अपने दिल से करती हैं प्यार, तो तेज चलने की आदत डालिए, जानिए क्या कहता है यह शोध

दिल सिर्फ प्यार करने के लिए ही नहीं, सेहतमंद रहने के लिए भी बहुत जरूरी है। इसलिए अगर आप लंबे समय तक जवां और सेहतमंद रहना चाहती हैं, तो अपने दिल की सुनिए।
सप्ताह में एक घंटे ब्रिस्क वॉक करना भी फायदेमंद। चित्र: शटरस्टॉक
श्याम दांगी Published on: 7 February 2022, 11:13 am IST
ऐप खोलें

अगर आप खुद को फिट रखने के लिए जिम या दूसरी फिजिकल एक्टिविटी से कतराते हैं, तो तेज चलना (Brisk Walking) आपके लिए एक अच्छी एक्सरसाइज है। यह न सिर्फ आपको सेहतमंद और तरोताजा रखेगा, बल्कि इससे आपका दिल भी आपका लंबे समय तक साथ देगा। हाल ही में हुआ एक शोध इस बात का दावा करता है, कि जो लोग तेज़ चलते हैं उनका दिल ज्यादा दिन तक जवां और सेहतमंद रहता है। आइए जानते हैं इसके बारे में और विस्तार से। 

क्या कहता है दिल की सेहत वाला शोध 

अमेरिका की ब्राउन यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि तेजी से टहलने (Brisk walking) से महिलाओं में हार्ट फेलियर का खतरा 34 फीसदी तक कम हो जाता है। शोध में यह भी कहा गया है कि धीमे-धीमे टहलने की बजाय तेजी से टहलना सेहत के लिए ज्यादा फायेदमंद है। 

25 हजार से अधिक महिलाओं पर किया गया शोध (Research on more than 25 thousand women)

इस शोध के लिए 25,183 महिलाओं के हेल्थ रिकॉर्ड का एनालिसिस किया गया। इन सभी महिलाओं की उम्र 50 से 79 साल के बीच थी। इनके लगभग 17 साल के हेल्थ रिकॉर्ड को ट्रैक किया गया था। इस दौरान महिलाओं से उनकी वॉक हैबिट के बारे पूछा गया। 

शोध में यह बात सामने आई कि इन 25 हजार से अधिक महिलाओं में से करीब 1,455 महिलाओं को हार्ट अटैक का सामना करना पड़ा। जिन महिलाओं की वॉकिंग स्पीड 4.8 किमी प्रति घंटे से अधिक थी, उनमें हार्ट फेलियर का जोखिम 34 फीसदी कम पाया गया। दूसरी तरफ जिन महिलाओं की वॉकिंग स्पीड 3.2 किमी प्रति घंटे के आसपास थी, उन्हें 27 फीसदी कम खतरे का सामना करना पड़ा।  

तेज नहीं चल पातीं कमजोर दिल वाली महिलाएं 

रिसर्च के प्रमुख राइटर डॉ. चार्ल्स एटॉन के अनुसार, टहलने की तेज गति दिल की सेहत के लिए अच्छी मानी गई। ऐसे में अगर आप वॉक के दौरान तेज गति से टहल नहीं पा रही है, तो आपको सचेत हो जाना चाहिए। 

जिन महिलाओं में हार्ट फेलियर का खतरा है, उनका ब्लड सर्कुलेशन भी प्रभावित देखा गया। डॉ. एटॉन का यह भी कहना है कि उम्र बढ़ने के साथ भी हार्ट फेलियर की समस्या बढ़ जाती है। हालांकि, एक हेल्दी लाइफस्टाइल को फॉलो करके इसमें सुधार किया जा सकता है। साथ ही उनका कहना हैं कि चलने की तेज गति से ब्लड सर्कुलेशन की प्रक्रिया अच्छी रहती है। इससे दिल की सेहत बेहतर होती है और इससे संबंधित बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।  


टहलने की तेज गति दिल की सेहत के लिए अच्छी मानी गई। चित्र: शटरस्टॉक

धीमा चलना दिल के लिए हानिकारक (Slow walking is bad for the heart) 

ब्राउन यूनिवर्सिटी की यह रिसर्च अमेरिकन जेरियाट्रिक्स सोसायटी जर्नल में प्रकाशित हुई थी। इस शोध में यह बात भी सामने आई कि दिल की मांसपेशियों के लिए धीमा चलना नुकसानदायक है। इस वजह से धीमे चलने वालों की बजाय तेज गति चलने वालों को इसका अधिक फायदा मिलता है। 

रिसर्च से जुड़े साइंटिस्ट का कहना है कि इस शोध से ब्रिटेन में हुई एक पिछली रिसर्च के दावों को बल मिलता है, जो करीब 27 हजार महिलाओं पर किया गया था। जिसमें दावा किया गया था कि तेज चलने की वजह से दिल संबंधी जोखिम 20 फीसदी कम हो जाते हैं। ऐसे में आप अपने दिल की सेहत को सुधारने के लिए अपने वॉकिंग स्पीड में इजाफा कर सकती हैं।  

थोड़े समय की ब्रिस्क वॉक भी है फायदेमंद (Short brisk walk beneficial)  

शोध में एक अहम बात यह भी सामने आई है कि हार्ट फेलियर का जोखिम कम करने के लिए सप्ताह में एक घंटे ब्रिस्क वॉक (तेजी से टहलना) करना भी फायदेमंद है। एक घंटे की ब्रिस्क वॉक सप्ताह में दो घंटे सामान्य या धीमा टहलने के बराबर होता है। इसका मतलब यह है कि जो महिलाएं तेज गति से टहल नहीं पाती है, उनके लिए सामान्य गति से चलना भी फायदेमंद है। इसके अलावा थोड़े समय के लिए तेज वॉक बेहद फायदेमंद है। जो कि सप्ताह में 150 मिनट वर्कआउट के बराबर है।

यह भी पढ़ें: रिवर्स वॉकिंग के ये फायदे जानती हैं आप, कमाल की है ये आसान सी एक्सरसाइज

लेखक के बारे में
श्याम दांगी

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story