#DareToChange : लंबी और हेल्‍दी जिंदगी चाहिए, तो याद कर लें एक्‍सपर्ट के बताएं ये 5 हेल्‍दी मंत्र

इस विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य दिवस हमारे एक्‍सपर्ट लेकर आए हैं वे खास मंत्र जो आपको लंबी उम्र तक जवां और स्‍वस्‍थ बनाए रख सकते हैं।
अपनी वैल्यूज़ के साथ डटी रहें।चित्र -शटरस्टॉक
अपनी वैल्यूज़ के साथ डटी रहें।चित्र -शटरस्टॉक
Dr. Manoj Sharma Published: 6 Apr 2021, 19:28 pm IST
  • 76

मनुष्य की हमेशा से यह चाहत रही है कि वह स्वस्थ और लंबा जीवन जिए। लंबा जीवन जीने की मनुष्य की यह इच्छा हमेशा बनी रहेगी। शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए ज़रूरी है कि हमारे शरीर के प्रमुख अंगों जैसे दिल, किडनी, लीवर और फेफड़ों का ध्यान रखा जाए ताकि शरीर सही तरह से काम करे।

स्वस्थ बने रहने की इच्छा को पूरा करने के लिए हमें उस दिशा में काम करना होगा। लक्ष्य निर्धारित करके जितना संभव हो सके उस लक्ष्य को हासिल करने का प्रयास करना होगा। शरीर के अंगों की सुरक्षा और खुद को स्वस्थ बनाए रखने के लिए ज़रूरी है कि हम कुछ प्रमुख सिद्धांतों का पालन करें।

1. दैनिक व्यायाम
2. भोजन करने की स्वस्थ आदत
3. सही नींद
4. नशीले पदार्थों और शराब से दूरी
5. धूम्रपान न करना
6. नियमित स्वास्थ्य जांच

लाइफस्‍टाइल, सुविधा और समस्‍याएं

बढ़ते शहरीकरण और टैक्नोलॉजी पर निर्भरता के कारण हमारा जीवन आसान होता जा रहा है। इसके कारण हमारी शारीरिक गतिविधियों में कमी आई है। शारीरिक गतिविधियों की कमी के कारण जीवनशैली और मेटाबॉलिज़्म से जुड़ी कई तरह की बीमारियां पैदा हो रही हैं।

हमारे लाइफस्‍टाइल ने हमें बहुत सारी समस्‍याएं दी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
हमारे लाइफस्‍टाइल ने हमें बहुत सारी समस्‍याएं दी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

1 जरूरी है व्‍यायाम

रोजाना व्यायाम करें क्योंकि इससे शारीरिक शक्ति बढ़ती है और फेफड़ों की क्षमता बढ़ने के साथ ही दिल भी स्वस्थ रहता है। व्यायाम से हमारा ब्लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स नियंत्रण में रहता है।

जिससे हमारे दिल, किडनी और लिवर की सेहत अच्छी बनी रहती है। शारीरिक गतिविधियों की कमी के कारण फैटी लीवर की समस्या हो सकती है, जो भविष्य में होने वाली बीमारियों का संकेत हो सकता है।

2 फॉलो करें हेल्‍दी डाइट

भोजन की स्वस्थ आदतें अपनाना भी बहुत ज़रूरी है। वसा युक्त और तली हुई चीजों का ज़्यादा सेवन करने से हमारे खून में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर बढ़ जाता है। जिससे भविष्य में दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

शरीर का वजन ज़रूरत से ज्यादा होने पर डायबिटिज की समस्या हो सकती है, जिससे दिल, लीवर, और किडनी जैसे अंगों पर असर पड़ सकता है।

संतुलित आहार आपको स्‍वस्‍थ रखता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
संतुलित आहार आपको स्‍वस्‍थ रखता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसी तरह ज़रूरत से ज़्यादा नमक का इस्तेमाल करने से भी किडनी पर बहुत जोर पड़ता है जिससे किडनी को नुकसान पहुंचता है। इससे ब्लड प्रेशर बढ़ता है जिससे कारण दिल और किडनी को नुकसान पहुंचता है।

3 नींद की दुश्‍मन न बनें

अच्छी नींद से हमारे शरीर के अंगो को आराम और सुरक्षा मिलती है तथा शरीर तरोताजा हो जाता है। शरीर के अंगों को आराम देना बहुत ज़रूरी है। हमारे शरीर की बायोलॉजिकल घड़ी को रिसेट करने और अंगों को सही रखने के लिए ज़रूरी है कि हम प्रति दिन 6-7 घंटे की गहरी नींद लें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

4 लिवर डैमेज कर सकता है अल्‍कोहल

शराब के ज़्यादा इस्तेमाल से हमारे लिवर को इतना नुकसान पहुंच सकता है कि उसे ठीक करना संभव न हो। लिवर मल्टीपल मेटाबॉलिज़्म, पाचन और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने जैसे कई ज़रूरी काम करता है।

शराब से मिलने वाला आनंद आपको और शराब पीने के लिए प्रेरित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक्‍
शराब से मिलने वाला आनंद आपको और शराब पीने के लिए प्रेरित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक्‍

इसलिए लिवर का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है। नशीले पदार्थों के सेवन से दिल, लीवर, किडनी, मस्तिष्क जैसे कई अंग प्रभावित हो सकते हैं, इसलिए इनके इस्तेमाल से बचना चाहिए।

5 तंबाकू हर तरह से खतरनाक है

धूम्रपान या किसी भी तरह के तंबाकू का सेवन करने से दिल, फेफड़ों और किडनी पर कई तरह का प्रभाव पड़ता है। इससे सीओपीडी, हाई ब्लड प्रेशन और कोरोनरी आर्टरी की बीमारी जैसी समस्याएं सामने आती है। इससे मृत्यु दर और मोर्बिडिटी दोनों बढ़ जाती है।

चलते-चलते

जहां तक संभव हो स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं, अच्छी नींद लें, और स्वस्थ रहने के लिए नियमित व्यायाम करें। नियमित स्वास्थ्य जांच करवाना बहुत ज़रूरी है। अपने डॉक्टर से सलाह लें। डॉक्टर आपकी उम्र, शारीरिक आकार औरको-मोर्बिडिटी के आधार पर ज़रूरी जांच करवाने के बारे में सलाह देगा ताकि बीमारी का जल्द पता लगे और बीमारी के हिसाब से सही इलाज शुरू करके आप लंबा और स्वस्थ जीवन जी पाएं।

यह भी पढ़ें – इस शोध के अनुसार धीमी गति से चलने वालों को ज्‍यादा हो सकता है हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा

  • 76
लेखक के बारे में

Dr. Manoj Sharma is Senior Consultant, Internal Medicine at Fortis Hospital, Vasant Kunj ...और पढ़ें

अगला लेख