Halloween 2021: हैलोवीन के डेकोरेटिव आई लेंस पहनना आपकी आंखों के लिए हो सकता है हानिकारक

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (CDC) के अनुसार, लोगों को गंभीर आई इन्फेक्शन (eye infection) का सामना करना पड़ सकता है, अगर वे बिना डॉक्टर की सलाह के कॉन्टैक्ट लेंस (contact lens) पहनते हैं।
Halloween 2023
हैलोवीन पर लोग अपने पसंदीदा भूतों के किरदार वाले गेट अप में सड़कों पर घूमते हैं। चित्र:शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Published: 29 Oct 2021, 13:35 pm IST
  • 109

हैलोवीन अब सिर्फ विदेशों में ही नहीं, बल्कि हमारे देश में भी पूरे जोश और उल्लास से मनाया जाने लगा है। खासतौर से बच्चों को यह त्योहार बहुत आकर्षित करता है। हैलोवीन (Halloween 2021) पर लोग अपने पसंदीदा भूतों के किरदार वाले गेट अप में सड़कों पर घूमते हैं। अपनी पोशाक और किरदार को और सजीव दिखाने के लिए लोग विभिन्न प्रकार के कॉन्टैक्ट लेंस (contact lens) का उपयोग करते हैं। उस दौरान यह बिना डॉक्टर की सलाह या पर्ची (doctor’s prescription) के आम दुकानों से खरीदा जा सकता है। 

इन लेंसेज का उपयोग आपकी आंखों को बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। यह आंखों की रोशनी को भी क्षति पहुंचाती है। विशेषज्ञों ने इस बारे में चेतावनी जारी की है। आइए जानते हैं यह कैसे आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

क्या होता है कॉन्टैक्ट लेंस?

हाल ही में एक लेख के अनुसार, ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी में ऑप्टोमेट्री के सहायक प्रोफेसर डॉ. फिलिप युहास कहते हैं, “कॉन्टैक्ट लेंस वास्तव में प्लास्टिक का एक टुकड़ा है, जो आंख को ढकता है और ऑक्सीजन को उसके पास पहुंचने से रोक सकता है। नई ब्लड वेसल की वृद्धि, लाली, पानी आना और दर्द सभी इस बात के संकेत हैं कि आपकी आंखों को ऑक्सीजन की जरूरत है।”

Decorative eye lens na lagaye
इस हैलोवीन डेकोरेटिव आई लेंस लगाने से बचें। चित्र:शटरस्टॉक

सीडीसी (CDC) के अनुसार, बिना मेडिकल केयर के, लेंस सही ढंग से फिट नहीं हो सकता है। जिससे आंख की बाहरी परत पर खरोंच या अल्सर का जोखिम बढ़ जाता है। इससे दीर्घकालिक निशान और स्थायी दृष्टि हानि हो सकती है।

एजेंसी ने नोट किया कि 40% -90% कॉन्टैक्ट लेंस पहनने वाले लोग नियमित देखभाल निर्देशों का ठीक से पालन नहीं करते। लगभग हर किसी में एक ऐसी आदत होती है जिससे सूजन या आंखों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।  

डेकोरेटिव कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग हो सकता है और भी ज्यादा खतरनाक 

एजेंसी ने उन 45 मिलियन अमेरिकियों का परीक्षण किया जो वास्तव में कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं। यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि कितने लोग सजावटी कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग करते हैं। लेकिन हैलोवीन के आसपास संख्या हमेशा बढ़ जाती है।

हाल की रिपोर्ट के अनुसार लोगों में सबसे अधिक सजावटी कॉन्टैक्ट लेंस की मांग अक्सर आंखों में संक्रमण और विभिन्न जटिलताओं का मुख्य कारण होता है। 

जानिए कॉन्टैक्ट लेंस के लिए विशेषज्ञों की सलाह 

सीडीसी (CDC) सलाह देता है कि केवल एक नेत्र चिकित्सक की सलाह पर ही लेंस खरीदें। इसका कारण है कि जब डेकोरेटिव आई लेंस को बिना किसी प्रेस्क्रिप्शन या चिकित्सीय शिक्षा के बेचा जाता है, तो यह आंखों की परेशानियों का कारण बन सकता है। यह आपके विजन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। 

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) कॉन्टैक्ट लेंस को मेडिकल उपकरणों के रूप में वर्गीकृत करता है। इसका अर्थ है कि बिना किसी नेत्र चिकित्सक के प्रेस्क्रिप्शन या जांच के इनका उपयोग करना एक मध्यम स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकता है। वह चेतावनी देती है कि कोई भी वेबसाइट अगर बिना डॉक्टर के पर्चे के कॉस्ट्यूम कॉन्टैक्ट लेंस बेच रही है,  तो यह कानूनी अपराध है। 

युहास ने बताया कि, “जोखिम भरे व्यवहारों में, कॉन्टैक्ट लेंस के साथ सोना सबसे खतरनाक है। वास्तव में, यह आपके कॉर्निया में संक्रमण होने के जोखिम को बढ़ाता है।”

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
Contact lens ke saath extra careful rahe
कॉन्‍टैक्‍ट लेंस के साथ आपको एक्‍स्‍ट्रा सावधानी बरतने की जरूरत है। चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक

मेयो क्लिनिक के अनुसार, आंख की इस दर्दनाक स्थिति को केराटाइटिस कहा जाता है, जो कभी-कभी बैक्टीरिया, वायरल या पैरासाइटिक संक्रमण के कारण होता है। 

अमेरिकन एकेडमी ऑफ ऑप्थल्मोलॉजी ने बताया कि कॉस्मेटिक लैंस जो लोग अक्सर हैलोवीन के दौरान अपनी आंखों का रंग बदलने के लिए पहनते हैं, उनमें मौजूद रसायन आंखों के लिए जहरीले हो सकते हैं। यह कभी-कभी दृष्टि हानि का भी कारण बन सकते हैं।

तो लेडीज, हैलोवीन हो या आम जीवन, बिना डॉक्टर की सलाह के इन डेकोरेटिव आई लेंस का उपयोग करने से बचें। 

यह भी पढ़ें: World Stroke Day : आपकी सतर्कता और तत्परता बचा सकती है किसी के मस्तिष्क की क्षति

  • 109
लेखक के बारे में

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए ! ...और पढ़ें

अगला लेख