और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्‍या विटामिन-डी कोविड-19 के जोखिम को कम कर सकता है? आइए पता करते हैं

Published on:25 February 2021, 12:00pm IST
वैक्‍सीनेशन के बावजूद आपको अपनी इम्‍युनिटी मजबूत रखने की जरूरत है। तो क्‍या विटामिन डी इसमें आपकी कुछ मदद कर सकता है!
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
क्या विटामिन-D कोरोना के जोखिम को कम कर सकता है? चित्र : शटरस्टॉक
क्या विटामिन-D कोरोना के जोखिम को कम कर सकता है? चित्र : शटरस्टॉक

दुनियाभर में कोविड-19 का टीकाकरण अभियान जारी है, लेकिन इसके अतिरिक्त कोरोना का वर्तमान में कोई कारगर इलाज नहीं है। ऐसा माना जाता है कि स्वछता रखने और गाइडलाइन्स फ़ॉलो करने से आप वायरस फैलने के खतरे से बच सकते हैं।

साथ ही, कुछ शोध से पता चलता है कि विटामिन डी का स्वस्थ स्तर होने से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ रह सकती है और सामान्य रूप से श्वसन संबंधी बीमारियों से बचाव हो सकता है। हाल के एक अध्ययन ने संकेत दिया है कि कोविड-19 के साथ अस्पताल में भर्ती मरीजों में विटामिन-D का पर्याप्त स्तर कोरोना के बुरे परिणामों को कम कर सकता है।

विटामिन-D क्या है?

ये विटामिन वसा में घुलनशील होता है जो आपके शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह पोषक तत्व विशेष रूप से प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण है। कई डॉक्टर कोरोना मरीजों को विटामिन डी सप्लीमेंट्स लेने की सलाह दे रहे हैं। लेकिन क्यों? क्या यह वाकई कोरोना के जोखिम को कम कर सकता है?

विटामिन डी इम्युनिटी बढ़ाता है । चित्र: शटरस्‍टॉक
विटामिन डी इम्युनिटी बढ़ाता है । चित्र: शटरस्‍टॉक

जानिये विटामिन-D और कोविड-19 के संबंध में हुए अध्ययन में क्या सामने आया:

द अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन(The American Journal of Clinical Nutrition) ने यू.के. बायोबैंक U.K.Biobank के डेटा का उपयोग किया, जो यूनाइटेड किंगडम के 500,000 से अधिक लोगों का डेटा था।

इस डेटा के अध्ययन में केवल 8,297 लोग शामिल थे, जिनके पास 16 मार्च 2020 और 29 जून 2020 के बीच कोविड-19 परीक्षण का रिकॉर्ड था जिनमे से, 363 लोगों ने नियमित रूप से विटामिन D सप्लीमेंट लिया था।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने विटामिन-D लेने वाले और नहीं लेने वाले लोगों के बीच अंतर देखने को मिला। हालांकि, ऐसा नहीं था कि विटामिन-D सप्लीमेंट्स लेने वाले लोगों को कोरोना का खतरा नहीं था, लेकिन जिन लोगों में विटामिन D की कमी थी उन्हें कोविड-19 के और बुरे प्रभावों का सामना करना पड़ा था।

कुछ कोरोना मरीजों को विटामिन-D सप्लीमेंट्स दिए जाते हैं . चित्र : शटरस्टॉक
कुछ कोरोना मरीजों को विटामिन-D सप्लीमेंट्स दिए जाते हैं . चित्र : शटरस्टॉक

40 वर्ष से अधिक उम्र के रोगियों में, विटामिन D की कमी वाले रोगियों की तुलना में बेहोशी, हाइपोक्सिया और मृत्यु सहित प्रतिकूल परिणाम होने की संभावना 51.5% कम थी।

क्या विटामिन-D कोरोना के जोखिम को कम कर सकता है?

ऐसा अभी तक प्रमाणित नहीं हुआ है कि विटामिन-D, कोविड-19 के जोखिम को कम कर सकता है। लेकिन इसकी कमी रोग प्रतिरोधक क्षमता को नुकसान पहुंचा सकती है और श्वसन संबंधी बीमारियों के जोखिम को बढ़ा सकती है।

कुछ अध्ययनों से संकेत मिला है कि विटामिन-D की खुराक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ा सकती है और समग्र रूप से श्वसन संक्रमण से बचा सकती है।

साथ ही, विटामिन-D टी कोशिकाओं और मैक्रोफेज सहित प्रतिरक्षा कोशिकाओं के कार्य को बढ़ाने के लिए जाना जाता है, जो आपके शरीर को पेथोजेंस से बचाता है।

बिना डॉक्टर की सलाह के विटामिन D सप्लीमेंट्स न लें. चित्र : शटरस्टॉक
बिना डॉक्टर की सलाह के विटामिन D सप्लीमेंट्स न लें. चित्र : शटरस्टॉक

विटामिन-D का इम्युनिटी पर प्रभाव

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के समुचित कार्य के लिए विटामिन-D आवश्यक है। जो आपके शरीर में संक्रमण को फैलने से रोकता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और इम्यूनोरेग्युलेटरी गुण होते हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

विटामिन-D की कमी से फेफड़ों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है, जो आपके शरीर को श्वसन संक्रमण से लड़ने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। ये विटामिन प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण है। इस पोषक तत्व की कमी इम्युनिटी को प्रभावित करती है और आपके संक्रमण और बीमारी के जोखिम को बढ़ा सकती है।

तो क्‍या है अंतिम निर्णय

विटामिन-D आपकी सेहत के लिए ज़रूरी है लेकिन, कोरोना के जोखिम को रोकने के लिए इसके सप्लीमेंट्स बिना किसी डॉक्टर की सलाह के न लें। आपको विटामिन D डेफिशिएंशी न हो इसके लिए बाहर निकलें और सूर्य की किरणों का सेवन करें या विटामिन-D युक्त आहार भी ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें : एक्सपर्ट बता रहे हैं वैक्सीनेशन के बाद भी कितना जरूरी है मास्क और सामाजिक दूरी का पालन करना

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।