कोरोनावायरस के सक्रिय मामले 19 हजार पार, बचने के लिए फिर से याद करें ये जरूरी नियम

Updated on: 2 May 2022, 16:56 pm IST

जानकारी है बचाव है और बचाव उपचार से हमेशा बेहतर होता है। कोविड-19 के मामले जब तेजी से बढ़ने लगे हैं, तब यह जरूरी है कि आप कोरोनावायरस से बचने के पुराने तरीकों को फिर से फॉलो करना शुरू कर दें।

corona se bachne ke liye mask lagaye
मुंह व नाक को ऊचित मास्क लगाकर कवर करें । चित्र: शटरस्टॉक

कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामले देश भर में थमने का नाम नहीं ले रही है। बीते 24 घंटे में कुल 3157 कोरोना के नए मामले दर्ज किए गए हैं। नए मामलों के साथ-साथ मृत्यु के आंकड़े भी तेजी से बढ़ रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आकड़ों के अनुसार बीते चौबीस घंटे में 26 लोगों की जान जा चुकी है। हालांकि मंत्रालय द्वारा जानकारी दी गई है कि केरल राज्य की तरफ से 21 मौत के मामले बीते चौबीस घंटे से पहले के हैं।

आकड़ों के मुताबिक देश भर में सक्रिय मामलों की संख्या 19500 हो गई है। इस अंतराल में 2473 मरीज ठीक हुए हैं। राज्यवार कोरोना संक्रमण के मामलों पर नजर डालें, तो सर्वाधिक 5997 सक्रिय मामले राजधानी दिल्ली में मिले हैं। केरल में सक्रिय मामलों की संख्या 2830, हरियाणा में 2496, कर्नाटक में 1780, उत्तर प्रदेश में 1587 और महाराष्ट्र में 995 पहुंच गई है।

क्या हैं दिल्ली के हालात

अकेले दिल्ली की बात करें, तो रविवार को दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी कोरोना संक्रमण संबंधित बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में कुल 1485 नए मामले सामने आए हैं। हालांकि अभी तक किसी के जान जाने की सूचना नहीं मिली है। इस बीच राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण की पॉजिटिविटी रेट 4.89 फीसदी रही और 1204 मरीज ठीक भी हुए हैं।

अप्रैल में बढ़ी है संक्रमण दर, पर कम हुए मृत्यु के मामले

तेजी से बढ़ रहे मामलों से कोरोनावायरस की चौथी लहर (Coronavirus 4th wave) की आशंका तेज हो गई है। लेकिन राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के आकड़ों का विश्लेषण करें, तो यह रफ्तार कोविड-19 की तीसरी लहर जैसी ही है। दिल्ली हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, मार्च महीने में कोरोना संक्रमण से करीब 29 लोगों की जान गई थी। महीने के अंत तक आए सक्रिय मामलों की संख्या करीब 483 और पॉजिटिविटी रेट 0.57 फीसदी थी।

वहीं अप्रैल महीने में संक्रमण की दर तेजी से बढ़ी। राज्य में कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी रेट में तेजी से उतार-चढ़ाव देखा गया है। हालांकि शुरुआत में इसमें लगातार बढ़त देखी गई। पर महीने के आखिरी दिन 4.89 फीसदी तक पॉजिटीविटी रेट बनी रही। महीने के अंत में सक्रिय मामलों की संख्या 5997 तक पहुंच गई। जबकि मार्च की तुलना में अप्रैल में कोरोनावायरस से होने वाली मृत्यु दर में कमी आई। इस महीने कोविड-19 के कारण 22 लोगों की जान गई।

यह भी पढ़ें :- आपको तनाव मुक्‍त कर खुशी का अहसास देता है पहली बारिश में नहाना, जानिए इसके 6 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

संक्रामक ज्यादा और घातक कम है कोरोनावायरस का मौजूदा वैरिएंट

लोगों के बीच तेजी से फैल रहा कोविड-19 का ओमिक्रॉन वैरिएंट व उसके सबलीनेज BA.1, BA.1.1, BA.2 ज्यादा संक्रामक बताए जा रहे हैं। जबकि इस वायरस के ओरिजिनल और बाद के दो वैरिएंट अल्फा और डेल्टा काफी खतरनाक रहे। एक बातचीत के दौरान जाने-माने वैज्ञानिक डॉ अनुराग अग्रवाल ने कहा कि जिस वेरिएंट की संक्रमण दर तेज होती है, आमतौर पर वह लोगों को कम नुकसान पहुंचाता है। अब देखना यह है कि क्या वाकई मौजूदा वेरिएंट लोगों को कम नुकसान पहुंचाएगा।

वैसे दुनिया के अलग-अलग देशों में कोविड-19 के नए वेरिएंट XE, XD और कप्पा के मामले तेजी से मिल रहे हैं। लेकिन फिलहाल भारत में इससे संबंधित मामले न के बराबर है।

डरने की बजाए सतर्क रहना है जरूरी

देशभर में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण मामलों से लोगों की रोजमर्रा जिंदगी पर संकट के बादल फिर से मंडराने लगा है। साथ ही हाल ही में खुले बच्चों के स्कूल बंद होने का डर उनके माता-पिता को भी सताने लगा है। ऐसे में लोगों को डरने की बजाय अपने स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा सजग और सावधान होने की जरुरत है। कोराना संक्रमण से बचाव संबंधित गाइडलाइन का जरुर पालन करना चाहिए।

ये है कोरोना संक्रमण संबधित बचाव के लिए कुछ जरुरी गाइडलाइन

विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि ऐसे हालत में डरने के बजाए सतर्क रहना ज्यादा जरूरी होता है। आप को फिर से कोविड-19 की शुरुआत वाली एहतियात बरतने पर ध्यान देना होगा। फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्‍टीट्यूट, गुरुग्राम में पिडियाट्रिक पल्‍मोनोलॉजी की एडिशनल डायरेक्‍टर डॉ नीतू तलवार सुझाव देती हैं कि जिन लोगों ने अभी तक कोविड-19 संबंधित मौजूद वैक्सीन की दोनों डोज नहीं लगवाई है वह जरुर लगवा लें।

साथ ही यदि वह बुस्टर डोज या प्रिकाॅशन डोज लगवाने की अहर्ता पूरी करते हैं, तो उसे भी जल्द से जल्द लगवा लें। इसके आलावा जो बच्चे वैक्सीन लेने के योग्य हैं उन्हें भी नजदीकी वैक्सीनेशन सेंटर पर ले जाकर वैक्सीन लगवा लेनी चाहिए। इसके अलावा डॉ तलवार इन निर्देशों का सख्ती से पालन करने की हिदायत देती हैं-

यह भी पढ़ें :- 6 महिलाओं ने साझा किए बेस्ट मेंटल हेल्थ टिप्स, जो उन्हें स्वस्थ रखने में मदद करते हैं

1 सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखें

कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में आप जब भी घर से बाहर किसी काम से लोगों के बीच या भीड़-भाड़ वाली जगहों से गुजरें, तो हमेशा सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें। ऐसा कर आप संक्रमण के खतरे को कम कर सकती हैं।

2 हमेशा मुंह और नाक को मास्क से ढंकें

हमारे शरीर में कोविड-19 वायरस के प्रवेश करने के दो रास्ते मुंह और नाक हैं। हम इन दोनों रास्तों को मास्क लगाकर सुरक्षित कर आसानी से संक्रमण के खतरे को कम कर सकते हैं।

3 हाथों की स्वच्छता का ध्यान रखें

हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में बुनियादी जरुरतों को पूरा करने के लिए किसी न किसी चीज के संपर्क में आते रहते हैं। ऐसे में कई बार दरवाजे की कुंडी, दीवार व अन्य के संपर्क में आते हैं। हो सकता है हम जिन के संपर्क में आए वहां कोरोना का वायरस मौजूद हो और आपके टच करने पर वह आप तक आसानी से पहुंच जाए। इस संभावित खतरे को कम करने के लिए जरुरी हो जाता है कि आप बार-बार हाथ धोएं। ऐसा कर संक्रमण के खतरे में कमी लाई जा सकती है।

4 इम्युनिटी मजबूत रखें

जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है, कोविड-19 उनको बुरी तरह प्रभावित करता है। ऐसे में जरुरी है कि वह खाने में उन फूड्स को शामिल करे जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करते हों। इनमें प्रोटीन और विटामिन सी सबसे जरूरी पोषक तत्व हैं। पर इनके अलावा अन्य खनिजों और पोषक तत्वों का भी ध्यान रखें।

5 घर में ही व्यायाम करें

कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए हम आपको जिम जाने की तो सलाह नहीं देंगे। पर यह जरूरी है कि आप नियमित व्यायाम करें। इसके लिए आप योग और व्यायाम को घर पर ही कर सकती हैं। आप चाहें तो ऑनलाइन क्लास का भी सहारा ले सकती हैं।

यह भी पढ़ें :- Covid 4th Wave : कोरोना संक्रमण से एक की मौत, चौथी लहर की ऱफ्तार हुई तेज

मिथिलेश कुमार पटेल मिथिलेश कुमार पटेल

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता में डिप्लोमा कर चुके मिथिलेश कुमार सेहत, विज्ञान और तकनीक पर लिखने का अभ्यास कर रहे हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें