70,000 के पार हुए दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामले, डब्ल्यूएचओ की सावधान रहने की अपील

दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामले 70,000 के आंकड़े को पार कर गए हैं। इस बात पर डब्ल्यूएचओ नें चीन जताई है, लेकिन कुल संख्या में गिरावट देखी गयी है।

Monkeypox cases tezi se badh rahe hain
मंकीपॉक्स के मामले बढ़ रहे हैं। चित्र शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 13 October 2022, 18:00 pm IST
  • 101

कोरोनावायरस के खिलाफ जंग के बाद, दुनिया में मंकीपॉक्स के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है। इस बात को मद्दे नज़र रखते हुये इस साल जुलाई में इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ग्लोबल इमेर्जेंसी घोषित किया गया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस के अनुसार, मंकीपॉक्स के मामले 70,000 को पार कर चुके हैं और अब तक 26 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

भले ही मामलों की संख्या में गिरावट आई हो, लेकिन डब्ल्यूएचओ ने लोगों से अनुरोध किया है कि वे अपने बचाव में कोई कमी न करें। डब्ल्यूएचओ ने जोर देकर कहा कि यह इसका में “सबसे खतरनाक” चरण हो सकता है क्योंकि कुछ देशों में अभी भी संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।

डबल्यूएचओ के अनुसार घातक चरण में प्रवेश कर रहा है मंकीपॉक्स

जिनेवा में एक संवाददाता सम्मेलन में, डॉ टेड्रोस ने इस बात पर प्रकाश डाला कि जहां मंकीपॉक्स के मामलों में कमी आई है, वहीं 21 देशों ने वृद्धि दर्ज की है, जो पिछले सप्ताह में दर्ज किए गए सभी मामलों का लगभग 90 प्रतिशत है। उन्होंने इस ‘डिकलाइनिंग आउटब्रेक’ को खतरनाक बताया क्योंकि इससे लोगों को विश्वास हो सकता है कि अभी चिंता की बात नहीं है।

उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे अपने बचाव को कम न होने दें क्योंकि मंकीपॉक्स अभी भी वैश्विक चिंता का कारण बना हुआ है। उन्होंने कहा कि देशों को अपनी परीक्षण क्षमता बढ़ाने और वृद्धि को रोकने के लिए रुझानों की निगरानी करने की आवश्यकता है।

दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामले

मई की शुरुआत से मंकीपॉक्स के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई थी। यूरोप में करीब 25,000 की तुलना में अब तक अमेरिका में 42,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। रिपोर्ट के अनुसार, अफ्रीकी देशों के बाहर पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों में मंकीपॉक्स संक्रमण मई की शुरुआत से बढ़ गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी जारी कर मंकीपॉक्स से यौन संक्रामक रोगों की तरह सावधान रहने को कहा है। चित्र : शटरस्टॉक

लगभग 26,000 मामलों के साथ अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश है। ब्राजील में मंकीपॉक्स के मामले 8,147 अधिक हैं, इसके बाद स्पेन में 7,209 और फ्रांस में 4,000 मामले हैं। जर्मनी, पेरू, कोलंबिया, मैक्सिको और कनाडा अन्य देश हैं जिन्होंने संक्रमण की उच्च संख्या की सूचना दी है। ये सभी देश दुनिया भर में कुल मामलों का 87 प्रतिशत हिस्सा हैं।

इस बीच, भारत ने भी मंकीपॉक्स के कुछ मामलों की सूचना दी है – दिल्ली में लगभग 10 मामलों की पुष्टि हुई है और केरल में कुल 5 मामले सामने आए हैं। जो अरब अमीरात की यात्रा कर लौटे थे। वायरस से संक्रमित लोगों की औसत आयु 31 बताई जा रही है।

तो जानिए क्या हैं मंकीपॉक्स के संकेत

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, मंकीपॉक्स के मामले अलग-अलग हो सकते हैं। संक्रमण के 1-2 सप्ताह बाद लक्षण प्रकट हो सकते हैं। आमतौर पर, लक्षण ऊपरी श्वसन या फ्लू जैसे लक्षणों से शुरू होते हैं। लोगों को अपने शुरुआती लक्षणों के रूप में तेज बुखार, शरीर में गंभीर दर्द और दर्द, सिरदर्द और थकान का अनुभव हो सकता है।

इसके बाद, एक व्यक्ति लिम्फोसाइटिक लिम्फैडेनोपैथी या सूजन लिम्फ नोड्स विकसित कर सकता है। इस दौरान हाथों, पैरों, चेहरे, होंठों और कभी-कभी जननांगों पर दाने निकल सकते हैं। ये चकत्ते लाल होते हैं और इनमें दर्द होता है। इनमें गठें बी बन सकती हैं जिनमें मवाद भरा हो।

यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण को नोटिस करते हैं, तो आपको अपनी और अपने आसपास के लोगों की सुरक्षा के लिए चिकित्सा जांच करानी चाहिए।

यह भी पढ़ें : क्या गर्भवती महिलाओं को नहीं रखना चाहिए निर्जला उपवास, जानिए क्या कहती हैं एक्सपर्ट

  • 101
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory