क्या थायराइड से ग्रस्त होने पर ब्रेस्टफीडिंग करवानी चाहिए? एक्सपर्ट दे रहीं हैं इस सवाल का जवाब

थायराइड असंतुलन आसामान्य स्थिति है। जिसके कारण बहुत सारे साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। परंतु कई महिलाएं गर्भावस्था के दौरान भी थायराइड असंतुलन का सामना करने लगती हैं।

breastfeeding
क्या थायरॉइड में करा सकते हैं ब्रेस्टफीडिंग। चित्र शटरस्टॉक।
निशा कपूर Updated on: 10 October 2022, 11:11 am IST
  • 135

वैसे तो थायराइड एक आम परेशानी है, जो ज्यादातर महिलाओं को प्रभावित करती है। लेकिन इन सब में एक अच्छी बात ये है कि थायराइड (thyroid) होने के बाद भी महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं। लेकिन इन सब में परेशानी तब होती है, जब महिला को अपने बच्चे को स्तनपान कराना होता है। क्योंकि थायराइड का ब्रेस्टफीडिंग पर बुरा प्रभाव हो सकता है। थायराइड ग्लैंड का कार्य होता है हार्मोन बनाना, जो बॉडी की ग्रोथ में और उसके जरूरी कामों में सहायता करता है। यह हार्मोन ब्रेस्टफीडिंग के लिए भी आवश्यक है। तब क्या थायराइड से ग्रस्त मां को अपने बच्चे को स्तनपान (breastfeeding and thyroid disease) नहीं करवाना चाहिए? आइए जानते हैं इस बारे में सब कुछ।

पहले जानते हैं थायराइड के बारे में

असल में थायराइड दो तरह का होता है। हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म। हाइपोथायरायडिज्म थायराइड में थकान, कब्ज, ड्राई स्किन, चेहरे पर सूजन, पीरियड्स में ब्‍लीडिंग ज्‍यादा होना और हाई कोलेस्ट्रॉल जैसे लक्षण होते है। वहीं हाइपरथायरायडिज्म के लक्षणों में पसीना अधिक आना, नींद न आना और थकान होना शामिल है। यदि ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इन लक्षणों में से यदि कोई भी लक्षण नज़र आता है, तो आपको थायराइड की जांच करानी चाहिए।

पहले जानते हैं थायराइड के बारे में. चित्र शटरस्टॉक।

क्या थायराइड के दौरान बच्चे को स्तनपान करवाना चाहिए?

थायराइड से ग्रस्‍त कई महिलाओं को इस बात की चिंता होती है कि यदि उन्होंने बच्चे को स्तनपान कराया, तो कहीं इससे उनका बच्चा भी प्रभावित न हो जाए। ओरा क्लिनिक गुरुग्राम की सीनियर डायरेक्टर डॉ. रितु सेठी के मुताबिक, यदि थायराइड रोग को दवा के साथ अच्छी तरह से नियंत्रित किया जाए, तो स्तनपान कराने में कम परेशानी होती है।

लेकिन यदि हाइपोथायरायडिज्म पर ध्यान न दिया जाए, तो इससे ब्रेस्‍टमिल्‍क की आपूर्ति पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि बच्चे को नर्सिंग करते वक़्त थायराइड की दवा लेनी जरूरी है।

असल में, महिला के शरीर में गर्भावस्था के दौरान कई बड़े हार्मोनल बदलाव होते हैं। इस कारण से थायराइड के काम में भी परिवर्तन होते हैं। ब्रेस्टफीडिंग बच्चे की ग्रोथ के लिए सबसे फायदेमंद होता है, लेकिन कुछ मामलों में ब्रेस्टफीडिंग कराने से थायराइड ग्लैंड आवश्यकता से अधिक थायराइड हार्मोन बनाने लगता है।

breastfeeding
क्या थायराइड के दौरान बच्चे को स्तनपान करवा सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

स्तनपान थायराइड से भी बचा सकता है

मां और बच्चे में थायराइड की समस्याओं को रोकने में ब्रेस्‍टफीडिंग सहायता कर सकती है। ऑटोइम्यून थायराइड को कंट्रोल करने के लिए नियमित रूप से ब्रेस्‍टफीडिंग कराने से सहायता मिल सकती है।

यह भी पढ़े : क्या सच में शेविंग करने से स्किन पड़ जाती है काली? चलिए जानें क्या है सच्चाई

  • 135
लेखक के बारे में
निशा कपूर निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें