गर्मी से हुई सैंकड़ों हज यात्रियों की मौत, जानिए कैसे अधिक तापमान हो सकता है सेहत के लिए खतरनाक

तापमान में आए थोड़े-बहुत बदलाव को शरीर अपने आप नियंत्रित कर लेता है। मगर जब तापमान हद से ज्यादा बढ़ जाता है, तब शरीर का आंतरिक सिस्टम ध्वस्त होने लगता है। यह उल्टी, बुखार या दस्त जैसी समस्याओं के अलावा मौत का भी कारण बन सकता है।
अधिक गर्मी उनके स्वास्थ्य के लिए जाेखिमकारक हो सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 21 Jun 2024, 03:15 pm IST
  • 142

सोशल मीडिया पर इस हफ़्ते सऊदी अरब से चौंकाने वाली तस्वीरें छाई हुई हैं। तस्वीरों में कई सारे लोग सफेद पोशाक पहने जमीन पर गिरे हुए हैं। कई लोग व्हीलचेयर पर बेहोश पड़े हैं। कई मीडिया रिपोर्टों का कहना है कि ये लोग मक्का में पहुंचे हुए मुस्लिम तीर्थयात्री हैं। इनमें से कुछ लोग बेहोश हैं, तो कुछ लोग मर चुके है। इनकी मौत का कारण अधिक गर्मी को बताया जा रहा है। वास्तव में गर्मी को बर्दाश्त करने की भी मनुष्यों की एक सीमा होती है। अधिक गर्मी उनके स्वास्थ्य के लिए जाेखिमकारक हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि आप गर्म मौसम से होने वाले स्वास्थ्य जोखिमों और उनसे बचाव के तरीकों के बारे में जागरुक रहें।

हज यात्रा के दौरान गर्मी से हुई सैंकड़ों लोगों की मौत

सऊदी अरब में सैकड़ों तीर्थयात्रियों की मौत हो गई, जाहिर तौर पर अत्यधिक तापमान और आश्रय या पानी की कमी के कारण। इस्लाम के सबसे पवित्र शहर मक्का में तापमान पिछले सप्ताह के अंत में शुरू हुए वार्षिक कार्यक्रम के दौरान 51.8 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ गया। हज करने के लिए, तीर्थयात्रियों को सऊदी अरब से आधिकारिक अनुमति लेनी पड़ती है। क्योंकि जितने स्थान की आवश्यकता होती है, उससे कहीं अधिक लोग आना चाहते हैं, इसलिए सऊदी अरब हर साल कोटा प्रणाली लागू करता है।

गर्म मौसम से होने वाले स्वास्थ्य जोखिमों और उनसे बचाव के तरीकों के बारे में जागरुक रहें। चित्र- अडोबी स्टॉक

भीड़भाड़ और अत्यधिक गर्मी अतीत में गंभीर समस्या रही है। सऊदी अरब की यात्रा आमतौर पर ट्रैवल एजेंसियों द्वारा की जाती है, जो अक्सर मुस्लिम समुदाय संगठनों या मस्जिदों से जुड़ी होती हैं। वे मक्का में आवास, भोजन और परिवहन की व्यवस्था करते हैं।

कब तापमान हो जाता है व्यक्ति की बर्दाश्त के बाहर

वैज्ञानिकों के अनुसार, शरीर 36 डिग्री सेल्सियस से 37.5 डिग्री सेल्सियस के बीच के तापमान में ही सबसे बेहतर तरीके से काम करता है। 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने पर, यह लो ह्युमिडिटी के स्तर पर भी खतरनाक हो सकता है। अब जब तापमान 50 डिग्री सेल्सियस के करीब है, तो स्थिति गंभीर हो जाती है। जिससे जान का जोखिम भी हो सकता है।

क्यों गर्मी बन जाती है बीमारी और मौत का कारण (Health hazards of high temperature)

1 शरीर तापमान नियंत्रित करने में विफल हो जाता है

अधिक गर्मी के कारण शरीर का आंतरिक तापमान 104°F (40°C) से ऊपर बढ़ जाता है। जिससे पसीने और अन्य कूलिंग तंत्रों के माध्यम से गर्मी को विनियमित करने की शरीर की क्षमता प्रभावित होती है। इस तापमान पर शरीर अपने प्राकृतिक कूलिंग तंत्र को मेंटेने रखने में असफल होने लगता है और उसे बाहरी मदद की जरूरत पड़ती है।

2 नर्वस सिस्टम ठीक से काम नहीं करता है

शरीर का उच्च तापमान मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे बेचैनी, अस्पष्ट आवाज, चिड़चिड़ापन, दौरे या चेतना को नुकसान हो सकता है। ये लक्षण हीट स्ट्रोक की गंभीरता को दर्शाते हैं और इसके लिए तत्काल चिकित्सा की जरूरत होती है।

3 कार्डियोवैस्कुलर स्ट्रेन

शरीर ठंडा होने के लिए त्वचा में रक्त प्रवाह बढ़ाता है, जिससे महत्वपूर्ण अंगों में रक्त प्रवाह कम हो जाता है। इससे हार्ट को अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है, जिससे हृदय गति तेज़ हो जाती है और संभावित रूप से हृदय से जुड़ी परेशनियां होने की संभावना रहती है।

4 शरीर के अंगों को नुकसान

अंगों में रक्त के प्रवाह में कमी से कई अंग काम करना बंद कर देते हैं या फेल हो सकते है। किडनी, लिवर और मांसपेशियां विशेष रूप से कमज़ोर होती हैं। रैबडोमायोलिसिस, एक ऐसी स्थिति जिसमें क्षतिग्रस्त मांसपेशी ऊतक टूट जाता है, किडनी को फेल होने का कारण बन सकता है।

5 डिहाइड्रेशन और इलैक्ट्रोलाइट असंतुलन

अत्यधिक पसीना आने से शरीर में तरल पदार्थ की कमी और डिहाइड्रेशन हो सकता है, जिससे सोडियम और पोटेशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स का संतुलन बिगड़ सकता है। इस असंतुलन के कारण मांसपेशियों में ऐंठन, कमज़ोरी और हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती है।

अगर बहुत गर्मी है तो इस तरह करें अपनी और अपने अपनों की सुरक्षा

1 व्यक्ति के शरीर को ठंडा करें

अगर गर्मी बहुत ज्यादा है और कोई व्यक्ति उसे बर्दाश्त नहीं कर पा रहा, तो उसे बचाने के लिए सपोर्ट की जरूरत होती है। इसके लिए अनावश्यक कपड़ा उतार देना जरूरी है। गीले स्पंज, गीला कपड़ा या पाइप की मदद से त्वचा को गीला कर ठंडा करें। आप उन्हें ठंडे शॉवर या नहलाने के लिए भी ले जा सकते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

गर्दन, आर्मपिट और कमर जैसे प्रमुख क्षेत्रों पर आइस पैक या ठंडे, गीले कपड़े रखें। ये क्षेत्र प्रमुख रक्त वाहिकाओं के करीब होते हैं और शरीर को अधिक प्रभावी ढंग से ठंडा करने में मदद कर सकते हैं।

Shareer ko hydrate rakhein
बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक की देखरेख के लिए उन्हें हाइड्रेट रखने के अलावा घर के तापमान को सामान्य बनाए रखना आवश्यक है। चित्र- अडोबी स्टॉक

2 हाइड्रेशन के लिए तरल पदार्थ दें

यदि व्यक्ति होश में है और पीने में सक्षम है, तो उसे तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स की पूर्ति करने के लिए नॉर्मल पानी या स्पोर्ट्स ड्रिंक दें। कैफीनयुक्त या मादक पेय पदार्थों से बचें क्योंकि वे डिहाइड्रेशन का कारण बन सकते हैं।

3 व्यक्ति के लक्षणों पर नजर रखें

व्यक्ति के शरीर के तापमान, हृदय गति और सांस लेने पर नज़र रखें। अगर वे प्रतिक्रिया न दें या सांस लेना बंद कर दें तो सीपीआर करने भी एक तरीका है। स्थिति में किसी भी बदलाव पर नज़र रखें, जैसे कि बेहोश होना, उल्टी, दौरे या होश में न रहना।

गर्म मौसम में बाहर निकलने से पहले ध्यान रखें

हाइड्रेटेड रहें- खूब सारे तरल पदार्थ पिएं, खास तौर पर व्यायाम करते समय या गर्म मौसम में समय बिताते समय।

उपयुक्त कपड़े पहनें- हल्के, ढीले-ढाले और हल्के रंग के कपड़े चुनें।

अधिक गर्मी वाले समय से बचें- दिन के ठंडे हिस्सों, जैसे कि सुबह जल्दी या देर दोपहर के दौरान ज़ोरदार गतिविधियां करने की कोशिश करें।

ये भी पढ़े- चाय-काॅफी ही नहीं मीठे और नमकीन खाद्य पदार्थ भी करते हैं आपको डिहाइड्रेट, जानिए कैसे

  • 142
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख