फॉलो

क्‍या आपके स्‍तन का आकार भी बढ़ा सकता है ब्रेस्‍ट कैंसर का आपका जोखिम, आइए जानते हैं

Updated on: 7 October 2020, 14:20pm IST
क्या आपके स्तन का बढ़ता आकार ब्रेस्ट कैंसर का संकेत हो सकता है? हम ले कर आए हैं आपके लिए इस सवाल का जवाब।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 80 Likes
ब्रेस्‍ट साइज क्‍या ब्रेस्‍ट कैंसर का जोखिम बढ़ा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

प्रदूषण के बढ़ते स्तर के साथ एक गतिहीन जीवन शैली ने विभिन्न बीमारियों के जोखिम को बढ़ा दिया है। मोटापा और डायबिटीज से लेकर कैंसर जैसी टर्मिनल बीमारियों तक, कोई भी व्यक्ति इन जानलेवा बीमारियों के बढ़ते मामलों से इंकार नहीं कर सकता है।

जब हम कैंसर के बारे में बात करते हैं, तो बड़े स्तनों वाली महिलाओं को अक्सर चिंता होती है कि उनके स्तन का आकार कही ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को तो नहीं बढ़ा रहा है। वैज्ञानिकों ने विभिन्न कारकों जैसे कि जीन, विषमता, व्यक्तिगत स्वास्थ्य इतिहास और आपके ब्रेस्ट डेंसिटी के बारे में बात की है। जो स्तन कैंसर के जोखिम को पहचानने में आपकी मदद करेंगे।

लेकिन, क्या वाकई किसी महिला के स्तनों का आकार एक कारक है जो कैंसर के जोखिम को निर्धारित करने में मदद कर सकता है?

क्‍या वाकई बड़े स्‍तन कैंसर के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
क्‍या वाकई बड़े स्‍तन कैंसर के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

स्तन का आकार स्तन कैंसर के जोखिम को कैसे निर्धारित करता है?

स्तन कैंसर एक जटिल बीमारी है, जो आपकी उम्र, वजन और हार्मोनल स्तर आदि विभिन्न कारकों से जुड़ी होती है। जर्नल बायोमेड सेंट्रल मेडिकल जेनेटिक्स पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में लगभग 16,000 महिलाओं की जांच की गई और पाया गया कि स्तन कैंसर के जोखिम का निर्धारण करते समय स्तन का आकार मदद कर सकता है।

शोधकर्ताओं ने कई महिलाओं के ब्रेस्ट साइज पर सर्वेक्षण किया और एक जीनोम, एक जेनेटिक मटेरियल की पहचान की, जो स्तन कैंसर के बढ़ते जोखिम से जुड़ी थी। प्रमुख लेखक, निकोलस एरिकसन कहते हैं, ” जेनेटिक वैरिएशन का स्तन कैंसर और स्तन के आकार में प्राकृतिक भिन्नता दोनों पर प्रभाव पड़ता है। बड़े स्तनों में कैंसर का जोखिम थोड़ा अधिक होता है।”

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ कैंसर में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि एक स्लेंडर वूमेन जो डी कप ब्रा पहनती है, उन्हें ए कप ब्रा साइज वाली स्लेंडर वूमेन की तुलना में स्तन कैंसर के होने का जोखिम लगभग दोगुना बढ़ जाता है। हालांकि, शोध में अन्य अंतर्निहित कारकों पर ध्यान नहीं दिया गया। जैसे कि जीन।

अक्‍टूबर ब्रेस्‍ट कैंसर अवेयरनेस मंथ है। चित्र : शटरस्टॉक
अक्‍टूबर ब्रेस्‍ट कैंसर अवेयरनेस मंथ है। चित्र : शटरस्टॉक

निष्कर्ष क्या निकाला जा सकता है?

हालांकि स्तन के आकार और स्तन कैंसर के आसपास कई अध्ययन हैं। फि‍र भी कोई भी परिणाम प्रत्यक्ष लिंक स्थापित नहीं कर सकता है। हालांकि, जेनेटिक कारकों के बीच एक ओवरलैप है जो स्तन के बड़े आकार और स्तन कैंसर का कारण बन सकता है।

इसलिए, अपने स्तन के आकार के बारे में चिंतित न हों और किसी को भी यह विश्वास न करने दें कि स्वाभाविक रूप से बड़े स्तन कैंसर जैसी टर्मिनल बीमारी के खतरे में डाल सकते हैं। यदि वजन बढ़ने से आपके स्तन के आकार में वृद्धि हुई है, तो हम कहते हैं कि आप अपने आप को स्वस्थ आहार के लिए प्रतिबद्ध करें और मोटापे से जुड़े स्वास्थ्य जोखिमों से बचने के लिए व्यायाम करें।

यह भी पढ़ें – अक्‍टूबर है आपके लिए खास, जानें वे 10 कारण जिनसे बढ़ सकता है ब्रेस्‍ट कैंसर का जोखिम

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।