वैलनेस
स्टोर

डाबर च्यवनप्राश में है आयुर्वेद का दम, कोविड-19 संक्रमण को करे कम

Published on:4 February 2021, 18:05pm IST
90 दिन तक चली इस क्लीनिकल स्टडी में पाया गया कि डाबर च्‍यवनप्राश खाने वाले लोगों की इम्‍युनिटी ज्‍यादा बेहतर होती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 67 Likes
डाबर च्‍यवनप्राश

ये तो आप सब जानते ही हैं की पिछले कुछ समय से कोविड-19 ने सबकी नाक में दम कर रखा है। दुनिया भर में इस महामारी से लोगों को बचाने के लिए नए नए तरीके और वैक्सीन पर काम चल रहा है। ऐसे में डाबर च्यवनप्राश ने भी लोगों की इम्युनिटी बढ़ाने के साथ साथ उन्हें कोविड-19 से बचाने के लिए जयपुर , मुंबई , पुणे और वडोदरा के 5 केंद्रों में एथिक्स कमेटी द्वारा अप्रूव्ड एक क्लीनिकल स्टडी की, जो आयुर्वेदिक और मॉडर्न मेडिकल डॉक्टर्स की देखरेख में हुई ।

कैसे हुआ अध्‍ययन 

90 दिन तक चली इस क्लीनिकल स्टडी में 721 लोगों ने भाग लिया, जिन्हें दो समूहों में बांटा गया। एक समूह को डाबर च्यवनप्राश दिया गया और दूसरे को नहीं। जांच में पाया गया कि च्यवनप्राश का सेवन न करने वाले ग्रुप में कोरोना का संक्रमण ज्यादा था।

वहीँ दूसरी तरफ इस जांच में डाबर च्यवनप्राश खाने वालों में कोविड-19 के संक्रमण के साथ साथ उसकी गंभीरता का खतरा भी कम पाया गया। साथ ही ये भी पता चला कि उनकी क्वालिटी ऑफ़ लाइफ भी दुगुनी हुई है।

तो क्‍या है परिणाम 

इस क्लीनिकल स्टडी ने साबित कर दिया की कोविड-19 को हराना है, तो इम्युनिटी बढ़ाने के लिए डाबर का आयुर्वेदिक च्यवनप्राश ही खाना है।

(स्‍पॉन्‍सर्ड फीचर)

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।