वैलनेस
स्टोर

एक दिन में 6 कप से ज्‍यादा कॉफी बढ़ा सकती है हृदय रोगों का जोखिम, जानिए क्‍या कहते हैं शोध

Published on:19 February 2021, 13:11pm IST
कॉफी का कप आपके दिन की बेहतर शुरुआत हो सकती है। कभी थकावट भरी शाम में ये आपका इंस्‍टेंट एनर्जी बूस्‍टर भी हो सकता है। पर इसका अधिक सेवन आपकी सेहत के लिए खतरनाक भी हो सकता है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
उपवास के दौरान चाय या कॉफी ज़रूर पिएं। चित्र: शटरस्टॉक

ब्लैक कॉफ़ी, लाते, एक्सप्रेसो, दुनिया में ज़्यादातर लोग कॉफ़ी पीने के आदी हैं, बिना कॉफी पिए उनके दिन की शुरुआत नहीं होती है। लेकिन क्या आप जानती हैं कि ज़रुरत से ज्यादा कॉफी पीना, आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है!

जी हां.. अगर आप एक दिन में 6 से ज्यादा कप कॉफी पीते हैं तो सावधान हो जाइये क्योंकि ये ह्रदय रोग के खतरे को बढ़ावा दे सकती है। जानिये इससे जुड़े अध्ययन में क्या सामने आया है:

जेनेटिक्स बेस्ड स्टडी में सामने आया है कि : एक दिन में 6 से ज्यादा कप कॉफ़ी पीने से, रक्त में लिपिड (वसा) की मात्रा बढ़ सकती हैं, जो सीवीडी (cardiovascular diseases ,CVD) के जोखिम को काफी बढ़ा सकती हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि कॉफी में अधिक मात्रा में लिपिड होते हैं, जो कि ह्रदय रोग का कारक है। इसलिए आप जितनी ज्यादा मात्रा में कॉफी पिएंगे, खतरा उतना ज्यादा बढ़ता जाएगा।

कॉफ़ी बीन्स में कैफेस्टोल मौजूद होता है जो ह्रदय रोग का खतरा बढ़ाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कॉफ़ी बीन्स में कैफेस्टोल मौजूद होता है जो ह्रदय रोग का खतरा बढ़ाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कॉफ़ी बीन्स में मुख्य रूप से कैफेस्टोल मौजूद होता है, जो ज़्यादातर फ्रेंच प्रेस और टर्किश कॉफ़ी में पाया जाता है। जबकि एक्सप्रेसो कॉफी में भी यह अच्छी मात्रा में मौजूद होता है, जो आगे जाकर ह्रदय रोग का खतरा बढ़ाता है।

क्‍या कहते हैं विशेषज्ञ

दक्षिण ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय (University of South Australia) की शोधकर्ता एलिना हाइपोपेन कहती हैं, “हालांकि, कॉफी हमेशा से ही वैज्ञानिक बहस का मुद्दा रही है और क्योंकि ये दुनिया भर में सबसे ज्यादा पी जाती है, इसलिए इससे जुड़े नुक्सान के बारे में पता होना बेहद ज़रूरी है।”

एलिना बताती है, “वैश्विक स्तर पर हर दिन अनुमानित 3 बिलियन कप कॉफी पी जाती है। साथ ही, सीवीडी यानि cardiovascular diseases दुनिया भर में होने वाली मृत्यु का सबसे बड़ा कारण है, जिससे हर साल तक़रीबन 17.9 मिलियन लोगों की मृत्यु हो जाती है।”

फिल्टर्ड कॉफ़ी अन्य कॉफ़ी से बेहतर है। चित्र: शटरस्‍टॉक
फिल्टर्ड कॉफ़ी अन्य कॉफ़ी से बेहतर है। चित्र: शटरस्‍टॉक

तब क्‍या छोड़ देना चाहिए कॉफी पीना

प्रोफेसर हाइपोपेन कहती हैं कि अगर “कॉफ़ी पीना इतना ज़रूरी है तो फिल्टर्ड और इंस्टेंट कॉफ़ी पिए क्योंकि उसमे लिपिड और कैफेस्टोल दोनों बहुत कम होता है। इसलिए यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है। साथ ही हर चीज़ अगर संतुलित मात्रा में ली जाए तो उसके हानिकारक प्रभावों से बचा जा सकता है।”

हम पहले से ही हर चीज को संतुलित मात्रा में लेने की वकालत करते रहे हैं। इस अध्‍ययन ने भी यह साबित कर दिया है कि आवश्‍यकता स अधिक कॉफी का सेवन आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। दिन भर में बस दो से तीन कप कॉफी आपके लिए पर्याप्‍त है।

यह भी पढ़ें : कोरोनावायरस का नया स्‍ट्रेन : जानिए कैसे हमारा शरीर कर सकता है इससे मुकाबला

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।