वैलनेस
स्टोर

डेल्टा वेरिएंट से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाना है जरूरी, भले ही आपको कोविड हो चुका हो

Updated on: 14 July 2021, 19:09pm IST
संक्रमण के बाद टीकाकरण अकेले संक्रमण की तुलना में लगभग 100 गुना अधिक एंटीबॉडी का उत्पादन करता है।
भाषा
  • 98 Likes
संक्रमित होने के बाद भी आपके लिए वैक्सीन लगवाना जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कैरोलिना के अध्ययन विशेषज्ञ जेनिफर टी. ग्रायर ने कोविड-19 के नए-नए वेरिएंट के सामने आने और वेक्सीनेशन के प्रति लापरवाही बरतने पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने सुझाव दिया है कि केवल टीकाकरण ही आपको कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट से बचा सकता है। यही नहीं, उन्होंने संक्रमण के बाद बनी एंटीबॉडीज से ज्यादा सुरक्षित कोविड वैक्सीन को माना है।

ग्रायर कहते हैं, “श्वसन तंत्र में होने वाले संक्रमण पर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का अध्ययन करने वाले व्यक्ति के रूप में, मुझे कोरोनावायरस के उभरते वायरस की खबरों से चिंता होती है। मैं इस बात को लेकर फिक्रमंद हूं कि क्या टीकाकरण या पिछला संक्रमण सार्स-कोव-2 के विभिन्न स्वरूपों के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करेगा! विशेष रूप से नया, अत्यधिक पारगम्य डेल्टा संस्करण, जो तेजी से कम से कम 70 देशों में फैल गया है।

क्या है चिंता का बिंदु

एक व्यक्ति अपने शरीर में संक्रमण से लड़ने की प्रतिरक्षा प्रणाली दो तरह से विकसित कर सकता है। पहला वायरस से संक्रमित होने के बाद और दूसरा टीका लगवाने के बाद। हालांकि, प्रतिरक्षा सुरक्षा हमेशा समान नहीं होती है। सार्स-कोव-2 के लिए वैक्सीन प्रतिरक्षा और प्राकृतिक प्रतिरक्षा ताकत या सुरक्षा के समय की अवधि के संदर्भ में भिन्न हो सकती है।

इसके अतिरिक्त,

सभी को संक्रमण से समान स्तर की प्रतिरक्षा नहीं मिलेगी। जबकि टीकों के प्रति प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत सुसंगत है।

नए रूपों से दो-चार होने पर टीकाकरण और संक्रमण के बीच प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में अंतर और भी अधिक प्रतीत होता है। जुलाई की शुरुआत में, दो नए अध्ययन प्रकाशित किए गए। जो दिखाते हैं कि कोविड-19 टीके, वायरस के पुराने उपभेदों की तुलना में थोड़े कम प्रभावी हैं। फिर भी नए वेरिएंट के खिलाफ उत्कृष्ट प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रदान करते हैं।

कोविड के डेल्टा और डेल्टा प्लस वेरिएंट, बन रहे हैं चिंता का विषय. चित्र : शटरस्टॉक

कैसे बदलती है एंटीबॉडी प्रक्रिया

शोधकर्ताओं ने देखा कि एंटीबॉडी कोरोनोवायरस के नए रूपों से कैसे लड़ती हैं और पाया कि जो लोग पहले कोरोनावायरस से संक्रमित थे, वे नए उपभेदों के प्रति अतिसंवेदनशील हो सकते हैं। जबकि जिन लोगों को टीका लगाया गया था, उनके सुरक्षित होने की संभावना अधिक थी।

कोविड-19 टीके कोरोनावायरस के पुराने उपभेदों और उभरते उपभेदों, विशेष रूप से नए डेल्टा संस्करण दोनों के खिलाफ प्रतिरक्षा के लिए एक सुरक्षित और विश्वसनीय मार्ग प्रदान करते हैं।

संक्रमण के बाद प्रतिरक्षा अप्रत्याशित है

प्रतिरक्षा प्रणाली की संक्रमण को याद रखने की क्षमता से प्रतिरक्षा आती है। किसी भी तरह के वायरस का सामना होने पर इस प्रतिरक्षा स्मृति का उपयोग करके, शरीर को पता चल जाएगा कि संक्रमण से कैसे लड़ना है।

एंटीबॉडी प्रोटीन होते हैं जो वायरस से जुड़ सकते हैं और संक्रमण को रोक सकते हैं। टी कोशिकाएं पहले से ही एंटीबॉडी से बंधी संक्रमित कोशिकाओं और वायरस को हटाने का निर्देश देती हैं। ये दोनों कुछ प्रमुख कारक हैं, जो इम्युनिटी में योगदान करते हैं।

9 फीसदी लोगों में संक्रमण के बाद नहीं बन पाती एंटीबॉडी

सार्स-कोव-2 संक्रमण के बाद, एक व्यक्ति की एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिक्रियाएं पुन: संक्रमण से सुरक्षा प्रदान कर सकती हैं। मोटे तौर पर 84% से 91% लोग जिन्होंने कोरोनावायरस के मूल उपभेदों के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित की थी, उनके छह महीने तक फिर से संक्रमित होने की संभावना नहीं थी, यहां तक कि हल्के संक्रमण के बाद भी।

कोरोनावायरस से संक्रमित होने पर इम्युनिटी हमारी मदद करती है । चित्र: शटरस्‍टॉक

जिन लोगों में संक्रमण के दौरान कोई लक्षण नहीं थे, उनमें भी प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने की संभावना होती है, हालांकि वे बीमार महसूस करने वालों की तुलना में कम एंटीबॉडी बनाते हैं। तो कुछ लोगों के लिए, प्राकृतिक प्रतिरक्षा मजबूत और लंबे समय तक चलने वाली हो सकती है।

एक बड़ी समस्या यह है कि सार्स-कोव-2 संक्रमण के बाद सभी में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित नहीं होगी। 9% संक्रमित लोगों में पता लगाने योग्य एंटीबॉडी नहीं होते हैं, और 7% तक में टी कोशिकाएं नहीं होती हैं जो संक्रमण के 30 दिन बाद वायरस को पहचानती हैं।

5 फीसदी लोगों की प्रतिरक्षा बस कुछ महीने चलती है

जो लोग प्रतिरक्षा विकसित करते हैं, उनके लिए सुरक्षा की ताकत और अवधि बहुत भिन्न हो सकती है। कुछ महीनों के भीतर 5% तक लोग अपनी प्रतिरक्षा सुरक्षा खो सकते हैं। एक मजबूत प्रतिरक्षा रक्षा के बिना, ये लोग कोरोनावायरस द्वारा पुन: संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं।

कुछ को अपने पहले संक्रमण के एक महीने बाद ही दूसरी बार कोविड-19 के लक्षण पैदा हुए हैं। हालांकि यह शायद ही कभी होता है, कुछ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया या फिर से संक्रमण से उनकी मृत्यु हो गई।

एक बढ़ती हुई समस्या यह है कि जो लोग पहले महामारी में मौजूद उपभेदों से संक्रमित थे, वे डेल्टा संस्करण से पुन: संक्रमण के लिए अधिक संवेदनशील हो सकते हैं।

डेल्टा के सामने कमजोर पड़ सकती हैं एंटीबॉडी

एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि संक्रमण के 12 महीने बाद, 88% लोगों में अभी भी एंटीबॉडी थे, जो मूल कोरोनावायरस संस्करण के साथ संवर्धित कोशिकाओं के संक्रमण को रोक सकते थे। लेकिन 50% से कम में एंटीबॉडी थे, जो डेल्टा संस्करण को अवरुद्ध कर सकते थे।

इन सबसे ऊपर, एक व्यक्ति जो संक्रमित है वह बीमार महसूस किए बिना भी कोरोनावायरस को प्रसारित करने में सक्षम हो सकता है। इस मामले में नए संस्करण विशेष रूप से चिंता का कारण हैं, क्योंकि वे मूल उपभेदों की तुलना में अधिक आसानी से प्रसारित होते हैं।

टीकाकरण से विश्वसनीय सुरक्षा मिलती है

कोविड-19 टीके एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिक्रिया दोनों उत्पन्न करते हैं – और ये प्रतिक्रियाएं प्राकृतिक संक्रमण के बाद प्रतिरक्षा की तुलना में बहुत मजबूत और अधिक सुसंगत हैं। एक अध्ययन में पाया गया कि मॉडर्न वैक्सीन की अपनी पहली खुराक प्राप्त करने के छह महीने बाद, परीक्षण किए गए 100% लोगों में सार्स-कोव-2 के खिलाफ एंटीबॉडी थे।

वैक्सीन कोरोना से आपका बचाव करने की ज्यादा गारंटी देती है। चित्र: शटरस्टॉक

यह अब तक प्रकाशित अध्ययनों में बताई गई सबसे लंबी अवधि है। फाइजर और मॉडर्न टीकों को देखते हुए एक अध्ययन में, संक्रमण से उबरने वालों की तुलना में टीकाकरण वाले लोगों में एंटीबॉडी का स्तर भी बहुत अधिक था।

इजरायली अध्ययन है महत्वपूर्ण

इससे भी बेहतर, इज़राइल में एक अध्ययन से पता चला है कि फाइजर वैक्सीन ने दोनों खुराक के बाद 90% संक्रमण को रोक दिया – यह वहां मौजूद नए वेरिएंट पर भी प्रभावी थी। और संक्रमण में कमी का मतलब है कि लोगों को अपने आसपास के लोगों को वायरस संचारित करने की संभावना कम है।

जो लोग पहले ही कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं, उनके लिए अभी भी टीका लगवाने का एक बड़ा फायदा है। मूल कोविड-19 वायरस के साथ एक अध्ययन से पता चला है कि संक्रमण के बाद टीकाकरण अकेले संक्रमण की तुलना में लगभग 100 गुना अधिक एंटीबॉडी का उत्पादन करता है, और संक्रमण के बाद टीका लगाए गए 100% लोगों में डेल्टा संस्करण के खिलाफ सुरक्षात्मक एंटीबॉडी थे।

कोविड-19 के टीके भले एकदम सटीक नहीं हैं, लेकिन वे मजबूत एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिक्रियाओं का उत्पादन करते हैं जो प्राकृतिक प्रतिरक्षा की तुलना में सुरक्षा का एक सुरक्षित और अधिक विश्वसनीय साधन प्रदान करते हैं – विशेष रूप से नए वेरिएंट के खिलाफ।

यह भी पढ़ें – कोरोना वायरस की दुनिया में जन्मा एक नया वेरिएंट, नाम रखा गया है ‘कप्पा’