबन रिलायंस इंडिया के अनुरोध पर 2003 में भारत में पहली बार 11 अप्रैल को इस दिन की शुरुआत की गई थी। इसे मनाने का मुख्य मकसद गर्भावस्था, डिलीवरी, पोस्ट डिलीवरी और प्रेगनेंट महिलाओं के सेहत संबंधी जानकारी एवं सेवाओं को लेकर लोगों के प्रति जागरूकता फैलाना है।

इस दिन अस्पताल, चिकित्सा संस्थान, एनजीओ, महिलाओं के लिए काम करने वाली संस्थानों से लेकर अलग-अलग स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। जिसके माध्यम से लोगों को प्रेगनेंसी के प्रति जरूरी जानकारी देने और उन्हें जागरूक करने की कोशिश की जाती है।

हालांकि, इस दिन को मनाने का मकसद केवल महिलाओं को ही जानकारी देना नहीं है, बल्कि पुरुषों को भी जागरुक बनाना है। ताकि वे परिवार या कार्यस्थल पर किसी गर्भवती महिला को सहयोग कर सकें।

pregnant mahilayen in baton ka rakhen khas dhyaan
अगर आप वर्किंग हैं और मां बनने वाली हैं, तो आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होगा। चित्र : शटरस्टॉक

प्रेगनेंसी के दौरान लापरवाही बढ़ा रही है मैटरनल मोर्टालिटी रेट

हर साल प्रेगनेंसी के दौरान सही देखभाल न होने के कारण बड़ी संख्या में महिलाओं की गर्भावस्था के दौरान मृत्यु हो जाती है। वहीं मिसकैरेज, जन्म के तुरंत बाद बच्चे की मृत्यु, कुपोषित बच्चे का जन्म, प्रीमेच्योर डिलीवरी जैसी समस्याएं भी लापरवाही का परिणाम हैं।

इसका सबसे बड़ा कारण प्रेगनेंसी के दौरान बरती गई लापरवाही और उचित जानकारी का अभाव है। यदि कंसीव करने का सोच रही हैं तो कपल्स के साथ-साथ परिवार के सभी लोगों को प्रेगनेंसी से जुड़ी उचित जानकारी होना अनिवार्य है।

यदि आप प्रेगनेंसी में ऑफिस जाती हैं, तो सेफ मदरहुड के लिए रखें इन बातों का ध्यान

1. लंबे वर्किंग ऑवर हैं तो बैठने की व्यवस्था हो ठीक

प्रेगनेंसी के दौरान छोटी-छोटी नियमित गतिविधियां जैसे कि बैठना, लंबे समय तक खड़ा रहना, यह सभी काफी मुश्किल टास्क बन जाते हैं। ऐसी स्थिति में ऑफिस के वर्किंग आवर में लंबे समय तक बैठने के कारण कई सारी समस्याएं हो सकती हैं। जैसा कि आप सभी जानती होंगी लंबे समय तक बैठकर काम करने से पैरों में सूजन आ जाता है और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है।

आपको इन्हें मैनेज करना आना चाहिए। एक उचित अवधि के बाद कुछ देर के लिए इधर-उधर टहलने की कोशिश करें। यह आपके मांसपेशियों मैं टेंशन पैदा नहीं होने देता और शरीर में खासकर पैरों में फ्लूइड को जमा होने से रोकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

बैठने की कुर्सी का ध्यान रखें। अपने हिसाब से एक कंफर्टेबल चेयर की डिमांड करना बिल्कुल भी गलत नहीं है। जैसा कि प्रेगनेंसी के दौरान आपका वेट और पॉस्चर बदलता है, ऐसे में पहले वाले चेयर का इस्तेमाल करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। साथ ही बैठते वक्त पीछे पीठ के पास तकिया लगाना न भूलें और पैरों को ऊंचा रखने के लिए पैरों के नीचे स्टूल या अन्य स्पोर्ट लगा सकती हैं।

pregnancy me sitting ka rakhen dhyaan
प्रेगनेंसी में लंबे समय तक बैठे न रहें। चित्र : शटरस्टॉक

2. दूर है ऑफिस, तो पैरों का रखें ध्यान

यदि आप ऑफिस में लंबे समय तक खड़ी रहती हैं, या ट्रैवलिंग के दौरान आपको खड़ा रहना पड़ता है, तो ऐसे में अपने दोनों पैर पर भार न दें। एक पैर पर खड़ी रहें और एक पैर को फूटरेस्ट, लूज स्टूल और बॉक्स पर रख सकती हैं। ठीक इसी प्रकार कुछ कुछ देर में अपने दोनों पैरों को रेस्ट देती रहें। साथ ही कंफर्टेबल शूज और एक अच्छे आर्च सपोर्ट वाले फुटवेयर का चयन करें।

और हां, अगर आपका ऑफिस दूर है, आपको लंबी दूर तय करनी पड़ती है तो सार्वजनिक वाहन में भी सीट मांगने से परहेज न करें। यह आपका अधिकार है।

यह भी पढ़ें : पेट की गर्मी बन रही है एक्ने, पिम्पल और ब्रेकआउट का कारण, तो ये 4 आयुर्वेदिक उपचार हैं आपके लिए

3. प्रेगनेंसी में कभी भी कमर से न झुकाएं

यदि आप प्रेग्नेंट हैं और आपको झुक कर किसी भी चीज को उठाना है। तो चाहे वह कितनी ही हल्की चीज हो आप इस बात का ध्यान रखें कि अपने कमर के पास से खुद को बेंड न करें। हमेशा अपने घुटनों को मोड़ते हुए नीचे की ओर झुकने की कोशिश करें। साथ ही यदि आप नीचे की ओर झुक चुकी हैं तो अपने बॉडी को उस पोजीशन में कभी भी ट्विस्ट न करें। हालांकि, प्रेगनेंसी के 3 से 4 महीने के बाद बेन्डिंग को जितना हो सके उतना अवॉइड करें परंतु इमरजेंसी में इस तरीके को अपनाना उचित रहेगा।

4. स्ट्रेस मैनेजमेंट है बहुत जरूरी

आमतौर पर वर्किंग महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान जो ऊर्जा अपनी देखभाल पर व्यक्त करनी चाहिए वह ऑफिस के कामकाज पर खर्च हो जाती है। साथ ही प्रेगनेंसी में मूड स्विंग्स होना बिल्कुल आम है, ऊपर से ऑफिस में काम का प्रेशर महिलाओं को काफी ज्यादा स्ट्रेस आउट कर देता है। जिसकी वजह से बच्चे और मां दोनों की सेहत के प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है। ऐसी स्थिति में अपने काम को मैनेज करना सीखे और उन कार्यों को अधिक प्राथमिकता दें, जिनकी ज्यादा जरूरत है।

यदि आप पर अधिक दबाव बनाया जा रहा है या आपको किसी भी वजह से सीनियर और को वर्कर द्वारा प्रेशर दिया जा रहा है, तो आप इस बारे में एचआर से बात कर सकती हैं। क्योंकि हर ऑफिस में प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए कुछ स्पेसिफिक नियम होते हैं, जिसके तहत आपको कंप्लेंट करने का पूरा हक है।

साथ ही यदि आपको मदद की जरूरत है, तो अपने को वर्कर और अपने सीनियर से मदद मांगने में कभी भी संकुचित न हों। वर्किंग हावर के बीच ऑफिस में कुछ समय निकालकर ब्रीदिंग एक्सरसाइज, सीट पर बैठे बैठे आंखें बंद करके मेडिटेशन करने का प्रयास करें। यह आपको रिलैक्स रहने में मदद करेगा।

aaraam krna hai bhut jaruri
काम के बीच रेस्ट जरूर करें करें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

5. थकान महसूस हो तो आराम करें

प्रेगनेंसी के दौरान आम दिनों की तुलना में आप काम करते हुए जल्दी थकती हैं। ऐसी स्थिति में आपको अपने खान-पान से लेकर लाइफस्टाइल की अन्य सभी चीजों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। आयरन और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें यह आपके शरीर में खून की कमी नहीं होने देता और ऊर्जा शक्ति को बनाए रखता है।

लगातार लंबे समय तक बैठकर काम न करें। एक उचित अवधि के बाद थोड़े थोड़े देर का ब्रेक लेती रहें। इस दौरान आप अपने मन को हल्का करने के लिए मेडिटेशन कर सकती है। या फिर अपने किसी खास से थोड़ी देर बातचीत करना भी आपके मूड को लाइट कर देगा।

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना सबसे ज्यादा जरूरी है। वॉटर बोतल को हमेशा अपने पास रखें और पूरे दिन में थोड़ी-थोड़ी देर पर बॉडी को फ्लूइड जरूर दें। ताकि इसे हाइड्रेटेड रहने में मदद मिले और आपको थकान महसूस न हो।

यह भी पढ़ें : हीट स्ट्रोक और डिहाइड्रेशन से बचना है, तो मेलन्स और बैरीज़ से तैयार करें ये 5 समर कूलर्स, हम बता रहे हैं रेसिपी

  • 120
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख