और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

दुनिया भर से सर्वाइकल कैंसर को खत्म करना है WHO का अगला एजेंडा, जानिए इसके बारे में सब कुछ

Published on:23 November 2020, 09:30am IST
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) अब सर्वाइकल कैंसर को लेकर रणनीति बना रहा है। सर्वाइकल कैंसर को महिलाओं में सबसे घातक कैंसर में से एक माना जाता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 69 Likes
लिपस्टिक लगाना हानिकारक है। चित्र: शटरस्‍टॉक
लिपस्टिक लगाना हानिकारक है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ऐसा लगता है कि WHO का एक और काम अब शुरू होने को है। वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में तबाही मचा रखी है। अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसी एक बार और सभी के लिए दुनिया के नक्शे से सर्वाइकल कैंसर मिटाने के मिशन पर है।

उनके आगे इस विशाल कार्य को पूरा करने के लिए डब्ल्यूएचओ ने “वैश्विक रणनीति को सर्वाइकल कैंसर को खत्म के दिशा में तेजी लाने के लिए डिज़ाइन किया है” जिसमें तीन प्रमुख चरण हैं:

1. वैक्सीन
2. स्क्रीनिंग
3. ट्रीटमेंट

सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ इस जंग का कारण यही है कि हर साल इस बीमारे के कारण हजारों महिलाओं की मौत हो जाती है। विश्व भर में महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर चौथा सबसे आम कैंसर हो गया है। संयुक्त राष्ट्र एजेंसी का कहना है कि यह रोकी जा सकने वाली बीमारी हर साल कम से कम कम 5,70,000 महिलाओं पर हमला करती है। जिससे 3,11,000 लोगों की मौत हो जाती है।

इस पर WHO का क्या कहना है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार को कहा कि सर्वाइकल कैंसर के खिलाफ 15 में से नौ लड़कियों का टीकाकरण, महिलाओं की जांच और उपचार में सुधार 40% तक संक्रमण के जोखिम को कम कर सकता है। इससे 2050 तक 5 मिलियन लोगों की जान बचाई जा सकती है।

लगभग सभी मामले यौन संपर्क से फैलने वाले ह्युमन पैपिलोमा वायरस (HPV) प्रकार के संक्रमण से जुड़े हैं। विकासशील देशों में इस संक्रमण की दर दोगुनी है और उच्च आय वाले देशों की तुलना में मृत्यु दर तीन गुना अधिक है।

सर्वाइकल कैंसर के ज्‍यादातर मामले एचपीवी से जुड़े हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

सर्वाइकल कैंसर के ज्‍यादातर मामले एचपीवी से जुड़े हैं। चित्र: शटरस्‍टॉकदक्षिण अफ्रीका से WHO के सहायक महानिदेशक डॉ राजकुमारी नोटेम्बा सिमेलेला ने कहा, “अगर हम इस बीमारी के साथ कुछ नहीं करते हैं तो मामलों की संख्या अधिक बढ़ जाएगी और 2030 तक मौतों की संख्या भी 21% बढ़ जाएगी।”

स्वास्थ्य मंत्रियों और उनके 194 सदस्यों ने पिछले सप्ताह सर्वाइकल कैंसर को खत्म करने के उद्देश्य से बनाई गई एक रणनीति का समर्थन किया। इस रणनीति को मंगलवार को लांच किया जाएगा।

सिमेलेला ने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी देशों में 15 से कम उम्र वाली 90% लड़कियों का टीकाकरण किया जाए। साथ 70% प्रतिशत महिलाओं की पहचान की जाए और उनका इलाज किया जाए। इससे 90% महिलाओं में कैंसर का इलाज किया जा सकता है।

जल्द निदान के लिए बन रहा इंस्टेंट टेस्ट

उन्होंने कहा कि कोविड -19 महामारी के दौरान विकसित कुछ प्रयोगशालाएं और अन्य उपकरण सर्वाइकल कैंसर की जांच के लिए उपयोगी होंगे। इससे नए परीक्षणों के परिणाम और उपचार में तेजी आनी चाहिए।

सर्वाइकल कैंसर के जल्‍द निदान के लिए इंस्‍टेंट टेस्‍ट की योजना है। चित्र : शटरस्‍टॉक
सर्वाइकल कैंसर के जल्‍द निदान के लिए इंस्‍टेंट टेस्‍ट की योजना है। चित्र : शटरस्‍टॉक

उन्होंने कहा कि इस तकनीक से हम एक निदान 20 मिनट में कर सकते हैं। इससे महिला का तुरंत इलाज किया जा सकता है। जिससे एक दिन में एक बार दौरा करना संभव हो सकता है और इस कैंसर-पूर्व घाव को तुरंत ठीक किया जा सकता है। इससे एक दिन में एक बार दौरा करना और इस प्री-कैंसर घाव से तुरंत ठीक होना संभव है।

उन्होंने कहा कि अक्सर सर्वाइकल कैंसर के आसपास एक धब्बा या निशान होता है। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि जब यह दिखाई देने लगता है। तो आपको बदबूदार डिस्चार्ज होने लगता है। आप अंदर से सड़ने लगते हैं। यह एक दर्दनाक कैंसर है जिसके बारे में वे बोलना भी नहीं चाहते हैं।

यह भी पढ़ें – एक्‍सपर्ट बता रहीं हैं क्‍यों आपकी सेहत के लिए अच्‍छा नहीं है रैंडम या कैजुअल सेक्‍स

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।