मिथुन चक्रवर्ती को आया इस्केमिक सेरेब्रोवास्कुलर स्ट्रोक, जानिए क्या है यह समस्या और कैसे रहना है सावधान

हाल ही में, अनुभवी अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती इस्केमिक सेरेब्रोवास्कुलर स्ट्रोक से पीड़ित हुए, जो तब होता है जब मस्तिष्क में रक्त का थक्का जम जाता है। चलिए जानते है इसके बारे में सब कुछ।
ischemic cerebrovascular stroke
स्केमिक सेरेब्रोवास्कुलर स्ट्रोक एक ऐसी स्थिति है जो मस्तिष्क में ऑक्सीजन और रक्त के प्रवाह को कम कर देती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 16 Feb 2024, 09:34 pm IST
  • 124

भारतीय फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती को हाल ही में सीने में दर्द की शिकायत के बाद कोलकाता के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। फिल्म उद्योग में अपने अद्वितीय योगदान के लिए जाने जाने वाले अभिनेता की खबर कई प्रशंसकों के लिए सदमे की तरह आई। रिपोर्टों से पता चलता है कि 73 वर्षीय अभिनेता को मस्तिष्क के इस्केमिक सेरेब्रोवास्कुलर स्ट्रोक का पता चला था। वे खतरे से बाहर हैं, लेकिन उनके अचानक स्ट्रोक ने इस स्वास्थ्य स्थिति, इसके लक्षणों और रोकथाम के सुझावों की ओर ध्यान आकर्षित किया है।

इस्केमिक स्ट्रोक या इस्केमिक सेरेब्रोवास्कुलर स्ट्रोक एक ऐसी स्थिति है जो मस्तिष्क में ऑक्सीजन और रक्त के प्रवाह को कम कर देती है, जिससे मस्तिष्क की कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं या उनकी मृत्यु हो जाती है।

इस्केमिक स्ट्रोक क्या है (what is  ischemic cerebrovascular stroke)

रक्त का थक्का जो मस्तिष्क में खुन की आपूर्ति करने वाली धमनी को बाधित करता है, रक्त प्रवाह को कम करके और मस्तिष्क के ऊतकों को पोषण और ऑक्सीजन से वंचित करके इस्केमिक स्ट्रोक का कारण बन सकता है। आर्टेमिस अस्पताल में न्यूरोइंटरवेंशन के प्रमुख और स्ट्रोक यूनिट के प्रमुख डॉ. विपुल गुप्ता कहते हैं, एक थ्रोम्बस, या थक्का जो स्थानीय रूप से बनता है, या एक एम्बोलस, या थक्का जो शरीर के दूसरे क्षेत्र से आता है, इस रुकावट का स्रोत हो सकता है।

 रोगी को बिना किसी कारण के कष्टदायी सिरदर्द का अनुभव हो सकता है।
रोगी को बिना किसी कारण के कष्टदायी सिरदर्द का अनुभव हो सकता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

क्या आप जानते हैं स्ट्रोक दुनिया भर में मौत का पांचवां सबसे आम कारण है? इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में प्रकाशित 2017 के एक अध्ययन के अनुसार, स्ट्रोक की घटनाएं प्रति वर्ष 105 से 152/100,000 लोगों तक होती हैं। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ स्ट्रोक में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, स्ट्रोक की घटनाएं कोलकाता और तिरुवनंतपुरम सहित कुछ शहरों में अधिक थीं।

इस्केमिक स्ट्रोक के लक्षण क्या हैं (symptoms of ischemic cerebrovascular)

अचानक कमजोरी या सुन्नता: यह स्थिति शरीर के एक तरफ को प्रभावित करती है, अक्सर हाथ, पैर या चेहरे को। इससे हिलना-डुलना मुश्किल हो सकता है।

भ्रम: आप भ्रमित महसूस कर सकते हैं और जानकारी संसाधित करने या निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है।

बोलने या समझने में परेशानी: बोलना अस्पष्ट हो सकता है, जिससे यह समझना मुश्किल हो जाता है कि क्या बोला जा रहा है। इससे चिंता और निराशा भी हो सकती है।

दृष्टि संबंधी समस्याएं: रोगी को एक या दोनों आंखों में धुंधलापन या दृष्टि की हानि का अनुभव हो सकता है।

चक्कर आना या संतुलन खोना: इससे अस्थिरता और चक्कर आ सकते हैं। इससे समन्वय खराब हो सकता है जिससे खड़े होने और चलने जैसी बुनियादी गतिविधियां चुनौतीपूर्ण हो सकती हैं।

सिरदर्द: रोगी को बिना किसी कारण के कष्टदायी सिरदर्द का अनुभव हो सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

चलने में परेशानी: मरीजों को समन्वय बनाने या संतुलन बनाए रखने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। यदि चलना अस्थिर या शायद असंभव हो जाए तो आप अपनी स्वतंत्रता खो सकते हैं।

इस्केमिक स्ट्रोक के जोखिम कारक क्या हैं

इस्केमिक स्ट्रोक के लिए मुख्य जोखिम कारक रक्त के थक्कों या वसायुक्त जमाव में वृद्धि के कारण परिसंचरण संबंधी स्थितियां हैं।

उच्च रक्तचाप

उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन धमनियों पर अधिक दबाव डालता है, जिससे धमनियों के क्षतिग्रस्त होने और रुकावटों का खतरा बढ़ जाता है जिसके परिणामस्वरूप स्ट्रोक हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ना

रक्त में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ा हुआ स्तर धमनियों में प्लाक या फैट डिपोजिट के विकास में भूमिका निभा सकता है, जो उन्हें प्रतिबंधित करता है और थक्का बनने की संभावना को बढ़ाता है।

डायबिटीज

डायबिटीज इंसुलिन प्रतिरोध, सूजन और रक्त वाहिका की क्षति को बढ़ाता है, इसलिए डायबिटीज वाले लोगों में स्ट्रोक जैसी हृदय संबंधी घटनाओं का अनुभव होने की अधिक संभावना होती है।

धूम्रपान

तंबाकू के धुएं में मौजूद जहरीले यौगिकों से स्ट्रोक का खतरा बहुत बढ़ जाता है, जो रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध कर देता है और रक्त के थक्कों के निर्माण को प्रोत्साहित करता है।

अत्यधिक शराब का सेवन

अत्यधिक शराब के सेवन से अतिरिक्त स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं जो स्ट्रोक के खतरे को बढ़ाती हैं, साथ ही रक्तचाप और अनियमित हृदय ताल को भी बढ़ाती हैं।

मोटापा

अधिक वजन होने से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है, खासकर कमर के आसपास। उच्च रक्तचाप, मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल जैसे अतिरिक्त जोखिम कारक मोटापे के कारण बढ़ जाते हैं।

व्यायाम की कमी

शारीरिक गतिविधि की कमी मौजूदा स्ट्रोक जोखिम कारकों को बढ़ाती है, हृदय प्रणाली को खराब करती है और मोटापे की संभावना को बढ़ाती है।

khali samay me exercise karen.
अधिक वजन होने से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है चित्र-अडोबी स्टॉक

कुछ स्वास्थ्य स्थितियां

एट्रियल फाइब्रिलेशन, सिकल सेल एनीमिया, क्लॉटिंग विकार और जन्मजात हृदय दोष कुछ सामान्य जोखिम कारक हैं जो इस्केमिक स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

इस्केमिक स्ट्रोक को कैसे रोकें

इस्केमिक स्ट्रोक के जोखिम को रोकने की कुंजी एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाना और उन संकेतों पर ध्यान देना है जो संकेत देते हैं कि आप जोखिम में हैं।

  • आलिंद फिब्रिलेशन, जन्मजात हृदय रोग जैसे जोखिम कारकों को प्रबंधित करें।
  • धूम्रपान छोड़ें और शराब पीने से बचें।
  • मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी अंतर्निहित स्थितियों को प्रबंधित करें।
  • स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रखें।
  • आहार और व्यायाम के माध्यम से स्वस्थ वजन बनाए रखें।
  • नियमित व्यायाम करें और फलों, सब्जियों और साबुत अनाज से भरपूर स्वस्थ आहार लें।
  • डॉक्टर के पास नियमित रूप से जाना जरूरी है, खासकर यदि आप किसी अंतर्निहित बीमारी से पीड़ित हैं।

ये भी पढ़े- उम्र के साथ कमजोर होने लगा है दिमाग? तो इन 5 तरीकों से बढ़ाएं उसकी क्षमता

  • 124
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख