World chocolate day : आपके ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल कर सकती है चॉकलेट, जानिए इसके और भी फायदे

लो फील करने पर या मूड खराब होने पर आप डार्क चॉकलेट जरूर खाती होंगी, पर क्या आपको पता है कि ब्लड प्रेशर लो होने पर भी चॉकलेट खाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। वर्ल्ड चॉकलेट डे पर आइए आज चॉकलेट के इन्हीं फायदों के बारे में जानते हैं।
चॉकलेट खाने के स्वास्थ्य लाभ
चॉकलेट खाने के स्वास्थ्य लाभ। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 20 Oct 2023, 09:02 am IST
  • 134

चॉकलेट सिर्फ चॉकलेट नहीं, ये किसी के लिए एक सरप्राइज गिफ्ट, हैप्पीनेस फूड, पीएमएस हैक और मूड बूस्टर भी हो सकती है। जब कभी मूड ऑफ होता है, तो ज्यादातर लोग चॉकलेट खाने की सलाह देते हैं। प्यार जताने और निभाने के लिए चॉकलेट केक से भी ज्यादा पसंद की जाती हैं। पर क्या आप जानती हैं कि चॉकलेट आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद है। जी हां, यह आपके ब्लड प्रेशर को संतुलित करने में मददगार हो सकती है। वर्ल्ड चॉकलेट डे (World chocolate day) पर जानते हैं चॉकलेट के ऐसे ही कुछ और लाभ (Chocolate benefits)।

डीपीयू प्राइवेट सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, पिंपरी, पुणे में कंसल्टेंट फिजिशियन इंटरनल मेडिसिन डॉ. प्रसाद कुवालेकर ने हेल्थ शॉट्स को चॉकलेट और ब्लड प्रेशर के कनैक्शन के बारे में विस्तार से समझाया। उनके लाभों क बारे में जानने से पहले चलिए चॉकलेट (Chocolate benefits) के बारे में कुछ और तथ्य जान लेते हैं ।

वर्ल्ड चॉकलेट डे (World chocolate day)

7 जुलाई 1550 में पहली बार यूरोप में चॉकलेट को इंट्रोड्यूस किया गया था। इस दिन को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल 7 जुलाई को वर्ल्ड चॉकलेट डे के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मुख्य मकसद चॉकलेट की गुणवत्ता को समर्पित है। इस दिन को आप तरह-तरह के चॉकलेट को खा कर या घर पर इन्हें तैयार कर के सेलिब्रेट कर सकती हैं।

benefits of chocolate
चॉकलेट डे को बनाएं चॉकलेट की खास रेसिपी के साथ और स्पेशल चित्र: शटरस्टॉक

आप लोगों को चॉकलेट के हेल्दी विकल्पों के बारे में जागरूक कर सकती हैं। आजकल बाजार में मिलने वाले सभी चॉकलेट में भरपूर मात्रा में शुगर मिलाया जाता है। इसलिए हेल्दी कोको पाउडर युक्त चॉकलेट का सेवन करना आप सभी के लिए अधिक सुरक्षित है।

इन 4 कारणों से आपकी सेहत के लिए फायदेमंद साबित होती है डार्क चॉकलेट

1 मूड बूस्ट करने में मददगार है चॉकलेट

डॉक्टर प्रसाद कहते हैं कि “यह सर्वविदित तथ्य है कि कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन से सेरोटोनिन का स्तर बढ़ जाता है। हालांकि, बहुत से लोग स्वास्थ्य कारणों से इस उपचार से दूर रहते हैं, लेकिन यह एक गलत धारणा है। जो लोग डार्क चॉकलेट का सेवन करते हैं उनमें अवसाद के लक्षण चॉकलेट नहीं खाने वाले लोगों की तुलना में कम दिखाई देता है।”

यह भी पढ़ें : अनियमित ब्लड सर्कुलेशन कम कर सकता है शरीर में ऑक्सीजन लेवल, बचाव के लिए इन 7 खाद्य पदार्थों को करें आहार में शामिल

2 सेरोटोनिन और एंडोर्फिन को बढ़ाती है डार्क चॉकलेट

“कोई भी चीज़ ज़रूरत से ज़्यादा अच्छी नहीं होती और यही बात चॉकलेट पर भी लागू होती है। थोड़ी मात्रा में डार्क चॉकलेट आपको तरोताज़ा रखने के साथ ही बेहतर महसूस करने में मदद कर सकता है। उच्च कोको सामग्री वाले डार्क चॉकलेट में सेरोटोनिन पाया जाता है। डार्क चॉकलेट हमारे सिस्टम में सेरोटोनिन स्तर को बढ़ाकर हमारे मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है।”

सेरोटोनिन एक प्रभावी एंटीडिप्रेसेंट है जो सभी आंतरिक तनाव से राहत प्रदान करती है। वहीं एंडोर्फिन बेहतर महसूस कराने वाला हार्मोन है। चॉकलेट के सेवन से हमारे मस्तिष्क में एंडोर्फिन का स्तर भी बढ़ जाता है, इस प्रकार यह मानव मस्तिष्क के लिए आरामदायक भोजन बन सकता है। “डार्क चॉकलेट इन हार्मोनों को अधिकतम सीमा तक उत्तेजित कर सकता है, क्योंकि डार्क चॉकलेट में मौजूद कोको एंडोर्फिन रिलीज को अधिकतम कर देते हैं।”

diabetes friendly hote hai dark chocolate.
डाइबिटीज फ्रेंडली है डार्क चॉक्लेट। चित्र शटरस्टॉक।

3 लो ब्लड प्रेशर में राहत देती है डार्क चॉकलेट

डॉ प्रसाद कहते हैं कि “70% कोको वाली डार्क चॉकलेट को समृद्ध एंटीऑक्सीडेंट, पॉलीफेनोल्स और फ्लेवोनोइड्स के साथ स्वास्थ्यप्रद माना जाता है। वे वासोडिलेशन का कारण बनते हैं जो ब्लड वेसल्स को आराम पहुंचाते हैं और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करते हैं। इस प्रकार योर ब्लड प्रेशर को संतुलित रहने में मदद करता है।”

“चॉकलेट और कोको में थियोब्रोमाइन शामिल होते हैं, जो ब्लड प्रेशर को संतुलित रखते हैं और आपके दिल के स्वास्थ्य की रक्षा करते हैं। कोको बीन्स में थियोब्रोमाइन की मात्रा अधिक होती है, इसलिए डार्क चॉकलेट में सफेद चॉकलेट की तुलना में अधिक थियोब्रोमाइन पाया जाता है।”

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

4 डायबिटीज में भी कारगर है चॉकलेट

डायबिटीज में डार्क चॉकलेट के सेवन को लेकर डॉक्टर की माने तो डार्क चॉकलेट फास्टिंग ग्लूकोज के स्तर को कम करने और इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में भी मदद करता है। पर मधुमेह के मरीजों को बाजार में उपलब्ध सामान्य चॉकलेट के सेवन से बचना चाहिए। साथ ही अपने डॉक्टर की सलाह पर ही पोर्शन तय करना चाहिए।

कौन सी चॉकलेट है सेहत के लिए ज्यादा बेहतर

ऐडेड शुगर युक्त और फ्लेवर्ड चॉकलेट का सेवन न करें। उचित परिणाम के लिए एंटीऑक्सीडेंट, पॉलीफेनॉल युक्त डार्क चॉकलेट खाना सेहत के लिए उचित रहेगा। 70% कोको युक्त डार्क चॉकलेट का चयन करें, इनका सेवन आपके लिए तमाम रूपों में फायदेमंद हो सकता है। यह ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने के साथ कोलेस्ट्रॉल लेवल को भी सामान्य रखता है और आपके लिए मूड बूस्टर की तरह काम करता है।

Zyaada chocolate khane se ho sakta hai juvenile diabetes
तो फिर देर किस बात की, अपने पसंद की चॉकलेट ऑर्डर करें और उसके प्यार में खो जाएं। सभी चित्र : शटरस्टॉक

चलते-चलते

चॉकलेट का सेवन आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। हालांकि, इस मीठे व्यंजन का आनंद लेने से पहले, ध्यान रखें कि सेल्फ कंट्रोल जरूरी है। रोजाना चॉकलेट खाने से हमारा दिल और दिमाग दोनों खुश और स्वस्थ रहेंगे। परंतु कोको युक्त डार्क चॉकलेट का चयन करें, न कि फ्लेवर्ड और ऐडेड शुगर युक्त चॉकलेट खाएं। चॉकलेट की मात्रा का भी ध्यान रखें।

यह भी पढ़ें पेडीक्योर के बाद भी पैर गंदे हो जाते हैं, तो जानिए पैरों की खूबसूरती लंबे समय तक बनाए रखने के टिप्स

  • 134
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख