Nesting instinct : एक मां जन्म देने से पहले ही करने लगती है खुद को बच्चे के लिए तैयार, जानिए क्या है नेस्टिंग इंस्टिंक्ट

प्रेगनेंसी के लास्ट फेज में कुछ नई मां एनर्जेटिक होकर बच्चे के आगमन की ख़ास तैयारी करने लग जाती है। यह नेस्टिंग इंस्टिंक्ट कहलाती है। कुछ ख़ास टिप्स अपनाकर इसे मैनेज भी किया जा सकता है।
pregnancy ke last phase men hota hai nesting instinct
नेस्टिंग इंस्टिंक्ट नई मां को इवोलूशन एडेप्टेशन सिखाता है, ताकि बच्चे के जन्म के बाद वह खुद को नई मां के दायित्व में ढाल सके। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 25 May 2023, 04:13 pm IST
  • 125

प्रेगनेंट होने के बाद हर महिला नये बच्चे के आगमन की तैयारी करने लगती है। गर्भवती स्त्री के दिमाग में बच्चे के लिए ख़ास तैयारी की बात दिन रात चलने लगती है। आपने महसूस किया होगा कि कुछ महिलाएं प्रेगनेंट होने पर कुछ ज्यादा ही सक्रिय हो जाती हैं। वे घर सफाई से लेकर कई अलग-अलग तरह के कामों में खुद को एंगेज करने लग जाती हैं। विशेषज्ञ इसे नेस्टिंग इंस्टिंक्ट का नाम देते हैं। जरूरी नहीं है कि सभी गर्भवती स्त्रियों में इस तरह की प्रवृत्ति का अनुभव हो। यह पूरी तरह से गर्भावस्था का एक सामान्य हिस्सा है। विशेषज्ञ से जानते हैं क्या है नेस्टिंग इंस्टिंक्ट (Nesting instinct during pregnancy) और इसे कैसे मैनेज किया जा सकता है।

स्वाभाविक प्रक्रिया

गायनेकोलोजिस्ट और सेक्सोलोजिस्ट डॉ. अंजलि कुमार अपने इन्स्टाग्राम पोस्ट में बताती हैं, ‘ गर्भावस्था के दौरान महिला को नेस्टिंग इंस्टिंक्ट होना स्वाभाविक प्रक्रिया है। पर इस इच्छा को संतुलित करना और मानसिक स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना भी महत्वपूर्ण है। इसकी अधिकता दैनिक जीवन में हस्तक्षेप कर सकती है। इसमें प्रेगनेंसी के दौरान महिला में अचानक परिवर्तन होने लगता है। प्रेगनेंट लेडी अचानक बहुत एनरजेटिक हो जाती हैं। वे नये बच्चे के स्वागत की तैयारी के लिए घर को ऑर्गेनाइज़ करने के साथ-साथ दूसरे तरह की तैयारी में भी जुट जाती है।

लास्ट फेज में अधिक होता है अनुभव

नेस्टिंग इंस्टिंक्ट का अनुभव प्रेगनेंसी के लास्ट फेज में अधिक किया जा सकता है। इसके प्रभाव के कारण प्रेगनेंट लेडी कई अलग-अलग तरह की एक्टिविटी करने लग जाती हैं। वे घर के कोने-कोने की साफ़-सफाई करती हैं। घर को नवजात बच्चे के अनुकूल सजाना-संवारना, जन्म से पहले बच्चे का कमरा टी करना, उसे डेकोरेट करना, जरूरी सामान खरीद कर जमा करना जैसे काम वे जल्दी-जल्दी पूरा कर लेना चाहती हैं।

यहां तक कि वे तरह-तरह की कुकिंग और बेकिंग भी करने लग जाती हैं। नेस्टिंग इंस्टिंक्ट नई मां को इवोलूशन एडेप्टेशन (evolution adaptation) सिखाता है, ताकि बच्चे के जन्म के बाद वह खुद को नई मां के दायित्व में ढाल सके। यह अजन्मे बच्चे की सुरक्षा और उसका ख्याल रखने का भाव भी विकसित करता है।

नेस्टिंग इंस्टिंक्ट को मैनेज करने के लिए यहां हैं 6 जरूरी टिप्स (Nesting instinct during pregnancy)

नेस्टिंग इंस्टिंक्ट को किसी भी तरह नकारात्मक रूप में नहीं देखा जा सकता है। जरूरी नहीं है कि यह हर प्रेगनेंट लेडी में मौजूद हो। पर इसकी अधिकता फिजिकल हेल्थ और मेंटल हेल्थ, दोनों के लिए सही नहीं है। इसलिए इसे मैनेज करना जरूरी है।

1 एंग्जाइटी मैनेजमेंट (anxiety management)

बच्चे के आने से पहले सभी चीजों की तैयारी अच्छी चीज है। टू-डू सूची के बारे में चिंतित होना जरूरी है, पर इसके लिए रातों की नींद खराब करना स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है। यदि आपकी नींद बाधित होने लगी है, तो पार्टनर से इसके बारे में बात करें। दोस्तों या परिवार के सदस्यों से मदद मांगें। सक्रिय रहें और एंग्जाइटी दूर करने के लिए कुछ हल्की एक्सरसाइज करें। डॉक्टर से भी बात करें।

sciatica.jpg
सक्रिय रहें और एंग्जाइटी दूर करने के लिए कुछ हल्की एक्सरसाइज करें। चित्र शटरस्टॉक।

2 शरीर के अनुरूप काम करें

यह याद रखें कि आप गर्भावस्था के अंतिम चरण में हैं। इसलिए अपने शरीर को आराम देना आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। इसलिए आराम करें। अपनी देखभाल को अपनी टू-डू सूची में रखें और इसे हर दिन चेक करें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3 सफाई को तनाव दूर करने का औजार बनाएं (Stress free home decoration)

घर की विशेष रूप से सफाई वास्तव में कुछ महिलाओं को उनकी चिंता और तनाव का प्रबंधन करने में मदद कर सकता है। लेकिन सफाई और उसके लिए किये जाने वाले काम को अपनी एंग्जाइटी और तनाव का कारण नहीं बननें दें। यह चेक करें कि नेस्टिंग इंस्टिंक्ट आपको रिलैक्स कर रहा है या एंग्जाइटी दे रहा है।

4 अपना हॉस्पिटल बैग पैक करें (pack hospital bag)

थर्ड ट्रिमस्टर शुरू होने के बाद अपना हॉस्पिटल बैग पैक करना शुरू करें। इस महत्वपूर्ण कार्य को पूरा करने के लिए नेस्टिंग एनर्जी का लाभ उठाएं

5 बच्चे का बैग पैक करें (pack newborn baby bag)

अपना हॉस्पिटल बैग पैक करते समय, उन प्यारे छोटे कपड़ों को पैक करना भी याद रखें, जो पहले दिन अपने बच्चे को पहनाना चाहती हैं। यदि आपके पास घर लौटने के लिए कोई विशेष पोशाक है, तो उसे हॉस्पिटल बैग में रखना न भूलें

Pregnancy ke dauran doctor ki nigrani zaruri jhai
अपना हॉस्पिटल बैग पैक करते समय, उन प्यारे छोटे कपड़ों को पैक करना भी याद रखें, जो पहले दिन अपने बच्चे को पहनाना चाहती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

6 नेस्टिंग प्लान बनाएं (nesting planning)

यह सुनने में जितना अजीब लगता है, नेस्टिंग प्लान बनाना वास्तव में मददगार हो सकता है। एक दिन में सब कुछ करने की कोशिश करने की बजाय हर दिन एक या दो घंटे इस योजना पर खर्च करें। प्राथमिकताओं की सूची बना कर काम करें।

यह भी पढ़ें :- Preterm Birth : समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों का कम हो पाता है विकास, जोखिम से बचने के लिए याद रखें ये 5 बातें

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख