फॉलो
वैलनेस
स्टोर

LGBTQ वयस्कों में हृदय रोग से बचाव के लिए स्टैटिन लेने की संभावना कम होती है, जानिए क्या कहती है स्टडी

Updated on: 10 December 2020, 19:16pm IST
एक अध्ययन में पाया गया कि लेस्बियन, समलैंगिक , बायसेक्सुअल वयस्कों को स्टैटिन (statins) लेने की संभावना कम होती है। इस दवा का इस्तेमाल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के किया जाता है। जिससे कि हृदय रोगों के जोखिम को कम किया जा सके।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 77 Likes
स्टैनिन एक ऐसी दवा है जिसका इस्तेमाल हृदय संबंधी जोखिमों को कम करने के लिए किया जाता है। चित्र:शटरस्टॉक

लेस्बियन (lesbian), समलैंगिक (gay), बायसेक्सुअल (bisexual ) एलजीबी वयस्क (LGB adults), जिनमें हृदय रोग को रोकने के लिए कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवा से लाभ हो सकता है। उन्हें गैर-एलजीबी व्यस्क (Non-LGB adults) की तुलना में इन दवाओं को लेने की संभावनाकम होती है। आप सोच रही होंगी कि आखिर ऐसा क्यों? तो आगे पढ़ती रहिए।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित शोध में पाया गया कि एलजीबी वयस्कों (LGB adults) में गैर-एलजीबी वयस्कों (Non-LGB adults) की तुलना में हृदय संबंधी रोगों का जोखिम अधिक होता है। क्योंकि उनमें धूम्रपान करने, शराब पीने, ड्रग्स का उपयोग करने और मोटे होने की अधिक संभावना होती है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं जिन्हें स्टैटिन कहा जाता है, वयस्कों में हृदय रोग को रोकने में मदद करती हैं, जिन्हें अभी तक हृदय रोग संबंधी कोई समस्या नहीं है, लेकिन डायबिटीज या हाइ कॉलेस्ट्रोल का जोखमि है।

यह भी पढें: ज्यादातर बच्चों में नहीं दिखाई देते हैं कोविड-19 के लक्षण, ये बच्चे अनजाने में फैला सकते हैं वायरस, जानें क्या कहती है ये स्टडी

जब किसी के लिए निर्धारित किया गया हो कि उसमें अभी तक हृदय रोग का निदान नहीं हुआ है। इसे हृदय रोग के लिए प्राथमिक रोकथाम के रूप में जाना जाता है। स्टैटिन उन लोगों को भी लाभान्वित करते हैं जिन्हें पहले से ही हृदय रोग है। इन वयस्कों को माध्यमिक रोकथाम (secondary prevention) लिए स्टैटिन दिया जाता है।

यहां अध्ययन कैसे किया गया था

लेखक यी गुओ (Yi Guo), यूनिवर्सिटी ऑफ़ फ़्लोरिडा कॉलेज ऑफ़ मेडिसिन के गेनेसविले में, फ्ला ने कहा कि एलजीबी आबादी (LGB population) के बीच स्टैटिन के उपयोग की व्यापकता का अनुमान लगाने के लिए हमारा अध्ययन पहला था।

हमने एलजीबी (LGB) और गैर-एलजीबी (Non-LGB) व्यक्तियों के बीच स्टैटिन के उपयोग की दर की तुलना फेसबुक द्वारा वितरित ऑनलाइन सर्वेक्षण का उपयोग करके की है। जिसमें हमने पाया कि एलजीबी के उत्तरदाताओं (LGB respondents) में गैर-एलजीबी उत्तरदाताओं (non-LGB respondents) की तुलना में प्राथमिक हृदय रोग की रोकथाम के लिए स्टैटिन के उपयोग की दर काफी कम थी। फिर भी माध्यमिक रोकथाम (secondary prevention) में ऐसा नहीं था।

उन्हें हमारे फैसले की नहीं, बल्कि हमारे सपोर्ट की जरूरत है। चित्र:शटरस्टॉक

यी गुओ (Yi Guo) और उनके सहयोगियों ने सितंबर और दिसंबर 2019 के बीच एक पेड विज्ञापन फेसबुक अभियान के जरिए एक ऑनलाइन सर्वेक्षण किया। शोधकर्ताओं ने सर्वेक्षण से जुड़े विज्ञापनों की एक श्रृंखला विकसित की। जिसमें यू.एस. में वयस्क फेसबुक उपयोगकर्ताओं को एलजीबी कीवर्ड में रुचि के साथ लक्षित करना था, जैसे कि “समलैंगिक गर्व” (gay pride)। सर्वेक्षण में यौन अभिविन्यास (sexual orientation), लिंग पहचान, स्टेटिन उपयोग , स्वास्थ्य स्थिति, पुरानी स्थिति, धूम्रपान की स्थिति और बहुत सी बातों के बारे में पूछा गया।

उन्होंने पाया कि …

40 साल और उससे अधिक उम्र के 1,531 फेसबुक उत्तरदाताओं के विश्लेषण से पता चला है कि एलजीबी के रूप में पहचाने जाने वाले 12 प्रतिशत से अधिक और सभी उत्तरदाताओं में से लगभग एक तिहाई स्टैटिन ले रहे थे। लगभग 44 प्रतिशत गैर-एलजीबी वयस्कों (non-LGB adults) की तुलना में 21% से कम एलजीबी वयस्क  प्राथमिक रोकथाम के लिए स्टैटिन ले रहे थे।

माध्यमिक रोकथाम के लिए एलजीबी (LGB) और गैर-एलजीबी समूहों के बीच स्टैटिन के उपयोग में कोई उल्लेखनीय अंतर नहीं था। गुओ ने कहा कि हमारे द्वारा देखे गए अंतर के कई कारण हो सकते हैं। एलजीबी  के लोग अक्सर डॉक्टर के पास नहीं जा सकते हैं, जिससे हृदय रोग की रोकथाम के लिए स्टैटिन की सिफारिश की जाने की संभावना कम होती है।

यह भी पढें: यदि 10 में से 7 लोग लगातार फेस मास्क पहनें तो Covid-19 को फैलने से रोका जा सकता है : स्‍टडी

अधिक अध्ययन की आवश्यकता है …

बियान ने कहा कि हमने जो पाया है वह अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के एलबीजीटीक्यू (LBGTQ) वयस्कों के कथन के अनुरूप है। सबसे पहले एलजीबी आबादी में हृदय रोग स्वास्थ्य जोखिमों और परिणामों को बेहतर ढंग से समझने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है। दूसरा, एलजीबी आबादी  में इन अद्वितीय स्वास्थ्य जोखिमों और परिणामों पर स्वास्थ्य पेशेवरों को शिक्षित करने के लिए शैक्षिक कार्यक्रमों की आवश्यकता है जो कि एलजीबी लोगों  के साथ संवाद करने का उचित तरीका है।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।