ओमिक्रोन के बूम के बीच IHU वैरिएंट की दस्तक, फ्रांस में सामने आया वायरस का नया स्वरूप

Updated on: 6 January 2022, 14:29 pm IST

कोरोनावायरस के मामले जिस तेजी से बढ़ रहे हैं और जितनी तरह के वैरिएंट सामने आ रहे हैं, उनमें सतर्क रहना सबसे ज्याद जरूरी है।

IHU varient kya hai
ओमीक्रोन के बाद IHU वैरिएंट ने दी दस्तक। चित्र ; शटरस्टॉक

मुंबई में पिछले चौबीस घंटों में ओमिक्रोन समेत कोरोनावायरस के जितने मामले सामने आए, उन्होंने दूसरी लहर की पीक में सामने आए आंकड़ों को पीछे छोड़ दिया। जबकि दिल्ली, केरल, राजस्थान, गुजरात सहित कोई भी राज्य ओमिक्रोन के संक्रमण से बचा नहीं है। ऐसे में एक नया वेरिएंट IHU फ्रांस में दस्तक दे चुका है। जानिए क्या है वैज्ञानिक और चिकित्सक समुदाय के लिए नई चिंता का यह सबब। 

पिछले तीन महीनों में तीन वैरिएंट आए सामने 

ओमिक्रोन, डेल्मीक्रोन और अब आईएचयू,  पिछले तीन महीने में कोरोनावायरस संक्रमण के तीन नए वैरिएंट सामने आए हैं। 

एक के बाद एक खतरनाक वैरिएंट ( covid New variant ) चिंता का विषय बने हुए हैं। अभी दुनिया पूरी तरह से डेल्टा वैरिएंट ( delta variant) से उबर नहीं पाई थी, कि ओमिक्रोन वैरिएंट (Omicron variant) के मामले दुनिया में तेजी से बढ़ने लगे। वहीं कोरोना वायरस संक्रमण का एक और नया वेरिएंट B.1.640.2 भी सामने आ गया है, जिसे IHU नाम दिया गया है।

pehli baar mila IHU varient
चिंता बढ़ा रहें हैं कोरोना के नए रूप। चित्र : शटरस्टॉक

क्या है IHU वैरिएंट और कहां पाया गया 

कोरोना वायरस संक्रमण का IHU वैरिएंट फ्रांस (France) में पाया गया। फ्रांस में अब तक इसके 12 मामले दर्ज किए गए हैं। ग्लोबल एक्सपर्ट के अनुसार यह नया वेरिएंट चिंता का विषय बन रहा है। 

ऐसा इसलिए है क्योंकि इस नए वैरिएंट में डेल्टा की तरह ही रेस्पिरेट्री यानी सांस से जुड़ी समस्याएं देखने को मिली हैं ( symptoms of IHU)। वहीं दूसरी तरफ ओमिक्रोन के संक्रमण में हल्का बुखार, थकान और गले में खराश जैसे हल्के लक्षण हैं। 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस नए वैरिएंट को अफ्रीकी देश कैमरून के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। एक्सपर्ट के मुताबिक इस नए वेरिएंट में 46 म्यूटेशन हो सकते हैं। इसी को लेकर डर बढ़ता जा रहा है कि नए वेरिएंट में मौजूदा वैक्सीन के प्रभाव को बेअसर करने की क्षमता ज्यादा होगी।

विशेषज्ञों की चिंता बढ़ा रहा नया वेरिएंट IHU

कोरोना वायरस के लगातार नए वैरिएंट मिलने से वैक्सीन के प्रभाव पर कई सवाल उठते नजर आ रहे हैं, जिसके कारण चिंता बढ़ती जा रही है। हाल ही में यूएस एपिडेमायोलॉजिस्ट और हेल्थ इकोनॉमिस्ट एरिक फिगल डिंग ने IHU वेरिएंट को लेकर ट्वीट किया जिसमें उन्होंने बताया कि कोरोना के नए वैरिएंट लगातार सामने आ रहे हैं। 

लेकिन ऐसा बिल्कुल जरूरी नहीं है कि हर वेरिएंट बहुत ज्यादा खतरनाक हो, ट्वीट में लिखा गया कि म्यूटेशन की संख्या ही किसी भी वैरिएंट को खतरनाक बनाती है।

सांस से जुड़ी होती है परेशानी 

फ्रांस के एक निजी अखबार के अनुसार जिन लोगों को यह नया संक्रमण हुआ है वे सभी लोग पूरी तरह से वैक्सीनेटेड हैं। यह सभी लोग पॉजिटिव होने से 3 दिन पहले ही नवंबर में कैमरून से फ्रांस लौट कर आए थे। जिसके बाद इन्हें सांस से जुड़ी कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा। 

saas se judi dikkat de raha IHU
सांस से जुडी दिक्कतें दे रहा है IHU वैरिएंट। चित्र: शटरस्टॉक

हालांकि जब टेस्टिंग हुई तो संक्रमण में स्पाइक प्रोटीन डेल्टा वेरिएंट से काफी अलग थे। सिर्फ 12 मामलों के आधार पर कुछ भी स्पष्ट कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन सावधानी पहली प्राथमिकता है।

भारत में क्या है कोविड-19 का हाल 

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर भयानक रूप ले कर आ रही है। मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। ओमिक्रोन वैरिएंट की बात करें तो 2100 से ज्यादा मामले अब तक दर्ज किए जा चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार बुधवार तक देश के 6 राज्यों में ओमिक्रोन वैरिएंट के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए। जिसमें महाराष्ट्र में 653, दिल्ली में 464, केरल में 185, राजस्थान में 174, गुजरात में 154 और तमिलनाडु में 121 मामले सामने आए हैं।

यह भी पढ़े : यहां समझिए क्या है कोवैक्सिन के एक्सपायर होने और शेल्फ लाइफ बढ़ाए जाने का पूरा मामला, क्या यह सुरक्षित है?

अक्षांश कुलश्रेष्ठ अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें