शिशुओं में अस्थमा का कारण बन सकता है डिसइन्फेक्टेंट का बढ़ता इस्तेमाल

Published on: 4 April 2022, 21:00 pm IST

एक नए अध्ययन के अनुसार गर्भवती महिलाओं का डिसन्फ़ेक्टेंट के संपर्क में आना, उनके बेबी की सेहत पर पड़ सकता है भारी। अस्थमा का बन सकता है कारण।

pregnancy mein takleef ka karan ban sakte hain disinfectant
शिशुओं में अस्थमा का कारण बन सकता है डिसइन्फेक्टेंट। चित्र : शटरस्टॉक

कोविड – 19 महामारी (Covid – 19 Pandemic) के बाद से हम सभी अपनी स्वछता को लेकर सजग हो गए हैं। बार – बार हाथ धोना सैनिटाइज़ करना और डिसइन्फेक्टेंट(Disinfectant) का इस्तेमाल करना, अब हमारी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है। हाथ धोना तो एक अच्छी आदत है। मगर डिसइन्फेक्टेंट का इस्तेमाल करना आपके स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है। खासकर यदि आप गर्भवती हैं तो, यह आपके बच्चों में अस्थमा का कारण भी बन सकता है। इसलिए कीटनाशक का उपयोग करने से पहले दो बार सोचें।

‘Occupational and Environmental Medicine’ पत्रिका में प्रकाशित हुये एक अध्ययन के अनुसार, गर्भवती महिलाओं द्वारा कीटनाशकों का अत्यधिक उपयोग उनके बच्चों में अस्थमा और एक्जिमा के लिए एक जोखिम कारक हो सकता है।

अस्पतालों और अन्य चिकित्सा सुविधाओं में कीटनाशकों का अक्सर उपयोग किया जाता है। कोविड -19 महामारी ने मेडिकल सेटिंग्स में उनके उपयोग में वृद्धि की है। वर्कप्लेस में कीटनाशकों के संपर्क में आए लोगों में अस्थमा (Asthama) और डेर्मेटाईटिस (Dermatitis) की सूचना मिली है। मगर कुछ अध्ययनों ने गर्भावस्था के दौरान कीटनाशकों के उपयोग से बच्चों में हो रही एलर्जी (Allergy) की बीमारी का भी पता लगाया है।

जानिए अध्ययन में क्या सामने आया

लेखकों ने जापान पर्यावरण और बच्चों के अध्ययन में भाग लेने वाले 78,915 मां-बच्चे के जोड़े पर इस डेटा का इस्तेमाल किया। यह जांचने के लिए कि क्या कार्यस्थल में कीटनाशकों का प्रयोग बच्चों में एलर्जी रोगों के निदान के बढ़ते जोखिम से जुड़ा था। शोध में सामने आया कि उन बच्चों में अस्थमा या एक्जिमा होने की संभावना काफी अधिक थी जिनकी माताओं नें सप्ताह में एक से छह बार कीटाणुनाशक का उपयोग किया है।

यह जोखिम अस्थमा के लिए 26 प्रतिशत अधिक और 29 प्रतिशत तक है।

एक तरफ बच्चों में एक्जिमा (Eczema) का जोखिम भी ज़्यादा पाया गया, बजाय उनके जिन्होनें कभी डिसइन्फेक्टेंट का उपयोग नहीं किया था। तो वहीं दूसरी ओर कीटनाशक का उपयोग और खाद्य एलर्जी के बीच कोई महत्वपूर्ण संबंध नहीं सामने आया।

लेखकों का कहना है कि, “हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि गर्भावस्था के दौरान एक्सपोजर संतानों में एलर्जिक प्रभाव डालता है। उन्होंने आगे कहा, “नए कोरोनावायरस संक्रमणों को रोकने के लिए कीटाणुनाशकों के वर्तमान बढ़ते उपयोग को देखते हुए, यह विचार करना सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है कि क्या प्रसवपूर्व कीटाणुनाशक जोखिम एलर्जी रोगों के विकास के लिए एक जोखिम है।

यह भी पढ़ें : आपकी आंखों के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकती हैं गर्मियां, एक्सपर्ट बता रहे हैं कुछ समर आई केयर टिप्स

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें