छोटे बच्चों में बढ़ रहे हैं खसरे के मामले, जानिए क्या सोशल डिस्टेंसिंग इसका बचाव है!

Published on: 15 May 2022, 15:30 pm IST

मीजल्स यानी खसरा के बारे में कई तरह की मान्यताएं प्रचलित हैं। पर इनमें सबसे ज्यादा होम आइसोलेशन को महत्व दिया जाता है। क्या वाकई ये उपाय कारगर है?

khasare ke badh raha prakop
इन दिनों बच्चों में खसरे का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। चित्र : शटरस्टॉक

कोरोनावायरस, टोमैटो फ्लू व अन्य मौसमी सक्रमण के बीच हरियाणा के नुह जिले से खसरे (Measles) का मामला सामने आया है। दो लोगों में इसकी पुष्टि होने के बाद हरियाणा स्वास्थ विभाग ने 47 और के चपेट में होने की आशंका जताई है। मिली जानकारी के मुताबिक, जिले के कम से कम चार गांव इस संक्रमण की चपेट में हैं। यह संक्रमण ज्यादातर छोटे बच्चों में होता है। पुराने वक्त में खसरा से पीड़ित व्यक्ति को आइसोलेशन (Isolation) में रखा जाता था। क्या वाकई खसरे को फैलने (How to prevent Measles) से रोकने में सोशल डिस्टेंसिंग कारगर है? आइए जानते हैं खसरे के बारे में सभी जरूरी जानकारियां।

जिले के जिन गांवों में खसरे का मामला पाया गया हैं उन गावों का दौरा करने पहुंचे हरियाणा टीकाकरण अफसर विरेन्द्र सिंह अहलावत ने अब तक दो मामले मिलने की पुष्टि की है बाकी और 47 लोग संदिग्ध बताए जा रहे हैं। बता दें कि राज्य में मिले कुल संबंधित मामलों की पूरी डिटेल अभी तक जारी नहीं की गई है।

यह भी पढ़ें :- घुटनों में दर्द का कारण हो सकता है हाई यूरिक एसिड, जानिए इसे कैसे कंट्रोल करना है

वहीं नेशनल हेल्थ मिशन के डॉयरेक्टर प्रभजोत सिंह से मिली जानकारी के अनुसार, शुरुआत में आशा कार्यकर्ताओं को जिले के धंधोला गांव के एक ही घर में खसरे के तीन मामले मिले थे। नौ से 10 मई के बीच किए गए सर्वे में जिले के अन्य गांव मरोरा में आठ और नए मामले दर्ज किए गए थे।

आए दिन तेजी से बढ़ रहे मामलों को देखते हुए आइए जानें खसरा के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में। साथ ही जानेंगे उससे बचने के तरीके।

पहले जानिए खसरा के बारे में कुछ जरूरी जानकारी

खसरे की गंभीरता का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि इसके कारण हर साल करीब 26 लाख लोगों को अपनी जान गवानी पड़ती थी। साल 1963 में वैक्सीन आने के बाद हर 2 से 3 साल में इस प्रमुख महामारी (major epidemic) के खिलाफ बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन की शुरुआत की गई। सुरक्षित और प्रभावी वैक्सीन होने के बावजूद साल 2018 में एक लाख 40 हजार से अधिक लोगों की मौत खसरे के कारण हो गई। जिनमें ज्यादातर 5 साल से कम आयु के बच्चे शामिल थे। खसरा के कारण होने वाली मौतों को रोकने में वैक्सीन सबसे अहम है।
इसलिए बच्चें और प्रगनेंट महिलाओं को इसकी वैक्सीन जरुर लगवा लेनी चाहिए। जिन इलाकों में इसका संक्रमण फैल रहा है उन जगहों पर भीड़भाड़ न होने दें। ऐसे लोगों को भी इन जगहों पर नहीं जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें :- डियर लेडीज, जानिए क्या होता है जब आप लंबे समय तक काम करती हैं

क्या हो सकते हैं खसरे के लक्षण

विश्व स्वास्थ संगठन (World Health Organization) के मुताबिक-
आमतौर पर खसरा तेज बुखार के साथ शुरु होता है। इस बीमारी से संबंधित वायरस के चपेट में आने के करीब 10 से 12 दिन बाद पीड़ित को बुखार आता है। यह बुखार पीड़ित में 4 से 7 दिनों तक रह सकता है। इसके साथ खांसी, आंखें लाल होना व उससे पानी निकलना भी शुरू हो जाता है। शुरुआती दिनों में गाल के भीतरी भागों में सफेद छोटे धब्बे दिखाई देते हैं।

कुछ दिनों के बाद अमूमन पीड़ित के चेहरे और गर्दन के ऊपरी हिस्से पर दाने निकल आते हैं। करीब 3 दिनों में ये दाने तेजी से फैलकर हाथों और पैरों तक पहुंच जाते हैं। दाने 5 से 6 दिनों तक दिखाई देते हैं फिर धीरे-धीरे गायब होने लगते हैं। संबंधित वायरस के संपर्क में आने के औसतन 14 दिन तक (7 से 18 दिनों तक) दाने शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर नजर आते हैं।

क्या है खसरे का कारण

WHO के अनुसार खसरा पैरामाइक्सोवायरस फैमिली के एक वायरस के कारण होने वाली बेहद संक्रामक, गंभीर बीमारियों में से एक है। आम तौर पर इसका संक्रमण संबंधित वायरस से संक्रमित हवा के जरिए लोगों के सीधे संपर्क में आने से हो जाता है। शरीर में पहुचने के बाद यह वायरस सांस लेने संबंधी अंगो को संक्रमित करता है फिर पूरे शरीर में फैल जाता है।

यह भी पढ़ें :- बच्चे के जन्म के बाद तुरंत काम पर लौटना चाहती हैं, तो जानिए ये कितना सही है या गलत

जब खसरा फैल रहा हो, तो अपने बच्चों को कैसे बचाएं

खसरा खांसने और छींकने, निकट व्यक्तिगत संपर्क या संक्रमित के नाक या गले से निकलने वाले स्राव के सीधे संपर्क से फैलता है। ऐसे में बचाव के लिए संक्रमित व्यक्ति से दूरी बनाए रखना चाहिए।

खसरे का वायरस हवा में या संक्रमित सतहों पर 2 घंटे तक सक्रिय और संक्रामक रहता है। यह संक्रमित व्यक्ति में दाने की शुरुआत से 4 दिन पहले से लेकर दाने निकलने के 4 दिन बाद तक फैल सकता है। ऐसे लोगों से दूरी बनाए रखना जरूरी है।

कई बार जानलेवा हो जाता है खसरे का संक्रमण

खसरे से संबंधित मौतें ज्यादातर अन्य बीमारीयों की जटिलताओं के कारण होती हैं। ज्यादातर 5 साल से कम आयु के बच्चों और 30 साल से अधिक आयु के वयस्कों में खसरे के सक्रमण की जटिलताएं गंभीर होती है। जिन बच्चों को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता उनमें अधिकतर खसरे के संक्रमण का गंभीर रुप देखने को मिल सकता है। यह गंभीरता खासकर उन बच्चों में देखने को मिल सकती है जो विटामिन ए की कमी से जूझ रहे होते हैं। जिन वयस्कों में एचआईवी या अन्य किसी घातक संक्रमण के कारण इम्युनिटी कमजोर हो चुकी है, उनके लिए भी खसरा घातक हो सकता है।

यह भी पढ़ें :- पेट की गैस से लेकर पीरियड क्रैंप तक कई समस्याओं में राहत दिला सकती है अजवायन

खसरे का उपचार

खसरा वायरस के लिए कोई विशेष एंटीवायरल उपचार मौजूद नहीं है। जिस किसी को इसका संक्रमण हो जाए उसकी उचित देखभाल कर जोखिम को कम किया जा सकता है। डब्ल्यूएचओ की सिफारिश है कि इससे पीड़ित व्यक्ति को ओरल रिहाइड्रेशन लिक्विड, अच्छा पोषण, पर्याप्त लिक्विड वाला आहार देना चाहिए और डिहाइड्रेशन का उपचार जरुर करना चाहिए।

हमेशा हाइड्रेटेड बनाए रखना चाहिए। ऐसा करके दस्त या उल्टी से खोए गए पानी के मात्रा की भरपाई को आसानी से बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

आंख व कान के संक्रमण और निमोनिया के इलाज के लिए डॉक्टर की सलाह से एंटीबायोटिक्स लेना चाहिए।

डब्ल्यूएचओ की सिफारिश के मुताबिक, खसरे से पीड़ित बच्चे को 24 घंटे के अंतराल पर विटामिन ए की दो खुराक लेनी चाहिए। जिससे उनके आंखों को होने वाले नुकसान और अंधापन को रोकने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें :- कैंसर का भी कारण बन सकता है बार-बार गर्म किया या जला हुआ खाना, एक्सपर्ट बता रहे हैं कारण

मिथिलेश कुमार पटेल मिथिलेश कुमार पटेल

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता में डिप्लोमा कर चुके मिथिलेश कुमार सेहत, विज्ञान और तकनीक पर लिखने का अभ्यास कर रहे हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें