वैलनेस
स्टोर

सेहत के लिए जरूरी है विटामिन डी, पर इसके सप्‍लीमेंट लेना हो सकता है आपके लिए हानिकारक

Published on:25 November 2020, 09:59am IST
विटामिन डी के महत्व को समझने में हमें कुछ समय लगा है। एक अध्ययन का दावा है कि यह कैंसर के खतरे को कम करता है, लेकिन हमें सप्लीमेंट से दूर रहने की आवश्यकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 71 Likes
विटामिन डी इम्युनिटी बढ़ाता है । चित्र: शटरस्‍टॉक

यह मान लेना ठीक है कि हम में से अधिकांश लोग अपने विटामिन को भली भांति जानते हैं। हम जानते हैं कि विटामिन ए हमें गाजर से मिलता है और यह हमारी दृष्टि के लिए अच्छा है। विटामिन सी खट्टे फलों में पाया जा सकता है, और यह सर्दी और खांसी को दूर रखता है। और सूरज की रोशनी में बैठने से हमें विटामिन डी मिल सकता है, जो हमारी हड्डियों को मजबूत बनाता है।

हमें पोषण सम्बंधी इस जानकारी के लिए अपनी पाठ्यपुस्तकों को धन्यवाद देना चाहिए। सच्चाई यह है कि सभी विटामिन में, विटामिन डी की भूमिका सबसे अधिक समझी जाती है। धूप से मिलने वाला यह विटामिन न केवल हमारे शरीर को कैल्शियम को बेहतर तरीके से अवशोषित करने में मदद करता है, बल्कि इम्यून सिस्टम को भी बनाए रखता है।

हाल के शोध से यह भी पता चलता है कि यह कुछ प्रकार के कैंसर को भी दूर रख सकता है।

विटामिन डी कैंसर विकसित करने के आपके जोखिम को कम कर सकता है। यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका के एक अध्ययन से पता चलता है कि विटामिन डी की खुराक लेने से कैंसर का खतरा कम हो सकता है।

ब्रिटिश न्यूज डेली एक्सप्रेस में प्रकाशित एक समाचार रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी अध्ययन से पता चला है कि विटामिन डी की खुराक पर सामान्य बीएमआई वाले लोगों में एडवांस कैंसर विकसित होने का जोखिम 38 प्रतिशत कम था।

विटामिन डी आपका कैंसर का जोखिम कम कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक
विटामिन डी आपका कैंसर का जोखिम कम कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

अध्ययन के लेखक, बोस्टन में ब्रिघम एंड वीमेन हॉस्पिटल के डॉ पॉलेट चांडलर ने एक्सप्रेस को बताया,”इन निष्कर्षों से पता चलता है कि विटामिन डी एडवांस कैंसर के विकास के जोखिम को कम कर सकता है।”

वह कहती हैं, “विटामिन डी एक ऐसा सप्लीमेंट है जो आसानी से उपलब्ध है, सस्ता है और दशकों से इसका उपयोग और अध्ययन किया जाता है।”

चांडलर कहती हैं, “हमारे शोध से, खासकर सामान्य वजन वाले लोगों में, विटामिन डी और कैंसर के बीच संबंधों के बारे में नई जानकारी सामने आई है।”

इन निष्कर्षों को सही तरह से समझने की जरूरत है

इस बात से कोई इंकार नहीं है कि विटामिन डी वास्तव में शरीर के लिए फायदेमंद है। इसमें कमी होने पर इसके परिणाम स्वयं सामने आते हैं। लेकिन विटामिन डी के सप्लीमेंट को इस तरह से लेना स्वास्थ्य के लिए जोखिम भी पैदा कर सकता है।

विटामिन डी सप्‍लीमेंट किडनी के लिए जोखिम बढ़ा सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
विटामिन डी सप्‍लीमेंट किडनी के लिए जोखिम बढ़ा सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

किडनी के लिए बढ़ सकता है जोखिम  

विटामिन डी एक पानी में घुलने वाला विटामिन नहीं है। यानी जब आप पेशाब करते हैं, तो अधिक विटामिन आपके शरीर से बाहर नहीं निकलता है। बल्कि, यह आपको विटामिन डी टॉक्सिसिटी दे सकता है। जो रक्त प्रवाह में कैल्शियम के निर्माण को बढ़ा देता है। यह आपको किडनी की समस्याओं के जोखिम में भी डाल सकता है।

इसके अलावा, अध्ययन के लेखकों को अभी इस पर काम करना है, कि इन एंटी-कैंसर लाभों के लिए कितने समय तक विटामिन डी लेना चाहिए।

अपने आप सप्लीमेंट लेने से पहले विटामिन डी की खुराक के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, और इस बीच विटामिन डी की अपनी खुराक पाने के लिए धूप में समय बिताएं, उससे बेहतर कुछ नहीं है।

यह भी पढ़ें – ब्रेकफास्ट में दलिया खाएं या क्विन्वा, जानें दोनों में से क्‍या है आपके लिए है ज्यादा फायदेमंद

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।