खाने-पीने और आराम करने वाले फेस्टिवल क्रिसमस में भी कर सकती हैं वेट लॉस, यहां हैं 7 एक्सपर्ट टिप्स

क्रिसमस से फेस्टिवल सीजन शुरू होने पर खूब खाने-पीने और एक्टिव नहीं रहने के कारण हम वेट गेन कर लेते हैं। यहां हैं एक्सपर्ट के बताये 7 टिप्स जिन्हें फॉलो कर हम घर और ऑफिस में भी वेट मेंटेन रख सकते हैं।

पर्व त्योहार हो या सामान्य दिन कुछ बातों को ध्यान में रखकर वेट लॉस कर सकती हैं। चित्र : एडोब स्टॉक
स्मिता सिंह Updated on: 16 December 2022, 17:18 pm IST
  • 126

ठंड का मौसम है और क्रिसमस बिल्कुल करीब है। दिमाग में सिर्फ छुट्टी और फेस्टिवल सेलिब्रेशन की ही बातें आती रहती हैं। सेलेब्रेशन से हम सिर्फ एक ही मतलब लगाते हैं। खूब खाना-पीना, लगातार बैठ कर गप्पें लड़ाना और सोना। वजन बढ़ने का तो हमें ख्याल तक नहीं रहता है। नतीजा सेलिब्रेशन मोड में हम अपना खूब वजन बढ़ा लेते हैं। पर क्या नये साल का स्वागत हम मोटे होकर करेंगे? क्या कुछ ऐसा उपाय नहीं हो सकता कि हमारा खाने-पीने का प्रोग्राम आराम से चलता रहे और वेट मैनेजमेंट भी हो जाए! क्रिसमस में वेट लॉस के लिए किन बातों का ख्याल (tips for weight loss in Christmas) रखें, यह जानने के लिए हमने बात की पारस हॉस्पिटल्स, गुरुग्राम में इंटरनल मेडिसिन के हेड ऑफ़ द डिपार्टमेंट डॉ. आर.आर. दत्ता से।

ज्यादा देर तक बैठना और ज्यादा खाना दोनों है नुकसानदेह

डॉ. आर.आर. दत्ता कहते हैं, ‘फेस्टिवल सीजन में बैठना ज्यादा होता है। खाना-पीना अधिक होता है,यानी सिर्फ कैलोरी गेन होती है। कैलोरी बर्न नहीं हो पाती है। इसका मतलब है कि वेट गेन होता है। यदि आप लगातार बैठी रहती हैं, तो बहुत कम ऊर्जा खर्च होती है। वहीं चलते रहने और टहलने में बैठने के मुकाबले थोड़ी ज्यादा उर्जा खर्च होती है। अगर आप लंबे समय तक बैठी रहती हैं और सोती रहती हैं, तो कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। रिसर्च में भी इस बात की पुष्टि हो चुकी है।’

क्या-क्या हो सकती हैं बीमारियां (health problems)

इससे वेट गेन, मोटापा और मेटाबॉलिक सिंड्रोम हो सकता है। मेटाबॉलिक सिंड्रोम में ब्लड प्रेशर काफी ज्यादा बढ़ जाता है। इनके अलावा ब्लड शुगर का अधिक बढ़ जाना, कमर के चारों ओर ज्यादा चर्बी और बहुत ज्यादा कोलेस्ट्रॉल भी हो सकता है। यहां तक कि ह्रदय संबंधी बीमारियां और कैंसर से मरने की संभावना भी अधिक हो जाती है।

फेस्टिवल टाइम में भी माध्यम गति के वर्कआउट (medium level workout) करती रहें

डॉ. आर.आर. दत्ता कहते हैं, ‘फेस्टिवल टाइम में भी हमें अपने शरीर को एक्टिव रखना चाहिए। एंजोयमेंट सही है, लेकिन शरीर का ख्याल रखना प्रायोरिटी में होना जरूरी है। एक रिसर्च का हवाला देते हुए उन्होंने बताया, हर दिन 60 से 75 मिनट की मिडल वर्कआउट वाली शारीरिक एक्सरसाइज करनी चाहिए। इससे काफी देर तक बैठे रहने वाले नकारात्मक इफेक्ट्स से बचा जा सकता है।

Resistance band exercise,
फेस्टिवल टाइम में भी  माध्यम गति के वर्कआउट करते रहना चाहिए । चित्र: शटरस्टॉक

यह निष्कर्ष निकालने के लिए 1 मिलियन से ज्यादा व्यक्तियों पर शोध किया गया। अगर कोई व्यक्ति शारीरिक रूप से बहुत ज्यादा सक्रिय रहता है, तो उसके लिए यह नकारात्मक प्रभाव कम हो जाता है।

ऑफिस में बीच-बीच में खड़ी होकर (standing work) काम करें

त्योहार के सीजन में ऑफिस में भी लोग सुस्त हो जाते हैं। उनकी फिजिकल एक्टिविटी घट जाती है। इस बात पर डॉ दत्ता सलाह देते हैं, ज्यादा चलने-फिरने या शरीर को एक्टिव रखने पर सेहत काफी अच्छी रहती है।यदि आपके लिए मुमकिन है, तो ऑफिस में भी कुछ देर खड़े होकर काम कर सकती हैं। एक लगातार बैठने की बजाय कुछ देर खड़े होकर काम कर लें। अगर सहूलियत हो, तो टहलते हुए काम करने को ज्यादा तवज्जो दें। इससे आपकी एनर्जी लॉस होगी आपका वजन कंट्रोल होगा।

यहां हैं वेट लॉस के एक्सपर्ट टिप्स (expert tips for weight loss) 

त्योहारी सीजन में कुछ बातों का ख्याल रखने पर वेट लॉस के साथ वेट मैनेज करना भी आसान है।

1 घर हो या ऑफिस हमेशा बैठे रहने की बजाय हर 30 मिनट में खड़ी हो जाएं।
2 यदि फेस्टिवल टाइम में फोन पर बात करना बढ़ गया है, तो फोन करते समय या टीवी देखते समय अपने पैरों को ऊपर रखें।
3 अपने खान-पान पर ध्यान दें। बहुत अधिक फ्राई किया हुआ या जंक फ़ूड तेज़ी से वजन बढाते हैं। डेजर्ट या छना-तला भोजन का मिनिमल पोर्शन लें।
4 भोजन के माध्यम से जितनी अधिक कैलोरी ली है, उन्हें वर्कआउट के माध्यम से बर्न करने की कोशिश करें।
5 अगर आप ऑफिस में डेस्क पर काम करती हैं, तो एक ऊंची टेबल या काउंटर का इस्तेमाल करें। कोशिश करें जहां आप काम करती हैं वहां आप खड़ी भी हो सकें।

exercise ke liye samay na ho toh khade rehkar kare travel
कोशिश करें जहां आप काम करती हैं वहां आप खड़ी भी हो सकें।  चित्र: शटरस्टॉक

6 फेस्टिवल सीजन में मीटिंग भी बढ़ जाती है। सहकर्मियों के साथ मीटिंग करते समय हमेशा कॉन्फ्रेंस हॉल में बैठने की बजाय कभी-कभार टहलते हुए भी चर्चा कर सकती हैं।
7 अपने कार्य क्षेत्र में थोड़ी जगह छोड़े रखें। इससे आप दिन भर इधर-उधर घूम सकेंगी। इनके अलावा, आप ट्रेडमिल या कंप्यूटर स्क्रीन और स्टैंड पर कीबोर्ड के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन की गई वर्टिकल डेस्क का उपयोग करें।

यह भी पढ़ें :- फिटनेस है आपका अल्टीमेट गोल, तो वर्कआउट से पहले जान लें कुछ जरूरी सवालों के जवाब

  • 126
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें