जानिए क्या है निपाह वायरस : इसके लक्षण, सावधानियां और उपचार

Published on: 11 September 2021, 18:00 pm IST

आपको खांसी, गले में खराश और चक्कर आना सहित कोविड जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं, लेकिन यह लक्षण निपाह वायरस (Nipah virus) के कारण भी हो सकते हैं।

in rogo se bachne ke liye sawdhani baratan zaruri hai
इन रोगों से बचने के लिए सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

केरल के एक 12 वर्षीय लड़के की कुछ दिन पहले निपाह वायरस से मौत हो गई। राज्य के दो और लोगों में निपाह वायरस के लक्षण पाए गए हैं। इसने उच्च मृत्यु दर वाले घातक वायरस पर फिर से ध्यान केंद्रित किया है जिसे पहली बार वर्ष 1990 में मलेशिया में देखा गया था। यह पहली बार 2001 में सिलीगुड़ी, पश्चिम बंगाल में भारत में पाया गया था जब 45 लोगों की मृत्यु हुई थी। केरल ने 2018 में इसके कई मामले दर्ज किए थे।

क्या है निपाह वायरस (Nipah virus)?

निपाह वायरस की मृत्यु दर 40-80% है। निपाह वायरस को एक जूनोटिक वायरस के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जो जानवरों के माध्यम से मनुष्यों में फैलता है। यह दूषित भोजन के माध्यम से या सीधे लोगों के बीच भी प्रेषित किया जा सकता है। यह वायरस फ्रूट बैट्स (चमगादड़) के कारण होता है। इससे संक्रमित लोगों को सांस की गंभीर बीमारी और घातक इंसेफेलाइटिस जैसी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

यह एक हवा में फैलने वाला संक्रामण (airborne infection) नहीं है और वास्तव में, चमगादड़ और सूअर से फैलता है। यह सिर्फ इंसानों के लिए ही नहीं बल्कि जानवरों के लिए भी घातक है।

निपाह वायरस के लक्षण?

निपाह वायरस से संक्रमित लोगों में कोविड जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। निपाह वायरस के सामान्य लक्षण खांसी, गले में खराश, चक्कर आना, बेहोशी, मांसपेशियों में दर्द, थकान और एन्सेफलाइटिस हैं जो मस्तिष्क की सूजन है जो सिरदर्द, गर्दन में अकड़न, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता, मानसिक भ्रम और दौरे का कारण बनता है। इससे व्यक्ति बेहोश भी हो सकता है और अंततः मृत्यु का कारण बन सकता है।

nipah virus ke lakshan
अगर फ्लू के लक्षणों के साथ सर्दी या बुखार है, तो आपको निपाह वायरस हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या है इसका इलाज

इस वायरस के लिए कोई निश्चित उपचार उपलब्ध नहीं है। उपरोक्त लक्षणों का पता चलने पर, तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना होगा जो इस वायरस के निदान की पुष्टि करेगा और सहायक देखभाल में आपकी सहायता करेगा।

एन्सेफलाइटिस और अन्य लक्षणों की देखभाल के लिए आपको डॉक्टर द्वारा दवा भी दी जाएगी। खुद से दवा न लें क्योंकि यह जोखिम भरा हो सकता है और आपकी स्थिति को खराब कर सकता है।

जरूरी है एहतियात बरतना

जमीन पर गिरे फलों को खाने से बचें क्योंकि वे दूषित हो सकते हैं या संक्रमित जानवरों और मनुष्यों के संपर्क में आने से बचें। इस वायरस का सफलतापूर्वक इलाज करने में आपकी मदद करने के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए, फ्रूट बैट्स को अपने से दूर रखें, सुअरों को खिलाने से बचें और स्वस्थ रहें। यदि आपको लक्षणों के बारे में कोई संदेह है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

(डॉ. बिपिन जिभकाटे, सलाहकार क्रिटिकल केयर मेडिसिन, और आईसीयू निदेशक वोकहार्ट अस्पताल, मीरा रोड द्वारा प्राप्त इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें : जानिए उस गंभीर और दुर्लभ बीमारी के बारे में जिसके लिए दीपिका पादुकोण और फराह खान ने खेला केबीसी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें