और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

बढ़ती उम्र में ब्लड सेल्स में परिवर्तन के कारण बढ़ जाता है इन्फेक्शन का खतरा, जानिए क्या कहता है पूरा अध्ययन

Updated on: 7 July 2021, 15:09pm IST
एक ही वायरस अलग-अलग उम्र के लोगों पर अलग-अलग तरीके से प्रहार करता है। अध्ययन में इसका कारण ब्लड सेल्स में परिवर्तन को बताया जा रहा है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 79 Likes
उम्र के साथ आपके ब्लड सेल्स में आया परिवर्तन इंफेक्शन का कारण बन सकता है। चित्र: शटरस्टॉक
उम्र के साथ आपके ब्लड सेल्स में आया परिवर्तन इंफेक्शन का कारण बन सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

हर व्यक्ति के शरीर में ब्लड सेल्स होते हैं और ये ब्लड सेल्स हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी हैं। पर क्या आप जानते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ आपके ब्लड सेल्स में भी बदलाव आता है, जिससे इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है। जनिए अध्ययन का क्या कहना है?

क्‍या है प्रमाण

शोधकर्ताओं ने पूरी दुनिया में लगभग 800,000 रोगियों के आनुवंशिक और नैदानिक ​​​​डेटा का विश्लेषण किया। उन्होंने पाया कि मोज़ेक क्रोमोसोमल परिवर्तन (एमसीए) नामक उनकी रक्त कोशिकाओं के गुणसूत्रों में एक विशिष्ट प्रकार के सेल्स सेप्सिस विकसित होने की संभावना लगभग तीन गुना अधिक थी।

एमसीए के बिना उन लोगों की तुलना में निमोनिया होने की संभावना दो गुना अधिक थी। ये आनुवंशिक परिवर्तन उम्र के साथ रक्त कोशिकाओं में जमा हो जाते हैं। जिससे बुजुर्गों में अक्‍सर क्लोनल हेमटोपोइजिस का संकेत दिखाई देता है।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ने लगता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ने लगता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

नेचर मेडिसिन में प्रकाशित इस अध्ययन में 2020 में न्यूयॉर्क की पहली COVID-19 लहर के रोगियों को भी शामिल किया गया। जिसमें पाया गया कि mCAs भी COVID-19 की तरह गंभीरता के साथ जुड़ा हुआ था।

महत्वपूर्ण है यह अध्ययन

इस शोध का नेतृत्व एमआईटी और हार्वर्ड के ब्रॉड इंस्टीट्यूट, मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल, येल विश्वविद्यालय और राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के वैज्ञानिकों की एक टीम ने किया था। उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, फिनलैंड और जापान में पांच बायोबैंक के रोगियों के डेटा का अध्ययन किया।

मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट और अध्ययन के सह-वरिष्ठ लेखक प्रदीप नटराजन ने कहा, “नमूनों की संख्या, विभिन्न समूहों की संख्या और विभिन्न टीमों की संख्या को देखते हुए ये एक महत्वाकांक्षी अध्ययन था।”

यह भी पढ़ें – डायबिटीज में खतरनाक हो सकता है गिलोय का सेवन, डॉक्‍टरों ने दी चेतावनी

उम्र के साथ बदलती हैं रक्त कोशिकाएं

एक व्यक्ति के जीवनकाल में, उसकी रक्त कोशिकाएं आनुवंशिक तौर पर परिवर्तित होती है। जिनमें से कुछ के परिणामस्वरूप रक्त, या हेमटोपोइएटिक, स्टेम कोशिकाओं का तेजी से विकास होता है। ये एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे क्लोनल हेमटोपोइजिस (सीएच) कहा जाता है।

मोज़ेक क्रोमोसोमल परिवर्तन, जो सीएच का संकेत हैं, ये असामान्य सफेद रक्त कोशिकाओं (वाइट ब्लड सेल्स ) की संख्या से जुड़े हुए हैं और रक्त, अस्थि मज्जा और लिम्फ के कैसर के जोखिम में वृद्धि हुई है। अब तक, एमसीए और इम्यून के बीच कोई सम्बन्ध नहीं पाया गया है।

यह ब्लड सेल्स के परिवर्तन पर एक महत्वपूर्ण अध्ययन है। चित्र: शटरस्टॉक
यह ब्लड सेल्स के परिवर्तन पर एक महत्वपूर्ण अध्ययन है। चित्र: शटरस्टॉक

नए अध्ययन में, टीम ने पाया कि सेप्सिस और निमोनिया के जोखिम के कारण गंभीर संक्रमण के डर से अक्सर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। खोज से पता चला है कि एमसीए के कारण कैंसर और संक्रमण दोनों का खतरा बढ़ जाता है।

कोविड – 19 उपचार में हो सकता है मददगार

अध्ययन में शामिल COVID-19 रोगियों में, 6 प्रतिशत हल्के मामलें और 17 प्रतिशत में गंभीर मामले mCA के थे। लेखकों का कहना है कि एमसीए के लिए स्क्रीनिंग से संक्रमण के बढ़ते जोखिम वाले व्यक्तियों की पहचान करने में मदद मिल सकती है, जिनसे उपाय निकाला जा सकता है।

COVID-19 रोगियों के लिए, mCAs की उपस्थिति का संकेत देने वाला एक ब्लड चेक -अप चिकित्सकों को ये तय करने में मदद कर सकता है कि पॉलीक्लोनल एंटीबॉडी जैसे रोगनिरोधी उपचार कब करें। नटराजन की टीम ये निर्धारित करने के लिए कंपनियों के साथ भी काम कर रही है कि क्या लार परीक्षण, जो आमतौर पर अधिकांश कंपनियों द्वारा प्रत्यक्ष रूप से उपयोग किया जाता है, का डीएनए में समान परिवर्तन पता लगाने के लिए किया जाता है जो रक्त में एमसीए से संबंधित होता है।

कोविड-19 के उपचार में यह अध्ययन मददगार हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

कोविड-19 के उपचार में यह अध्ययन मददगार हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉकनटराजन का कहना है कि उनके निष्कर्ष COVID-19 के बाद की दुनिया में भी जानें जाएंगे। नटराजन ने कहा, “मुझे लगता है कि हमारे लिए ये समझना महत्वपूर्ण है कि गंभीर संक्रमण का खतरा किसे है- और जिस तरह से हम आज उस जोखिम का आंकलन करते हैं, जो काफी हद तक उम्र के हिसाब से है।”

“ये काम हमें और अधिक जानने में मदद करता है और भविष्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयासों में भी मदद करता है।

यह भी पढ़ें – अगर आपको भी इंजेक्‍शन देखकर रोना आने लगता है? तो ये हो सकते हैं नीडल फोबिया के लक्षण

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।