वैलनेस
स्टोर

विशेषज्ञों के अनुसार गर्मी के कारण बढ़ सकती है भारत में कोविड-19 संक्रमण की दर, जानिए ऐसा क्यों

Published on:4 March 2021, 09:21am IST
कनाडा-आधारित टॉप महामारी विशेषज्ञ (epidemiologist) का सुझाव है कि गर्मियों के दौरान उच्च तापमान, भारत में कोविड -19 के संचरण को बढ़ा सकता है!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
गर्मी के मौसम में सक्रमण के फैलने का जोखिम अधिक हो सकता है। चित्र-शटरस्टॉक।

कनाडा बेस्‍ड एक टॉप महामारी विशेषज्ञ ने भारत को आगे आने वाले महीनों में कोरोनोवायरस के मामलों में संभावित वृद्धि के खिलाफ चौकस रहने के लिए आगाह किया है क्योंकि गर्मियों में लोग घर के अंदर रहते हैं।

यह चेतावनी टोरंटो में रहने वाले प्रभात झा की है, जो टोरंटो विश्वविद्यालय के यूनिटी हेल्थ सेंट माइकल अस्पताल के महामारी विशेषज्ञ और ग्लोबल हेल्थ रिसर्च सेंटर के कार्यकारी निदेशक हैं।

झा भारत के रजिस्ट्रार जनरल के सहयोग से भारत में आयोजित मिलियन डेथ स्टडी के प्रमुख अन्वेषक भी हैं।

झा ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि वायरस के संचरण के लिए इनडोर, बंद कमरों को कम हवादार स्थान माना जाता है।

एक्सपर्ट के अनुसार, जिस तरह कनाडा जैसे देशों में सर्दियों में यह चरम पर था, वहां गिरते तापमान ने लोगों को घर से बाहर निकाल दिया। उसी तरह की एक घटना गर्मियों की गर्मी के संदर्भ में भारत के लिए प्रासंगिक हो सकती है।

ऐसे में पहले से अधिक एहतियात बरतने की जरूरत है। चित्र-शटरस्टॉक।

गर्मियों में बदतर हो सकती है स्थिति

उन्होंने कहा, तापमान बढ़ने के साथ ही मई और जून के महीनों में अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। “कई राज्यों को अब टॉप लिस्ट में देखा जाने लगा है। यह मास्क न पहनने और इनडोर समारोहों में लोगों के गैर-जिम्मेदार होने का एक परिणाम है। यह स्थिति गर्मियों के मौसम में बदतर हो सकती हैं।”

यह भी पढें: इस अध्ययन के अनुसार वजन कम नहीं कर पा रही हैं, तो हेल्थ एप्स कर सकते हैं इसमें आपकी मदद 

झा और उनकी शोध टीम भारत जैसे देशों में मामलों में कमी के संभावित कारणों को देखते हुए एक अध्ययन पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रवृत्ति के लिए “सबसे संभावित” कारण यह था कि “बड़ी संख्या में लोग पहले से ही संक्रमित हैं”।

लगभग 110 मिलियन की आबादी वाले 18 बड़े भारतीय शहरों के आंकड़ों के अनुसार, 50-60% वयस्क पहले से ही संक्रमित हैं। उन्होंने कहा कि भारत में प्रक्षेपवक्र (trajectory) “असामान्य” रहा है क्योंकि लगभग 75% मामले एसिम्प्टोमैटिक रहे हैं- सीधे तौर पर पश्चिम में प्रवृत्ति के विपरीत।

कोविड वैक्‍सीन लेने के बाद भी आपको कुछ सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड वैक्‍सीन लेने के बाद भी आपको कुछ सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

झा ने चिंता के कारण के रूप में भारत में, विशेष रूप से मुंबई में बढ़ रहे दैनिक मामलों का हवाला दिया।

उन्होंने कहा कि भारत में अब तक की अपेक्षाकृत कम मृत्यु दर को न केवल कम संक्रमणों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, बल्कि कई कारणों से “प्रतिरक्षा प्रणाली की अति-उत्तेजना” जैसे कारक भी हो सकते हैं, जैसे कि जनसंख्या में अतीत के किसी अन्य कोरोनावायरस के संपर्क को उजागर किया जा रहा हो, साथ ही खसरा जैसी बीमारियों का प्रचलन को।

झा ने चेतावनी दी, ” हमें बहुत सावधान रहना होगा,” पिछले कुछ दिनों में संक्रमण दर में धीरे-धीरे वृद्धि का जिक्र हुआ है।

यह भी पढें: भारत में कोविड वैक्‍सीनेशन का दूसरा चरण शुरू, एक्सपर्ट से जानिए इससे जुड़ी सभी जरूरी जानकारी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।