आपकी दादी या नानी भी हो सकती हैं आपके मोटापे या अर्ली प्‍यूबर्टी के लिए जिम्‍मेदार

एक नये अध्ययन में सामने आया कि जिन लड़कियों की दादी या नानी पेस्टिसाइड DDT के संपर्क में थी, उनमें मोटापा और पहला पीरियड जल्दी देखने को मिले।
Grandmother-effect-menstruation
माहवारी और मोटापा तीन जनरेशन तक जुड़ा हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 17 Oct 2023, 10:18 am IST
  • 89

हमारी शक्‍ल, रंग-रूप और कई बार आदतें भी हमारी मां, नानी या दादी से बहुत मिलती-जुलती होती हैं। ये बात तो सभी जानते हैं। पर क्‍या आप जानती हैं कि हमारा बीएमआई और पीरियड्स भी बहुत हद तक हमारी दादी या नानी की सेहत से प्रभावित होता है। जी हां, अमेरिका में हुए एक दिलचस्‍प अध्‍ययन में यह बात सामने आई है। यह स्तन कैंसर के साथ-साथ उच्च रक्तचाप, मधुमेह और अन्य कार्डियोमेटोबोलिक रोगों के लिए तीसरी पीढ़ी के जोखिम को बढ़ा सकता है।

पब्लिक हेल्थ इंस्टीट्यूट के चाइल्ड हेल्थ एंड डेवलपमेंट स्टडीज (CHDS) और डेविस में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय द्वारा किया गया यह अध्ययन, कैंसर एपिडेमियोलोजी, बायोमार्कर्स एंड प्रिवेंशन, अमेरिकन एसोसिएशन फॉर कैंसर रिसर्च की पत्रिका में प्रकाशित किया गया था।

यह अध्ययन पेस्टिसाइड DDT के हानिकारक प्रभाव को दर्शाता है, जो छोटी लड़कियों पर आज तक पड़ रहे हैं। जिसकी वजह से उनके पहले पीरियड्स बहुत छोटी उम्र में होने लगते हैं। साथ ही उनमें मोटापे की दर भी बढ़ सकती है।

इस अध्‍ययन में माहवारी के आंकड़ों की भी जांच की गई। चित्र: शटरस्‍टॉक
इस अध्‍ययन में माहवारी के आंकड़ों की भी जांच की गई। चित्र: शटरस्‍टॉक

पेस्टिसाइड DDT क्या है?

DDT (dichloro-diphenyl-trichloroethane) को 1940 के दशक में आधुनिक सिंथेटिक कीटनाशकों के रूप में विकसित किया गया था। इसका इस्तेमाल शुरू में मलेरिया, टाइफस और अन्य कीट-जनित मानव रोगों का मुकाबला करने के लिए सैन्य और नागरिक आबादी दोनों में बहुत प्रभाव के साथ किया गया था।

हालांकि, इस पेस्टिसाइड को कुछ जगहों पर बैन किया जा चुका है। इसके बावजूद आज तक इसके दुष्‍प्रभाव सेहत पर दिखाई दे रहे हैं।

क्‍या कहता है अध्‍ययन

अध्ययन में पाया गया कि वयस्क पोतियों में मोटापे का खतरा 2 से 3 गुना अधिक था, जिनकी दादी-नानी के रक्त में, पी-डीडीटी की मात्रा पायी गयी। इसके अलावा, उनमें जल्दी पीरियड्स शुरू होने की संभावना दोगुनी बढ़ गयी थी।

सीएचडीएस के निदेशक बारबरा कोहन और अध्ययन के वरिष्ठ लेखक ने कहा “हम पहले से ही जानते हैं कि कई सामान्य पर्यावरणीय रसायनों के जोखिम से बचना असंभव है। जो अंतः एंडोक्राइन रिसेप्टर्स हैं। अध्ययन पहली बार दिखा कि डीडीटी जैसे पर्यावरणीय रसायन दादी से उनकी पोतियों तक स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं।”

जानिए कैसे किया गया यह अध्ययन

बाल स्वास्थ्य और विकास अध्ययन एक अनूठी परियोजना है, जिसमें 60 से अधिक वर्षों से 20,000 गर्भवती महिलाओं और उनके परिवारों का पालन किया गया है। सीएचडीएस ने 1959 और 1967 के बीच बे एरिया में गर्भवती महिलाओं का नामांकन शुरू किया।

कई जगहों पर डीडीटी को बैन कर दिया गया है। चित्र- शटर स्टाक।
कई जगहों पर डीडीटी को बैन कर दिया गया है। चित्र- शटर स्टाक।

1972 में DDT से पहले उच्च कीटनाशक के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। अध्ययन में इन “संस्थापक दादी” को गर्भावस्था के दौरान प्रत्येक तिमाही में रक्त के नमूने दिए गए थे और कुछ ही समय बाद एक जन्म के बाद का नमूना।

डीडीटी और इसके संबंधित रसायनों के स्तरों के लिए रक्त के नमूनों का परीक्षण किया गया था, जिसमें सक्रिय तत्व, संदूषक और उनके चयापचय शामिल हैं।
क्‍या रहे परिणाम

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

सीएचडीएस अध्ययन में पंजीकृत महिलाओं की बेटियों और पोतियों से साक्षात्कार, घर का दौरा और प्रश्नावली शामिल थे। घर के दौरे के दौरान, रक्तचाप और ऊंचाई और वजन माप लिया गया था।

मौजूदा अध्ययन 365 वयस्क पोतियों पर आधारित है, जिन्होंने प्रश्नावली को पूरा किया। घर की यात्रा में भाग लिया, जिसमें दादी के सीरम से डीडीटी के उपाय उपलब्ध थे, और (उनमें से 285 के लिए) तीनों पीढ़ियों में बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जानकारी उपलब्ध थी। तीनों पीढ़ियों के लिए पहली अवधि की जानकारी उपलब्ध थी।

यह अध्ययन पी-डीडीटी पर केंद्रित है क्योंकि यह पहले पोतियों में स्तन कैंसर, मोटापा और अन्य हानिकारक स्वास्थ्य प्रभावों से जुड़ा हुआ है। माना जाता है कि जन्म से पहले और तुरंत बाद एक्सपोज़र के लिए सबसे संवेदनशील बायोमार्कर है।

गर्भावस्‍था का समय सबसे ज्‍यादा संवेदनशील होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
गर्भावस्‍था का समय सबसे ज्‍यादा संवेदनशील होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

चूंकि छोटी लड़कियों का एक्सपोजर उनकी माताओं के माध्यम से गर्भाशय के अंडों के सेल विकास में होता है, इसलिए, पो-डीडीटी स्तर, लड़कियों के जींस में प्रवेश करता है।

गर्भावस्‍था का समय है संवेेेदनशील

पिछले सीएचडीएस अध्ययनों से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान माताओं का डीडीटी जोखिम या जन्म के तुरंत बाद बेटियों के स्तन कैंसर और मोटापे के जोखिम कारकों के प्रसार के साथ होता है। अन्य पूर्व के अध्ययनों ने जन्म दोषों, कम प्रजनन क्षमता और मधुमेह के बढ़ते जोखिम से डीडीटी पेस्टिसाइड के जोखिम को जोड़ा है।

अध्ययन के सह-प्रमुख लेखक यूसीडी में माइकेल ला मेरिल ने कहा, “इन आंकड़ों से पता चलता है कि डीडीटी द्वारा एंडोक्राइन सिस्टम का डिसरप्शन मानव अंडों में, दशकों पहले शुरू होता है।”

यह भी पढ़ें – आपके आसपास का तनाव, आपके लेडी पार्ट को भी परेशान करता है, हम बता रहे हैं कैसे

  • 89
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख