Jet lag : विदेश यात्रा के दौरान क्यों होती है जेट लैग की समस्या और इससे कैसे बचा जा सकता है

अभी बच्चों की भी समर वैक्शन है ऐसे में सभी लोग कहीं न कहीं जाने की प्लैन कर रहें होंगे। कई लगो लंबी दूरी पर विदेश भी जा रहें होंगे तो ऐसे में उन लोगो को जेट लैग के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। ताकि आप अपनी नींद और अपने स्वास्थ्य की रक्षा कर सकें।
jet lag ke karan
यात्रा की कुछ स्थितियों के कारण जेट लैग होने की संभावना अधिक हो जाती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 17 May 2024, 11:24 am IST
  • 134

नियमित नींद का रूटीन बनाए रखना आपके पूरे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। लेकिन लंबी दूरी की यात्रा आपकी नींद के कार्यक्रम को बिगाड़ सकती है। जेट लैग एक अस्थायी स्लीप डिस्ऑर्डर है जो तब होता है जब आप किसी अलग टाइम जोन में जाते हैं। इससे आपकी आंतरिक घड़ी (सर्कैडियन रिदम) नए समय के साथ मेल खाने के लिए काफी संघर्ष करती है। इसके कारण आपको अनिद्रा, चिड़चिड़ापन, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी, पाचन में परेशानी होना और बहुत कुछ शामिल हैं। जेट लैग को सर्कैडियन रिदम डिसऑर्डर भी माना जाता है।

अभी बच्चों की भी समर वैक्शन है ऐसे में सभी लोग कहीं न कहीं जाने की प्लैन कर रहें होंगे। कई लगो लंबी दूरी पर विदेश भी जा रहें होंगे तो ऐसे में उन लोगो को जेट लैग के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। ताकि आप अपनी नींद और अपने स्वास्थ्य की रक्षा कर सकें।

इस पर ज्यादा जानने के लिए हमने बात की मनोचिकित्सक डॉ. मिन्नी जैन से, डॉ. मिन्नी अपोलो स्पेक्ट्रा दिल्ली, चिराग एन्क्लेव में काम करती है।

जेट लैग क्यों होता है

जब आप एक नए समय क्षेत्र में पहुंचते हैं, तो आपकी सर्कैडियन रिदम आपके पूर्ववत समय क्षेत्र के हिसाब से अभी भी काम करती है। यह आपके शरीर के अंतर्निहित घड़ी को स्थानीय समय के अनुसार सिंक्रनाइज़ करने की कोशिश करती है, लेकिन यह प्रक्रिया अक्सर समय लगाती है और इसके दौरान जेट लैग के लक्षणों का अनुभव हो सकता है। इस प्रक्रिया के दौरान, आप महसूस कर सकते हैं कि आपके नींद-जागरूकता की वक्रता हो रही है, आपका खाना-पीना बदल रहा है, और आपको अन्य शारीरिक और मानसिक संक्रियाओं में भी परिवर्तन महसूस हो सकता है।

सोने में कठिनाई, सोते रहना या बहुत जल्दी जागना जेट लैग के विशिष्ट लक्षण हैं। चित्र- अडोबी स्टॉक

यात्रा की कुछ स्थितियों के कारण जेट लैग होने की संभावना अधिक हो जाती है, जैसे नींद की कमी होना, असुविधाजनक स्थिति में लंबे समय तक बैठे रहना, अत्यधिक मात्रा में कैफीन या अल्कोहल पीना, केबिन के वायु दबाव में उतार-चढ़ाव, और खराब वायु गुणवत्ता में सांस लेना।

जेट लैग होने के क्या संकेत हो सकते हैं

नींद लेने में परेशानी होना

सोने में कठिनाई, सोते रहना या बहुत जल्दी जागना जेट लैग के विशिष्ट लक्षण हैं। आपके शरीर की सर्कैडियन रिदम अभी भी आपके घरेलू समय क्षेत्र के साथ समनवय करने की कोशिश कर सकती है।

दिन के समय थकान

दिन के दौरान अत्यधिक थकान या नींद महसूस करना जेट लैग का एक और आम लक्षण है। यह थकान आपकी ध्यान केंद्रित करने, काम करने की क्षमता को प्रभावित कर सकती है।

मूड में बदलाव

जेट लैग आपके मूड को प्रभावित कर सकता है, जिससे चिड़चिड़ापन, मूड में बदलाव या अवसाद या चिंता की भावना पैदा हो सकती है।

पाचन संबंधी समस्याएं

भोजन के समय में बदलाव और आपके शरीर की सर्कैडियन रिदम में व्यवधान से भूख में बदलाव, अपच, सूजन या अनियमित मल त्याग जैसी पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

जेट लैग से निपटने के कुछ उपाय

कहीं जाने से पहले अपने सोने के समय में बदलाव करें

हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की तरफ से बताया गया है कि अपनी यात्रा पर निकलने से कुछ दिन पहले, आप अपने सोने के समय को थोड़ा-थोड़ा उस समय के करीब ला सकते है जहां आप जाना चाहते है। थोड़ा बहुत बदलाव करना भी आपको बहुत राहत दे सकता है। जैसे अगर आप पूर्व दिशा में ट्रैवल करने वाले है तो कुछ रातों के लिए आधा घंटा पहले सोने की आदत बना लें। अगर आप पश्चिम दिशा में ट्रैवल करने वाले है तो इसके लिए आधा घंटा देरी से सोने का आदत डाल लें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

सोने का नया समय तुरंत अपनाएं

एक बार जब आप अपने नए स्थान पर पहुंच जाएं, तो आते ही अपने सोने का समय नए समय क्षेत्र में बदल लें। और, यदि आपको झपकी लेने की इच्छा हो रहा है तो उसे न लें। जब तक आपके नए समय क्षेत्र में सोने का समय न हो जाए तब तक बिस्तर पर न जाएं।

Dehydration-home-remedies
पर्याप्त पानी पीना जेट लैग के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। चित्र शटरस्टॉक

यात्रा करते समय हाइड्रेटेड रहें

यात्रा के दौरान और उसके बाद, पर्याप्त पानी पीना जेट लैग के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। पानी से हाइड्रेटेड रहना आपके शरीर को सही समय में संतुलित रहने में मदद कर सकता है और अत्यधिक कैफीन और अल्कोहल से सावधानी बरतना जरूरी है। ये दोनों मादक पदार्थ नींद को प्रभावित कर सकते हैं और जेट लैग के लक्षणों को बढ़ा सकते हैं।
अपने भोजन के पोर्शन और समय पर विचार करें।

अपने खाने पर ध्यान दें 

जब लोगों को जेट लैग होता है, तो वे कभी-कभी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं का अनुभव कर सकते हैं। इस कारण से, पाचन लक्षणों को कम करने के लिए उड़ान से पहले और उड़ान के दौरान कम खाना खाना सहायक हो सकता है।

ये भी पढ़े- उम्र के साथ कम होने लगती है याददाश्त, इन 5 तरीकों से बनाए रखें ब्रेन की फिटनेस

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

हेल्थशॉट्स वेलनेस न्यूजलेटर

अपने इनबॉक्स में स्वास्थ्य की दैनिक खुराक प्राप्त करें!

सब्स्क्राइब करे
अगला लेख