वैलनेस
स्टोर

सरकार ने बच्चों के लिए जारी की कोविड-19 गाइडलाइन्स, रेमडेसिविर का उपयोग प्रतिबंधित

Published on:11 June 2021, 10:43am IST
अध्ययनों में सामने आया है कि गलत उपचार या दवाओं का अनावश्यक इस्तेमाल भी कोविड के बाद दुष्प्रभावों को बढ़ा देता है, इसलिए बच्चों के लिए उपचार के दौरान विशेष ध्यान दिए जाने की जरूरत है
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
भारत सरकार ने जारी की बच्चों के लिए कोविड – 19 गाइडलाइन्स. चित्र : शटरस्टॉक

केंद्र सरकार द्वारा बच्चों में कोविड-19 के प्रबंधन के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं जिनमें रेमडेसिविर की सिफारिश नहीं की गई है और एचआरसीटी इमेजिंग के तर्कसंगत उपयोग का सुझाव दिया गया है।

बच्चों में रेमडेसिविर और सीटी स्कैन का प्रयोग

दिशानिर्देशों के अनुसार बच्चों के लिए रेमडेसिविर का प्रयोग प्रतिबंधित है। साथ ही, यह कहा गया है कि “18 साल से कम उम्र के बच्चों में रेमडेसिविर के संबंध में पर्याप्त सुरक्षा और प्रभावकारिता डेटा की कमी है।” इसके अलावा, कोविड-19 के मरीजों में फेफड़ों की प्रकृति को देखने के लिए उच्च-रिज़ॉल्यूशन सीटी (एचआरसीटी) के तर्कसंगत उपयोग का सुझाव दिया।

“हालांकि, छाती के सीटी स्कैन से प्राप्त किसी भी अतिरिक्त जानकारी का अक्सर उपचार के फैसलों पर बहुत कम प्रभाव पड़ता है। इसलिए, चिकित्सकों को कोविड ​​​​-19 रोगियों में छाती के सीटी स्कैन का आदेश सोच समझकर देना चाहिए।”

स्टेरॉयड का उपयोग

स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (Directorate General of Health Services) की ओर से जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि ऐसिमटोमैटिक और हल्के लक्षण वाले मामलों में स्टेरॉयड का प्रयोग हानिकारक है।

डीजीएचएस ने सख्त निगरानी में केवल अस्पताल में भर्ती होने वाले मध्यम गंभीर और गंभीर रूप से बीमार कोविड -19 मामलों में स्टेरॉयड की सिफारिश की है। साथ ही, यह भी कहा कि “स्टेरॉयड का उपयोग सही समय पर, सही खुराक में और सही अवधि के लिए किया जाना चाहिए। स्टेरॉयड खुद लेने से बचा जाना चाहिए।”

स्टेरॉयड का अधिक इस्‍तेमाल हानिकारक है। चित्र : शटरस्टॉक

ऐसिमटोमैटिक और हल्के लक्षण वालों के लिए

दिशानिर्देशों की मानें तो कोविड -19 एक वायरल संक्रमण है, और रोगाणुरोधी (antimicrobials) दवाओं का कोविड -19 संक्रमण की रोकथाम या उपचार में कोई भूमिका नहीं है। इसलिए, चिकित्सा उपचार के लिए रोगाणुरोधी दवाओं की सिफारिश नहीं की जाती है, जबकि मध्यम और गंभीर मामलों के लिए, ऐसी दवाओं को तब तक निर्धारित नहीं किया जाना चाहिए जब तक कि एक सुपरएडेड इन्फेक्शन का ​​संदेह न हो।

अस्पताल में भर्ती होने से मल्टीड्रग-प्रतिरोधी जीवों के साथ स्वास्थ्य संबंधी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। दिशानिर्देशों ने ऐसिमटोमैटिक और हल्के लक्षण वाले बच्चों को किसी विशिष्ट दवा की सिफारिश नहीं की है। इसके अलावा, उन्हें मास्क पहनने, हाथ साफ रखने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और पौष्टिक आहार लेने का सुझाव दिया गया है।

दिशानिर्देशों में कहा गया है कि हल्के संक्रमण के लिए, पेरासिटामोल 10-15 मिलीग्राम / किग्रा / खुराक हर 4-6 घंटे में बुखार और गले को शांत करने वाले एजेंटों के लिए दिया जा सकता है, और बड़े बच्चों और किशोरों में खांसी के लिए गर्म पानी और नमक के गरारे करने की सिफारिश की गई है।

मध्यम और गंभीर मामलों के लिए

दिशानिर्देश के अनुसार गंभीर मामलों में तत्काल ऑक्सीजन थेरेपी शुरू करने का सुझाव दिया गया है। यदि एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) विकसित होता है, तो आवश्यक प्रबंधन शुरू किया जाना चाहिए।

बच्चों के ट्रीटमेंट के लिए जारी की गयी हैं कोविड – 19 गाइडलाइन्स. चित्र : शटरस्टॉक

इसके अलावा, स्ट्रोक के लिए आवश्यक एंटीमाइक्रोबायल्स को प्रशासित शुरू किया जाना चाहिए। अंग की शिथिलता के मामले में ऑर्गन सपोर्ट की आवश्यकता हो सकती है, जैसे कि गुर्दे की रिप्लेसमेंट थेरेपी।”

इसके अलावा, माता-पिता/अभिभावकों की देखरेख में 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए छह मिनट के वॉक टेस्ट की भी सिफारिश की गई है।

“यह कार्डियोपल्मोनरी व्यायाम शारीरिक क्षमता का आकलन करने के लिए एक सरल नैदानिक ​​​​परीक्षण है और इसका उपयोग हाइपोक्सिया को उजागर करने के लिए किया जाता है। उनकी उंगली में एक पल्स ऑक्सीमीटर लगाएं और बच्चे को अपने कमरे में लगातार छह मिनट तक चलने के लिए कहें।”

यह भी पढ़ें : कोविड-19 से संक्रमित हो चुके लोगों में अगले 10 महीने कम होता है पुर्नसंक्रमण का खतरा

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।