वैलनेस
स्टोर

डियर गर्ल्स, डॉग्स आपके बेस्टी हो सकते हैं, पार्टनर नहीं! यहां हैं बेस्टिलिटी के स्वास्थ्य जोखिम

Published on:26 August 2021, 13:12pm IST
प्यार स्नेह के साथ-साथ संवेदनशीलता की भी मांग करता है। खासतौर से तब जब ये आपके और आपके बेस्टी की सेहत से जुड़ा मसला हो।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 113 Likes
international dogs day
आज इंटरनेशनल डॉग्स डे के अवसर पर आपको जानना चाहिए क्या हो सकते हैं कुत्तों के साथ यौन संबंध बनाने के जोखिम। चित्र : शटरस्टॉक

आधुनिक जिंदगी की भागदौड़ ने मनुष्य को अकेला कर दिया है। अक्सर जब आप काम से लौटती हैं, तो आपका दुःख-सुख बांटने वाला कोई नहीं होता है। ऐसे में पैट डॉग आपके लिए एक बेहतर साथी साबित होते हैं, मगर इनका अनुचित फायदा उठाना आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। आज इंटरनेशनल डॉग्स डे के अवसर पर आपको जानना चाहिए क्या हो सकते हैं कुत्तों के साथ यौन संबंध बनाने के जोखिम।

इंटरनेशनल डॉग्स डे (International Dogs Day)

डॉग्स! यह सुनकर आपके चेहरे पर एक मुस्कान ज़रूर आ जाती होगी। अगर मुस्कान न सही तो दया की भावना ज़रूर आती होगी, क्योंकि ये होते ही इतने प्यारे हैं। अगर आपके घर में भी एक पैट डॉग है, तो आप समझ सकती हैं कि ये किसी फैमिली मेंबर से कम नहीं होते! फिर चाहे आपकी देखभाल करना हो या किसी ज़िम्मेदार व्यक्ति की तरह घर का ख्याल रखना।

वाकई डॉग्स हमारे बेस्ट फ्रेंड हो सकते हैं और यह अहसास सिर्फ वही लोग समझ सकते हैं, जिनके पास एक प्यारा सा पालतू कुत्ता हो। आज इंटरनेशनल डॉग्स डे (International Dogs Day) है! और यह हर डॉग को सेलिब्रेट करने का दिन है, फिर चाहे वे किसी भी ब्रीड के हों। इस दिन को अमेरिका में 2004 में एक पैट लाइफ स्टाइल एक्सपर्ट कोलीन पेज द्वारा इंटरनेशनल डॉग्स डे के रूप में स्थापित किया गया था।

डॉग्स आपके प्यारे हो सकते हैं, पार्टनर नहीं!

इंसान और जानवर के बीच अगर कोई सबसे नज़दीक है, तो वे डॉग्स हैं! यह दिवस डॉग्स (Dogs Day) को अपनाने या अडॉप्ट करने, उनकी देखभाल करने और उनके प्रति होने वाले जुर्म के खिलाफ आवाज़ उठाने के महत्व को दर्शाता है।

International Dogs Day
इंटरनेशनल डॉग्स डे (International Dogs Day) डॉग्स आपके प्यारे हो सकते हैं, पार्टनर नहीं! चित्र-शटरस्टॉक

डॉग्स हमसे भोजन, पानी और प्यार की कामना करते हैं और बदले में वो हमें इमोशनल सपोर्ट और प्यार देते हैं। मगर, प्यार की एक सीमा होती है और डॉग्स आखिर हैं तो जानवर ही! कहने का मतलब है कि इन बेज़ुबान प्राणियों में इंसानों की तरह समझ नहीं होती। और इसी न समझी के चलते इनका फायदा उठाना या इनसे प्यार से बढ़कर यौन सुख की कामना करना आपकी बहुत बड़ी भूल हो सकती है। इतना ही नहीं यह जुर्म है और आपके स्वास्थ्य पर भी यह भारी पड़ सकता है!

आइए समझते हैं क्या है ज़ोफिलिया (Zoophilia) या बेस्टिलिटी (Bestiality)?

ज़ोफिलिया, एक अमानवीय अथवा जानवर के प्रति मानव का यौन आकर्षण है, जिसमें जानवर के बारे में यौन कल्पनाओं का अनुभव या उसके साथ वास्तविक यौन संपर्क की खोज शामिल हो सकती है। भारत समेत कई देशों में इंसानों और जानवरों के बीच सेक्स अवैध है और एक गंभीर जुर्म है।

आधुनिक समाज में ज़ोफिलिया को एक वर्जित विषय माना जाता है, फिर भी रिपोर्ट की गई प्रसार दर पुरुषों के लिए 8.3% से 4.9% है। वहीं महिलाओं में इसकी दर 3.6% से 1.9% तक है। हालांकि, मनो रोगियों में ज़ोफिलिया की व्यापकता दर बहुत अधिक (55%) है।

international dogs day
इनसे प्यार से बढ़कर यौन सुख की कामना करना आपकी बहुत बड़ी भूल हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

जानवरों के साथ सेक्सुअल कॉनटैक्ट आपके स्वास्थ्य पर कहर बरपा सकता है

ज़ूनोटिक रोग (Zoonotic Diseases) या ज़ूनोज़ जानवरों के रोग हैं, जो जानवरों से मनुष्यों में फैल सकते हैं। ऐसी कम-से-कम 200 से ज्यादा बीमारियां हैं जो जानवरों से इंसानों में सेक्सुअल कॉनटैक्ट द्वारा फैल सकती हैं

1 लेप्टोस्पायरोसिस (Leptospirosis):

कुत्तों, मवेशियों, सूअरों, घोड़ों और भेड़ों के यौन अंगों के संपर्क में आने से यह जीवाणु रोग मनुष्यों में फैल सकता है। लेप्टोस्पायरोसिस मेनिन्जाइटिस (meningitis) का कारण बन सकता है, जो लगभग 10% मामलों में मृत्यु का कारण बनता है।

2 इचिनोकोकोसिस (Echinococcosis):

कुत्तों, बिल्लियों और भेड़ों के मल से पैरासाइट वर्म्स इस बीमारी का कारण बन सकते हैं। वर्म्स फेफड़े, यकृत, मस्तिष्क, प्लीहा, हृदय और गुर्दे में अल्सर का कारण बनते हैं। अगर इलाज न किया जाए तो यह बीमारी जानलेवा हो सकती है।

International dogs day
जानवरों के साथ सेक्सुअल कॉनटैक्ट आपके स्वास्थ्य पर कहर बरपा सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

3 रेबीज (Rabies):

ज़ूनोज के सबसे गंभीर रोगों में से एक, रेबीज बिल्लियों, कुत्तों और घोड़ों की लार से फैलता है। यह एक वायरल संक्रमण है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है। एक्सपोजर के तुरंत बाद इलाज न करने पर यह ज्यादातर मामलों में घातक होता है।

इतना ही नहीं किसी डॉग से सेक्सुअल कॉन्टैक्ट मूत्र संबंधी रोगों के लिए भी एक जोखिम कारक है। जानवरों के साथ यौन संबंध पेनाइल कैंसर का जोखिम पैदा कर सकता है और कई यौन रोगों से जुड़ा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : जी हां, आपके खानपान का भी होता है आपके योनि स्वास्थ्य पर असर, यहां हैं 7 वेजाइना फ्रेंडली फूड

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।