उमस भरी गर्मी में दिल की सेहत को न करें इग्नोर, जानिए गर्मियों में हृदय स्वास्थ्य के लिए 5 उपाय

अगर आपको लगता है कि हार्ट हेल्थ का ख्याल रखना सिर्फ सर्दियों में ही जरूरी है, तो आपको इस आलेख को ध्यान से पढ़ना चाहिए।
उमस भरी गर्मी में दिल का खास ख्याल रखें। चित्र:शटरस्टॉक
मिथिलेश कुमार पटेल Published on: 9 May 2022, 20:29 pm IST
ऐप खोलें

विशेषज्ञ कहते हैं कि गर्म मौसम में हमें खुद को कूल रखने पर ध्यान देना चाहिए। यह हमारे अंदरूनी अंगों (Internal organ) के लिए बहुत जरूरी है। खासतौर से हार्ट हेल्थ (Heart health) के लिए। असल में गर्मी बढ़ने के साथ हीट स्ट्रोक (Heat stroke) से लेकर हाइपरटेंशन (Hypertension) तक की समस्या बढ़ने लगती है। और यह आगे चलकर हार्ट अटैक (Heart attack) और कार्डियक अरेस्ट (Cardiac arrest) का भी कारण बन सकता है। हैरान हैं, पर यह सच है कि गर्मी का मौसम भी आपके दिल के लिए दुश्वारियां ला सकता है। इसलिए जानें कि इस गर्म मौसम में आप अपनी हार्ट हेल्थ (Tips to keep heart healthy in summer) को कैसे दुरुस्त बनाए रख सकती हैं।

क्या है दिल और गर्मी का कनैक्शन

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की प्रमुख जर्नल सर्कुलेशन में एक शोध के मुताबिक गर्मी जैसे-जैसे बढ़ती है दिल की बीमारी से जूझ रहे लोगों में मृत्यु का आंकड़ा बढ़ने लगता है। इतना कि सामान्य दिनों की तुलना में यह संख्या दोगुनी या तिगुनी भी बढ़ सकती है। वहीं अमेरिकन स्ट्रोक एसोसिएशन की स्टडी बताती है कि तापमान में बढ़ोत्तरी होने पर हार्ट स्ट्रोक के खतरे बढ़ जाते हैं।

पसीना होने से एक तरफ गर्मी में राहत मिलती है और दूसरी तरफ दिल की मुसीबत बढ़ जाती है। चित्र: शटरस्टॉक

दरअसल गर्मी के मौसम में तापमान में तेजी से बढ़ोत्तरी होती है। इस तापमान में राहत पाने के लिए शरीर अपने प्रमुख अंगों में मौजूद ब्लड के पानी को स्किन के जरिए पसीने के रुप में बाहर निकाल देता है। पसीना निकलने पर हम थोड़ी ठंडक महसूस करते हैं, लेकिन ज्यादा पसीना निकलने से हमारे शरीर के ब्लड में पानी की मात्रा कम हो जाती है। अब इस ब्लड को शरीर में प्रवाहित कराने के लिए हमारे दिल को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। जिसके चलते दिल का स्ट्रेस बढ़ जाता है। और यह स्ट्रेस उसके जोखिम को और बढ़ा देता है।

यह भी पढ़ें :- कोविड-19 से बचने के लिए सतहों को सेनिटाइज कर रहीं हैं, तो ये खबर आपके लिए है

गर्मियों में दिल को दुरुस्त रखने के लिए अपनाएं पांच उपाय

दिल के मरीजों के लिए बढ़ते खतरे को देखते हुए अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने एहतियात के तौर पर पांच उपाय बताए हैं। चिलचिलाती धूप और बढ़ती उमस में हर किसी को इन उपायों को अपनाने की जरुरत है।

1 घर से बाहर निकलने के समय का ध्यान रखें

तपती गर्मी में घर से बाहर निकलना यानी खुद अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है। इस मौसम में लू लगने के साथ-साथ दिल के लिए भी खतरा बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए चिलचिलाती धूप में घर से बाहर निकलने से परहेज करें। जरुरी हो तो बाहर निकलने के लिए दोपहर बाद 3 बजे से 4 बजे के बाद का समय ही चुनें।

2 कपड़ों और सेफ्टी गियर का खास ख्याल रखें

ऐसे कपड़ों को पहने जिनका रंग और वजन हल्का हो, जैसे सूती कपड़े। उन कपड़ों को पहनें जो शरीर से पसीने को दूर करने में बाधित न करें। आंखो की सुरक्षा के लिए धूप के चश्मे, चेहरे सहित शरीर के बाकी हिस्सों के बचाव के लिए सिर पर टोपी पहनें। घर से बाहर निकलने से पहले, कम से कम सन प्रोटेक्शन फैक्टर 15 सनस्क्रीन से स्किन को कवर करें, और हर दो घंटे में इसे दोहराएं। ऐसा करने से शरीर में पानी की मात्रा बनाए रखने में मदद मिलेगी।

यह भी पढें :- बर्नआउट से बचाकर, आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ा सकती है एक छोटी सी झपकी , जानिए इसके फायदे

3 हाइड्रेटेड रहे

घर से बाहर निकलने से पहले पर्याप्त पानी पीकर निकलें। साथ ही पानी की बोतल अपने साथ लेकर जाएं। ऐसा एक्सरसाइज करने से पहले और बाद में भी करें। कैफीन युक्त या एल्कोहॉल युक्त पेय लेने से परहेज करें।

4 बीच बीच में ठहरें

इस मौसम में जब भी घर से बाहर निकलें निश्चित अंतराल के बाद बीच-बीच में छायादार जगहों पर रुकें, आराम करें और पानी भी लें।

5 दवा लें

अगर आपको लगता है कि आपको गर्मी के कारण हृदय गति बढ़ने या कम होने की समस्या हो रही है, तो तुरंत किसी डॉक्टर से सलाह लें। हृदय स्वास्थ्य के लिए किसी भी तरह की लापरवाही आपको भारी पड़ सकती है।

यह भी पढ़ें :- आपके ब्रेन के लिए सुपरफूड है चुकंदर, मेमोरी बढ़ाने के साथ अवसाद को भी करता है कंट्रोल

लेखक के बारे में
मिथिलेश कुमार पटेल

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता में डिप्लोमा कर चुके मिथिलेश कुमार सेहत, विज्ञान और तकनीक पर लिखने का अभ्यास कर रहे हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story