लॉग इन

Disease X : कोविड-19 महामारी से 20 गुना ज्यादा घातक हो सकती है डिजीज एक्स, जानिए इसके बारे में विस्तार से

डिजीज एक्स का विचार डब्ल्यूएचओ के 2018 R&D ब्लूप्रिंट से उभरा, जिसका उद्देश्य महामारी के लिए वैश्विक तत्परता में सुधार करना है। यह मानते हुए कि इतिहास अप्रत्याशित प्रकोपों ​​से भरा पड़ा है
डिजीज X किसी भी प्रकार के रोगजनक के कारण हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक
संध्या सिंह Updated: 11 Jun 2024, 02:30 pm IST
मेडिकली रिव्यूड
ऐप खोलें

पिछले कई समय में दुनिया भर में संक्रामक रोगों के प्रकोप में खतरनाक वृद्धि देखी गई है। संभावित भविष्य के संकट के लिए, वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अगली महामारी रोग एक्स (Disease X) के कारण हो सकती है। मौसमी बीमारी से जुड़ा एक इन्फ्लूएंजा, इस संभावित खतरे के रूप में उभरा है। नए उभरते संक्रामक रोगों की संख्या बढ़ रही है, और जैसा कि COVID-19 महामारी में देखा गाया था कि, संक्रामक रोग किसी एक प्रदेश या देश तक सीमित नहीं रहते। ये किसी जेंडर या आयु वर्ग तक भी सीमित नहीं रहते। इसलिए हमें भविष्य के प्रकोपों ​​का जवाब देने के लिए वैश्विक स्तर पर तैयार रहने की आवश्यकता है।

क्या है Disease X

डिजीज एक्स का विचार डब्ल्यूएचओ के 2018 R&D ब्लूप्रिंट से उभरा, जिसका उद्देश्य महामारी के लिए वैश्विक तत्परता में सुधार करना है। यह मानते हुए कि इतिहास अप्रत्याशित प्रकोपों ​​से भरा पड़ा है, ब्लूप्रिंट में रोग एक्स को ऐसे रोगजनकों के लिए प्लेसहोल्डर के रूप में शामिल किया गया है, जिन्हें अभी तक खोजा या समझा नहीं गया है। यह पहल SARS, MERS और जीका वायरस जैसी बीमारियों के पिछले अनुभवों से प्रेरित थी, जिसने दुनिया को चौंका दिया और खतरनाक बीमारी और मृत्यु दर का कारण बना।

डिजीज X व्यक्ति से व्यक्ति में तेज़ी से फैल सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

क्यों इतनी ज्यादा खतरनाक मानी जा रही है Disease X (Why Disease X is harmful)

डिजीज X किसी भी प्रकार के रोगजनक के कारण हो सकता है, जिसमें वायरस, बैक्टीरिया, फंगस शामिल हैं। डिजीज X को विशेष रूप से चिंताजनक बनाने वाली मुख्य विशेषताएं हैं

फैलने की बहुत अधिक दर- डिजीज X व्यक्ति से व्यक्ति में तेज़ी से फैल सकती है, संभवत श्वसन के छींटों, सीधे संपर्क या संचरण के अन्य तरीकों के माध्यम से।

पहले से मौजूद प्रतिरक्षा की कमी – एक बड़ी संख्या में लोगों में पहले से मौजूद प्रतिरक्षा बहुत कम या बिल्कुल नहीं हो सकती है। जिसके परिणामस्वरूप व्यापक संवेदनशीलता होती है।

प्रभावी उपचार या वैक्सीन का अभाव- शुरुआत में, कोई प्रभावी उपचार या टीके उपलब्ध नहीं हो सकते हैं, जिससे प्रकोप को नियंत्रित करने के प्रयास जटिल हो सकते हैं।

Disease X कितना नुकसान पहुंचा सकती है

डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी है कि डिजीज X के कारण कोविड-19 की तुलना में 20 गुना अधिक मौतें हो सकती हैं।

कोविड-19 ने दुनिया भर में लगभग सात मिलियन लोगों की जान ली है। 2023 में, हेल्थ केयर प्रोफेशनल ने चेतावनी दी है कि कोई भी नई महामारी और भी घातक हो सकती है। जिससे दुनिया भर में अनुमानित 50 मिलियन लोगों की मौत हो सकती है।

कोविड-19 महामारी, जो नए कोरोनावायरस SARS-CoV-2 के कारण हुई, डिजीज X का एक स्पष्ट उदाहरण है। इसके उभरने से पहले, वायरस अज्ञात था, और यह अभूतपूर्व गति और प्रभाव के साथ वैश्विक स्तर पर फैल गया। कोविड-19 ने वैश्विक स्वास्थ्य प्रणालियों में कमजोरियों और डिजीज X की विनाशकारी क्षमता को सबके सामने ला दिया।

क्या हो सकती हैं Disease X से निपटने के लिए तैयारियां (How to deal with Disease X)

1 निगरानी और प्रारंभिक पहचान

बीमारी के असामान्य पैटर्न का जल्दी पता लगाने के लिए वैश्विक निगरानी प्रणालियों को मजबूत करना एक्शन करने के लिए महत्वपूर्ण समय प्रदान कर सकता है। इसमें नैदानिक ​​क्षमताओं में सुधार और प्रकोपों ​​की रिपोर्टिंग में पारदर्शिता बढ़ाना भी बहुत जरूरी है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
आउटब्रेक की स्थिति में सक्रिय किए जा सकने वाले रैपिड प्रतिक्रिया ढांचे विकसित करना महत्वपूर्ण है। चित्र: शटरस्‍टॉक

2 जल्दी से प्रतिक्रिया करने वाला तंत्र

आउटब्रेक की स्थिति में सक्रिय किए जा सकने वाले रैपिड प्रतिक्रिया ढांचे विकसित करना महत्वपूर्ण है। इसमें प्रशिक्षित कर्मचारी, आवश्यक आपूर्ति का भंडार और ठीक तरीके से संचार चैनल को विकसित करना शामिल हैं।

3 रिसर्च और विकास

व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीवायरल, एंटीबायोटिक्स और वैक्सीन विकसित करने के लिए रिसर्च में निवेश करने से तैयारी बढ़ाई जा सकती है। कोविड-19 महामारी के दौरान mRNA तकनीक जैसे तेजी से वैक्सीन विकास के लिए प्लेटफॉर्म को बढ़ाया जा सकता है जिसने उस समय कई अच्छे परिणाम दिए थे।

4 अस्पतालों में बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर

रोगियों की बढ़ती संख्या को संभालने के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रणालियों को मजबूत करना, जिसमें पर्याप्त ICU क्षमता और पर्शनल प्रोटेक्टिव इक्युपमेंट (PPE) की उपलब्धता होना बहुत जरूरी है। इसकी तैयारी हमेशा होनी चाहिए।

ये भी पढ़े- ये 5 संकेत बताते हैं कि आपके शरीर को कम मिल रहा है कैल्शियम, जानिए इसे कैसे बढ़ाया जा सकता है

संध्या सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख