एक्सपर्ट बता रहे हैं वैक्सीनेशन के बाद भी कितना जरूरी है मास्क और सामाजिक दूरी का पालन करना

क्या कोविड-19 का टीका लगवाने के बाद भी मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन करना है ज़रूरी? जानिये इस पर एक्सपर्ट्स की राय
वैक्‍सीनेशन के बाद भी सुरक्षा निर्देशों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
वैक्‍सीनेशन के बाद भी सुरक्षा निर्देशों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 24 Feb 2021, 01:46 pm IST
  • 88

आपने कोरोना वायरस के खिलाफ टीका लगवाया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप मास्क नही पहनेंगे या वापस सामान्य गतिविधियों पर लौट जाएंगे । काफी लोगों के लिए यह निराशाजनक बात है या बहुत बड़ा झटका भी हो सकता है।

मियामी में, 81 वर्षीय नोइमी काराबालो ने मंगलवार को अपनी दूसरी खुराक ली। इसके साथ ही एक साल तक सतर्क रहने के बाद अब वे अपने दोस्तों से मिलने, वापस फिटनेस क्लास जाने के लिए उत्सुक हैं।

नोइमी की बेटी कहती हैं कि वे बिल्ली और तोते से बात कर कर के थक गयी हैं और अब उन्हें लोगों से बात करनी है।

लेकिन रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों (Centers for Disease Control and Prevention) ने अभी तक अपने दिशा निर्देशों को नहीं बदला है। उनका कहना है कि कम से कम अभी के लिए, लोगों को उसी नियम का पालन करना चाहिए, जैसे मास्क पहनना और 6 फीट की दूरी बनाये रखना। वैक्सीनेशन होने के बाद भी।

अब तक उपयोग में आने वाले टीकों की दो खुराक की आवश्यकता होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि विशेष रूप से पहली खुराक के बाद भी सावधानियों का पालन करना जरूरी है।

जब अमेरिका के एक प्रमुख संक्रामक रोग विशेषज्ञ, डॉ. एंथॉनी फौसी से एक 91 वर्षीय कैलिफोर्निया की महिला ने हाल ही में पूछा कि क्या वह अपने वैक्सीनेटेड दोस्त के साथ गेम्स खेल सकती हैं] तो उन्होंने कहा कि “ये एक लॉजिकल क्वेश्चन है मगर सब्र रखिये” और सारी गाइडलाइन्स को दोहराया।

कोविड वैक्‍सीन लेने के बाद भी आपको कुछ सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड वैक्‍सीन लेने के बाद भी आपको कुछ सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

विशेषज्ञों को भी सीखने की जरूरत है: कोविड -19, विशेष रूप से गंभीर बीमारी है और टीके सिर्फ मृत्यु को रोकने के लिए प्रभावी हैं – लेकिन अभी तक कोई नहीं जानता कि वे कोरोनोवायरस के प्रसार को कितनी अच्छी तरह से रोकते हैं।

इम्‍युनिटी का स्‍तर हो सकता है अलग-अलग

हर किसी का इम्युनिटी सिस्टम टीके के प्रति एक जैसा असर नहीं दिखाता है, तो किसी कैंसर रोगी या 70 वर्षीय व्यक्ति पर इसका अलग-अलग असर देखने को मिल सकता है। लेकिन ज़्यादातर लोगों को निश्चिंत रहना चाहिए। क्योंकि आप आराम से शॉपिंग पर जा सकते हैं या बच्चों को गले लगा सकते हैं, अगर आपको टीका लग चुका है तो।

फॉउसी ने कहा, कि टीके उन लोगों के लिए अच्छे हैं जिन्हें हल्के लक्षण हैं, लेकिन सवाल यह है कि अभी कोई नहीं जानता कि ‘क्या टीकाकरण के बावजूद संक्रमित व्यक्ति अनजाने में किसी और को संक्रमित कर सकता है।

स्पेन के हालिया शोध में बताया कि अधिक कोरोनॉवायरस एक संक्रमित व्यक्ति को परेशान करता है – जिसे वायरल लोड कहा जाता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

इज़राइल के कुछ प्रारंभिक निष्कर्षों में लोगों ने पहले टीके की खुराक के बाद संक्रमित होने की जानकारी दी है। इसके अलावा जो लोग कोविड के दूसरे चरण के टीके लगने के बाद संक्रमित हुए हैं, उनमें वायरल लोड का डर ज्यादा देखने को मिला हैं।

कोविड वैक्‍सीन को लेकर आपके मन में भी कुछ सवाल हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड वैक्‍सीन को लेकर आपके मन में भी कुछ सवाल हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

इज़राइल ने अपनी आबादी के एक बड़े हिस्‍से का टीकाकरण किया है और दुनिया भर के वैज्ञानिक देख रहे हैं कि प्रकोप बढ़ने पर प्रतिक्रिया कैसे होती है।

वैक्‍सीनेशन के प्रभाव पर रखी जा रही है नजर

एमरी विश्वविद्यालय के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. वाल्टर ओरेनस्टीन ने कहा कि यह भी देखना महत्वपूर्ण है कि टीके नये वायरस के खिलाफ कितनी सुरक्षा प्रदान करते हैं।

पेन्सिलवेनिया के इम्यूनोलॉजिस्ट ई. जॉन व्हेरी ने कहा, “यह बताना कठिन है कि किसने टीका लगाया है और किसे नहीं क्योंकि इसके प्रैक्टिकल रीजन है।

व्हेरे ने कहा कि ”हमें अभी भी दिशा निर्देशों का पालन करने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि, आपको नहीं पता है कि कब टीका अपना असर दिखायेगा और कब नहीं”।

फ्लाइट में जा रहे हैं, वैक्सीनेटेड हैं या नहीं?

देश विदेश फ्लाइट से ट्रैवल करना अभी भी मुश्किल है। रोज़ कई सारी गाइडलाइन्स इस मामले में आती हैं, क्योंकि ऐसे में संक्रमण दूसरे देशों तक पहुंच सकता है।

कोविड-19 वैक्‍सीनेशन ड्राईव दुनिया का सबसे बड़ा अभियान है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड-19 वैक्‍सीनेशन ड्राईव दुनिया का सबसे बड़ा अभियान है। चित्र: शटरस्‍टॉक

खाद्य और औषधि प्रशासन के पूर्व वैज्ञानिक डॉ. लूसियाना बोरियो ने कहा कि ”वैक्सीन लगवा चुके लोगों को भी चिंता न हो इसके लिए बाहर निकलना ज़रूरी है, लेकिन गाइडलाइन्स को ध्यान में रखकर’। कहीं बाहर निकलने से कोरोना न हो जाए, ये अपने आप में एक बड़ी चिंता का विषय है”।

यह भी पढ़ें – कोरोनावायरस का नया स्‍ट्रेन : जानिए कैसे हमारा शरीर कर सकता है इससे मुकाबला

  • 88
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख