फॉलो
वैलनेस
स्टोर

गठिया की दवा के दुष्प्रभाव कम करने के लिए भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजा दवा देने का नया तरीका

Published on:26 October 2020, 19:00pm IST
भारतीय वैज्ञानिकों ने गठिया की दवा सल्फापायरीडाइन के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए रोगियों को दवा देने का नया तरीका खोजा है।
भाषा
  • 71 Likes
वैज्ञानिकों ने गठिया की दवा देने का एक नया तरीका खोज निकाला है। चित्र: शटरस्‍टॉक

गठिया के मरीजों के लिए एक अच्‍छी खबरक है। लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दवा देने का एक ऐसा नया तरीका खोज निकाला है, जिससे उन्‍हें इसके साइड इफैक्‍ट्स नहीं झेलने होंगे। आइए जानते हैं क्‍या है वह नया तरीका और इससे किसको हो सकता है लाभ।

पंजाब स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार सल्फापायरीडाइन गठिया (रूमटॉइड आर्थराइटिस) की तीसरी सबसे पुरानी दवा है जो अब भी इस्तेमाल होती है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

क्‍या होते हैं साइड इफैक्‍ट्स

अभी तक गठिया के मरीजों को लंबे समय तक सल्फापायरीडाइन दवा का सेवन करना पड़ता है। पर इससे जहां गठिया में लाभ मिलता है, वहीं कई अन्‍य तरह के साइड इफैक्‍ट्स भी देखने में आते हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि लंबे समय तक इस दवा के सेवन से जी मिचलाना, उल्टी आना, त्वचा पर चकत्ते पड़ना, चक्कर आना, बेचैनी और पेट में दर्द जैसे दुष्प्रभाव सामने आते हैं।

आर्थ्राइटिस की दवा लेने पर त्‍वचा पर चकत्‍ते होने लगते हैं। चित्र : शटरस्टॉक।
आर्थ्राइटिस की दवा लेने पर त्‍वचा पर चकत्‍ते होने लगते हैं। चित्र : शटरस्टॉक।

एलपीयू में स्कूल ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज के एसोसिएट प्रोफेसर भूपिंदर कपूर ने कहा कि , ”अत्यधिक खुराक की वजह से दवा के अणु के दुष्प्रभाव होते हैं। इसलिए हमने एक ऐसा तरीका निकाला है जिससे दवा को सीधे शरीर के प्रभावित हिस्से तक पहुंचाया जा सकता है और यह सुरक्षित है।

जानिए क्‍या है वह नया तरीका

‘मैटेरियल्स साइंस एंड इंजीनियरिंग सी नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने सल्फापायरीडाइन का एक ‘प्रोड्रग विकसित करने और इसे दवा देने के नये तरीके में शामिल करने की जानकारी दी है।

यह भी पढ़ें – अगर आप दिल्‍ली-एनसीआर में रहती हैं, तो आपको जरूर पढ़नी चाहिए लांसेट में प्रकाशित यह स्‍टडी

प्रोड्रग को रोगी के शरीर के प्रभावित हिस्से में सीधे इंजेक्ट किया जाता है। इसका दवा के रूप में सेवन नहीं किया जाता। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि इसका मतलब है कि दवा शेष शरीर में फैले बिना सीधे प्रभावित अंग तक पहुंचती है।

अनुसंधानकर्ताओं के दल ने दवा देने की इस नवोन्मेषी प्रणाली के प्री-क्लीनिकल ट्रायल और परीक्षण सफलतापूर्वक किये हैं। इस अध्ययन का संचालन फोर्टिस अस्पताल, लुधियाना और तमिलनाडु के ऊटी स्थित जेएसएस कॉलेज ऑफ फार्मेसी के साथ मिलकर किया गया है।

यह भी पढ़ें – इस स्‍टडी के अनुसार हर रोज सिर्फ एक पैग भी आपको दिखा सकता है 10 साल तक बूढ़ा

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *