फिर चर्चा में है डेल्टा और ओमिक्रोन से बना डेल्टाक्रोन वैरिएंट, जानिए क्या हैं इसके लक्षण?

कुछ देशों में डेल्टाक्रोन के मामले बढ़ रहे हैं। ये कोविड-19 के डेल्टा और ओमिक्रोन वैरिएंट का सब वैरिएंट है, जिसने स्वास्थ्य जोखिम बढ़ा दिए हैं।
भारत में भी आ गया कोरोना का नया सब वैरिएंट। चित्र : शटरस्टॉक
अक्षांश कुलश्रेष्ठ Published on: 23 March 2022, 18:28 pm IST
ऐप खोलें

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही थी कि अब एक बार फिर से कोरोना वायरस (Coronavirus)  का एक सब वैरिएंट चर्चा में है। हां हम डेल्टाक्रोन (Deltacron) की बात कर रहें हैं! बीते महीने इस वैरिएंट की काफी चर्चा रही थी, क्योंकि यह बाहर के देशों में काफी तेजी से अपने पैर पसार रहा था। अब भारत में भी इस नए कोरोना वायरस सब वैरिएंट के मामले मिल रहे हैं। भले ही भारत में अभी इसके मामले बहुत ज्यादा नहीं हैं। लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स बताती हैं कि यह भारत के लिए चिंता का विषय है। क्योंकि डेल्टाक्रोन भारत में तबाही मचाने वाले डेल्टा वैरिएंट और तेजी से फैलने वाले ओमिक्रोन वैरीएंट के मेल से बना है।

इस वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा भी चिंता जाहिर की जा रही है। यूरोप और दक्षिण कोरिया सहित एशियाई देशों ने तेजी से डेल्टाक्रोन की बड़े पैमाने पर सूचना दी। डेल्टाक्रोन एक हाइब्रिड वैरिएंट है, जिसके कारण दक्षिण कोरिया में अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु दर में बढ़ोतरी देखी जा रही है। 

जानिए क्या है डेल्टाक्रोन ?

डेल्टाक्रोन कोरोना वायरस संक्रमण के 2 खतरनाक वैरिएंट डेल्टा (Delta) और ओमिक्रोन (Omicron) के मेल से बना है। फरवरी में इस पर तब चर्चा शुरू हुई थी, जब यूके के स्वास्थ्य अधिकारियों ने एक मरीज में इस हाइब्रिड वैरिएंट की पुष्टि की थी। अधिकारियों द्वारा कहा गया था कि एक ही मरीज में दोनों वैरिएंट पाए गए हैं। शुरुआत में इसको प्रयोगशाला त्रुटि माना गया था। हालांकि, यह सच निकला और अब यह भारत में भी दस्तक दे चुका है।

डेल्टा और ओमिक्रोन से बना है डेल्टाक्रोन। चित्र : शटरस्टॉक

जानिए डेल्टाक्रोन सामान्य लक्षण ? 

जिन देशों में इस वैरिएंट के मरीज ज्यादा संख्या में निकल कर सामने आ रहे हैं, वहां इसके लक्षण ओमिक्रोन और डेल्टा दोनों के देखे जा रखें है। इनके कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  1. सिरदर्द
  2. तेज बुखार और
  3. तेज पसीना या ठंड लगना
  4. गले में खराश लगातार खांसी
  5. थकान या ऊर्जा की हानि
  6. स्वाद और गंध की हानि।

भारत में क्या है डेल्टाक्रोन की स्थिति?

भारत में यह वैरिएंट इस महीने की शुरुआत में सामने आया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार  COVID जीनोमिक्स कंसोर्टियम (INSACOG) और GSAID का डाटा बताता है कि इसके 568 मामले जांच के दायरे में हैं। जिसमें तेलंगाना के एक निजी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, कर्नाटक 221 के साथ हॉटस्पॉट बना हुआ है। इसके बाद तमिलनाडु में 90, महाराष्ट्र में 66, गुजरात में 33, पश्चिम बंगाल में 32, तेलंगाना में 25 और नई दिल्ली में 20 मामले हैं। वहीं  डेल्टाक्रोन के बारे में WHO का कहना है कि ओमिक्रोन और डेल्टा दोनों के तीव्र प्रसार के साथ, यह अपेक्षित था।

क्या डेल्टाक्रोन ला सकता है  कोविड-19 की चौथी लहर? 

2022 जून के महीने से कोरोना वायरस संक्रमण की चौथी लहर के आने की भी संभावनाएं जताई जा रही हैं। बीती फरवरी में आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों द्वारा एक शोध का हवाला देते हुए इस बात की संभावनाएं जताई गईं थीं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह शोध आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया था, जो एक स्टैटिकल मॉडल का इस्तेमाल करके किया गया। इस शोध के नतीजे बताते हैं कि कोरोना वायरस की चौथी लहर जून में आ सकती है और लगभग 4 महीने तक देश में अपने पैर जमा सकती है।

जून में आ सकती है कोरोना की अगली लहर। चित्र: शटरस्टॉक

हालांकि भारतीय स्वास्थ्य विभाग की तरफ से कोरोना वायरस संक्रमण की चौथी लहर पर कोई भी अधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। कई वैज्ञानिकों का कहना है कि भारत में चौथी लहर कोरोना वायरस संक्रमण के वैरिएंट और देश में टीकाकरण की स्थिति पर निर्भर करती है। विश्व स्वास्थ संगठन द्वारा इस बात पर पहले ही इशारा किया गया था कि हो सकता है ओमिक्रोन इस महामारी का आखिरी वैरिएंट न हो।

यह भी पढ़े : इस साल 40 लाख से ज्यादा हो सकते हैं टीबी के मरीज, कोविड-19 के कारण बढ़ गया है जोखिम

लेखक के बारे में
अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story